क्या होता है कार्बन फुटप्रिंट? कार्बन फुटप्रिंट को कम करने के उपाय

0
54
reduce carbon foot print

कार्बन फुटप्रिंट का अर्थ किसी संस्था, व्यक्ति या उत्पाद द्वारा किया गया कुल कार्बन उत्सर्जन होता है। कार्बन उत्सर्जन की वजह से पृथ्वी का तापमान और प्रदूषण बढ़ता है। तापमान बढ़ने की वजह से पर्वतों की बर्फ पिघलने और समुद्र के स्तर के बढ़ने का खतरा रहता है। इस वजह से जीव जंतुओं का जीवन प्रभावित होता है। कार्बन फुटप्रिंट का नाम इकोलॉजिकल फुटप्रिंट से निकला है। यह इकोलॉजिकल फुटप्रिंट का ही एक अंश होता है। राष्ट्रीय जलवायु आकलन रिपोर्ट में सामने आए जलवायु परिवर्तन के खतरों को भांपते हुए प्रशासन पर्यावरण नीतियों को बेहतर बनाने का प्रयास जारी कर रहा है। हालांकि कोई भी व्यक्ति अपने व्यक्तिगत रूप से यदि कोशिश करें तो वह ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन कम करके फर्क ला सकते है। ऐसा करने के कई तरीके हैं, जिनसे आप उर्जा को बचा सकते हैं। जैसे अपने घर को इंसुलेट करना, सोलर पैनल लगाना और पेड़ लगाना आदि, यह सबसे सरल और आसान बदलाव हैं। जिन्हें कोई भी व्यक्ति आसानी से कर सकता है, यदि आवश्यकता है तो बस थोड़े से प्रयास और वित्तीय निवेश की।

सबसे पहले अपने कार्बन पदचिन्ह या कार्बन फुटप्रिंट की गणना करें

आपके कार्बन पदचिन्ह में ग्रीन हाउस गैस की मात्रा होती है, जिनमें कार्बन डाइऑक्साइड, मीथेन, नाइट्रस ऑक्साइड,फ्लोराइड युक्त अन्य गैसें शामिल होती हैं। जिन्हें आप जीवन जीते समय उत्पादित करते हैं। “डीप डिकार्बोनाइजेशन पाथवे प्रोजेक्ट” के अनुसार अनुमान लगाया गया है कि ग्लोबल तापमान को 2°C तक या उससे कम पर रोकने के लिए सन् 2050 तक पृथ्वी पर रहने वाले सभी मनुष्यों को सालाना तकरीबन 1.87 टन कार्बन फुटप्रिंट की आवश्यकता पड़ेगी। वर्तमान में औसतन प्रति अमेरिकी व्यक्ति की कार्बन फुटप्रिंट 18.3 टन है। यदि चीन से इसकी तुलना की जाए तो, चीन में प्रति व्यक्ति कार्बन का उत्सर्जन 8.2 टन है। वार्षिक उत्सर्जन सीमा 1.87 टन तक जाने के लिए हम सभी को एक लंबा रास्ता तय करना है। अपने कार्बन फुटप्रिंट की गणना करने के लिए आप carbonfootprint.com की मदद ले सकते हैं। यह आपको यह बताने में मदद करेगा कि आप कितनी कार्बन का उत्सर्जन करते हैं। EPA के कार्बन फुटप्रिंट केलकुलेटर की मदद से आप यह भी जान सकते हैं कि कुछ महत्वपूर्ण कदमों को उठाकर आप कितना कार्बन और धन बचा सकते हैं। यहां हम आपको कुछ आसान तरीके बताएंगे जिन्हें अपनाकर आप अपने कार्बन पदचिन्ह या कार्बन फुटप्रिंट को कम कर सकते हैं।

खाद्य श्रृंखला पर भोजन की आवश्यकता के लिए निर्भरता कम करें

  • इसका सीधा अर्थ है कि आपको अपने भोजन में ज्यादातर फल, सब्जी, अनाज और फलियां इन्हीं का उपयोग करना होगा। पशुओं से प्राप्त होने वाला खाद्य फिर वह चाहे उनके मांस के रूप में हो या दूध के रूप में 14.5 परसेंट मानव निर्मित ग्लोबल ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन के लिए जिम्मेदार होता है। मीथेन गैस, (जो कि कार्बन डाइऑक्साइड की तुलना में 25 गुना अधिक शक्तिशाली और वायुमंडल में 100 वर्षों से भी अधिक समय तक रह सकती है और उसे गर्म बना सकती है।) मुख्यतः भेड़, गाय और भैंस जैसे पशुओं के पेट से निकलती है। यदि आप हर दिन इस तरह का मांस अथवा इनके दूध का इस्तेमाल करते हैं, तो आप अपने कार्बन फुटप्रिंट को बढ़ाते हैं। परंतु यदि आप इनका प्रतिदिन होने वाला उपयोग छोड़ दें तो आप अपना 8 पाउंड तक का कार्बन फुटप्रिंट घटा सकते हैं, जो कि सालाना 2,920 पाउंड के बराबर होगा। आपको सिर्फ छोटा सा प्रयास करना है जैसे कि हर सोमवार आप मांसाहार का सेवन नहीं करेंगे। इस प्रकार के छोटे-छोटे प्रयास पर्यावरण में बहुत बड़ा बदलाव ला सकते हैं।
  • जहां तक हो सके खाद्य पदार्थों को थोक में खरीदें।
  • जहां तक हो सके खाने को बेकार होने से बचाएं। यदि आप चाहें तो खाना बनाने से पहले क्या खाना बनाना है इसकी योजना पहले ही बना लें और जो खाना ज्यादा बच जाए उसको बाद में पुनः उपयोग करने के लिए फ्रीज कर दें।
  • जहां तक संभव हो खाद्य पदार्थ से निकलने वाले छिलकों या अन्य बेकार हिस्से को खाद के रूप में बनाने की कोशिश करें। यदि आप न्यूयॉर्क जैसे शहर में रहते हैं तो वहां आपको “कंपोस्ट ड्रॉप-ऑफ साइट” आसानी से मिल सकती है।
  • जैविक और स्थानीय खाद्य पदार्थ चुनें, जो मौसम के अनुरूप हों। ट्रक, जहाज, रेल या विमान द्वारा दूर से भोजन का परिवहन इंधन के लिए जीवाश्म ईंधन का उपयोग करता है और खाद्य पदार्थों को खराब होने से बचाने के लिए उन्हें ठंडा रखना पड़ता है, जिसमें उपयोग होने वाली बिजली अथवा अन्य प्रक्रिया में कार्बन का उत्सर्जन होता है। जहां तक हो सके जैविक और स्थानीय मिलने वाले खाद्य पदार्थों को उपयोग में लाएं।
carbon foot print

खरीदारी की क्या भूमिका है कार्बन फुटप्रिंट कम करने में

  • घर से बाहर दुकान में जाते समय अपना रियूज़ेबल बैग ले जाना ना भूलें।
  • ऐसी वस्तुओं के प्रयोग से बचें, जिनको अधिक पैकिंग की आवश्यकता होती हो।
  • कम खरीदारी करें। जब भी संभव हो नया सामान लेने के बजाय रीसाइकिल्ड सामान खरीदें।
  • यदि आप प्रकाश व्यवस्था के उपकरणों या ऑफिस में इस्तेमाल होने वाले उपकरणों या इलेक्ट्रॉनिक्स को खरीदने जा रहे हैं, तो “एनर्जी स्टार” वाले उत्पादों को देखना ना भूलें, क्योंकि यह ऊर्जा अधिक कुशलता से उपयोग करने के लिए प्रमाणित होते हैं।
  • अपने घर में इस्तेमाल होने वाले बल्बों को (जो कि अपनी उर्जा का 90% ऊष्मा के रूप में बर्बाद कर देते हैं) को एल.ई.डी. बल्ब से बदलें। हालांकि एल.इ.डी. बल्ब की कीमत सामान्य बल्बों से अधिक होती है, परंतु यह सामान्य बल्ब की तुलना में चौथाई ऊर्जा का उपभोग करते हैं और सामान्य बल्बों से 25 गुना ज्यादा चलते हैं। एल.ई.डी. बल्ब, सी.एफ.एल. बल्बों की तुलना में भी बेहतर होते हैं, क्योंकि सी.एफ.एल. बल्ब अपनी ऊर्जा का 80% गर्मी के रूप में उत्सर्जित कर देते हैं और इसमें पारा होता है।
  • अपने घर में इस्तेमाल होने वाली ऊर्जा का स्वयं परीक्षण करें। ऐसा करने से आपको यह पता चलेगा की आप किस प्रकार से ऊर्जा का उपभोग करते हैं, साथ ही इससे आपको बर्बाद होने वाली ऊर्जा का भी पता चलेगा। किस तरह ऊर्जा का बेहतर उपयोग किया जा सकता है, यह भी आपको इस परीक्षण के द्वारा पता चल सकेगा।
  • जब भी आप अपने घर से बाहर निकले तो घर की बत्तियां बुझाना ना भूलें। अपने घर के सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को जो उस समय इस्तेमाल में ना आ रहे हों, घर से बाहर निकलते समय उनको स्विच से निकालना ना भूलें।
  • गर्म पानी के उपयोग को कम करने के लिए कम प्रवाह वाले शावरहेड को घर पर लगवाएं। ऐसा करने से आप 350 पाउंड तक कार्बन डाइऑक्साइड की बचत कर सकते हैं।
  • सर्दियों में अपने थर्मोस्टेट का प्रयोग कम करें और गर्मियों में इसका उपयोग बढ़ा दें। गर्मी के मौसम में जहां तक हो सके एयर- कंडीशन का उपयोग कम करें। एयर कंडीशन के स्थान पर पंखों को अपनाएं, यह कम बिजली का उपयोग करते हैं। एयर-कंडीशन के अलावा गर्मी कम करने के दूसरे तरीकों को भी अपनानें की कोशिश करें।
  • अपने वाटर हीटर के तापमान को 120°F से नीचे रखें। ऐसा करने से आप एक साल में लगभग 550 पाउंड कार्बन डाइ-ऑक्साइड की बचत कर लेंगे।
  • यदि आप बाजार में नया कंप्यूटर लेने जा रहे हैं तो कंप्यूटर लेने के बजाय लैपटॉप लें। लैपटॉप चार्ज होने के लिए, कंप्यूटर से कम ऊर्जा का उपयोग करता है।
  • ऐसी कंपनियों का समर्थन करें और उनसे ही सामान खरीदने को प्राथमिकता दें, जो पर्यावरण के प्रति जिम्मेदार और टिकाऊ होने का दावा करतीं हैं।
  • अपने स्थानीय बिजली प्रदाता या फिर प्रमाणित ऊर्जा प्रदाता के माध्यम से कोशिश करें कि आप स्वच्छ एनर्जी से अपनी इलेक्ट्रिसिटी प्राप्त करें। यदि आप चाहें तो Green-e.org की मदद से प्रमाणित हरित ऊर्जा प्रदाता (सर्टिफाइड ग्रीन एनर्जी प्रोवाइडर) को ढूंढ सकते हैं।

वस्त्रों की क्या भूमिका है कार्बन फुटप्रिंट कम करने में

  • अपने कपड़ों को ठंडे पानी में धुलें। ठंडे पानी के डिटर्जेंट के एंजाइम, ठंडे पानी से बेहतर सफाई के लिए डिजाइन किए जाते हैं। गर्म या गर्म पानी के बजाय ठंडे पानी में साप्ताहिक रूप से दो बार कपड़े धोने से आप साल में 500 पाउंड तक कार्बन डाइऑक्साइड की बचत कर सकते हैं।
  • तेजी से बदलते हुए फैशन को अंधाधुंध ना अपनाएं। आज के जमाने में फैशन रातों रात बदल जाता है पर यह जरूरी नहीं कि आप भी इसमें बिना कुछ सोचे-विचारे शामिल हो जाएं। फैशनेबल, सस्ते आइटम जो स्टाइल से बाहर होतें हैं, उन्हें पुनः इस्तेमाल में प्रयोग करने के लिए उनको लैंडफिल में डाल दिया जाता है। इस प्रक्रिया में भारी मात्रा में मेथेन गैस उत्पन्न होती है। आज के समय में औसतन हर अमेरिकी नागरिक, सामान्यता लगभग 80 पाउंड के कपड़े हर साल निकाल देते हैं। जिसमें से 85% कपड़ों को लैंडफिल कर दिया जाता है। वैसे भी ज्यादातर फैशन चीन और बांग्लादेश जैसे देशों से अमेरिका में भेजा जाता है। इन्हें भेजने में इस्तेमाल होने वाले ईंधन में जीवाश्म ईंधन का उपयोग किया जाता है। इस तरह के फैशन के कपड़े खरीदने से बेहतर होगा कि अच्छी क्वालिटी के कपड़े खरीदे जाएं।
  • और भी बेहतर होगा, यदि आप विंटेज या फिर पुनर्नवीनीकरण कपड़े (रीसाइकिल्ड कपड़े) खेप की दुकानों से खरीदें।

हवाई यात्रा की क्या भूमिका है कार्बन फुटप्रिंट कम करने में

  • हवाई जहाज से यात्रा करते समय बिजनेस क्लास की जगह इकोनॉमी क्लास का चुनाव करें। ऐसा इसलिए क्योंकि बिजनेस क्लास, इकोनॉमी क्लास की तुलना में 3 गुना अधिक कार्बन का उत्सर्जन करता है । जबकि प्रथम श्रेणी, इकोनामी क्लास की तुलना में 9 गुना अधिक कार्बन का उत्सर्जन करता है।
  • यदि आप अपने काम या मनोरंजन के लिए हवाई यात्रा करते हैं तो आप अपने कार्बन फुटप्रिंट बढ़ाने के लिए पूरी तरह से स्वयं ही जिम्मेदार हैं। जहां तक संभव हो हवाई यात्रा से बचें। छोटी यात्राओं के लिए ड्राइविंग का उपयोग करें, यह हवाई यात्रा की तुलना में कम ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करती है।
  • यदि हवाई यात्रा करनी भी पड़े तो कोशिश करेंगे नॉन स्टॉप हवाई यात्रा का चुनाव करें क्योंकि टेकऑफ और लैंडिंग के समय हवाई जहाज सबसे अधिक ईंधन का उपयोग करता है और उसी समय यह अत्यधिक कार्बन डाइऑक्साइड का उत्सर्जन भी करता है।
  • यदि आप किसी वजह से हवाई यात्रा से नहीं बच सकते तो अपनी यात्रा के कार्बन उत्सर्जन को ऑफसेट करें।

कार्बन ऑफसेट

कार्बन ऑफसेट एक ऐसी धन राशि होती है जिसको आप किसी ऐसी परियोजना के लिए भुगतान के रूप में देते हैं, जो कहीं पर ग्रीनहाउस गैसों के उपयोग को कम करने के लिए काम आ सकती हैं। इसका अर्थ यह है कि यदि आप एक टन कार्बन ऑफसेट करते हैं तो यह ऑफसेट एक टन ग्रीनहाउस गैसों को नष्ट करने में मदद करता है। ऑफसेट भी लगातार विकास को बढ़ावा देता है और ऊर्जा के उपयोग को भी बढ़ाता है।

carbon foot print

यातायात की क्या भूमिका है कार्बन फुटप्रिंट कम करने में

  • जहां तक हो सके, कार का प्रयोग कम करें। इसके स्थान पर सार्वजनिक परिवहन, पैदल चलना, कारपूल कर लेना या फिर बाइक का इस्तेमाल करें। इससे ना सिर्फ कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी आएगी। बल्कि ट्रैफिक जैसी भीषण समस्या भी कम हो सकती है।
  • छोटे-छोटे कामों के लिए कार का उपयोग करने से पहले कोशिश करें कि कई सारे छोटे कामों को इकट्ठे कर लें, ताकि एक ही चक्कर में आप सारे काम भी कर सकें और कार का उपयोग भी कम हो।
  • यदि आपका वाहन चलाना जरूरी हो तो कोशिश करें की अनावश्यक ब्रेकिंग और एक्सीलरेशन से बचें। कुछ अध्ययनों से यह पता चलता है कि आक्रमक ड्राइविंग, शांत ड्राइविंग की तुलना में 40% अधिक ईंधन की खपत करती है।
  • लंबी यात्राओं पर निकलते समय, क्रूज़ नियंत्रण को चालू करें, जिससे गैस को बचाया जा सकता है।
  • यदि आप नई कार खरीदने जा रहे हैं, तो हाइब्रिड या इलेक्ट्रिक वाहन खरीदने पर विचार करें। कुछ इलेक्ट्रिक कारें अपने शुरुआती दौर के दौरान ज्यादा कार्बन उत्सर्जित करने के लिए जिम्मेदार होती हैं। परंतु 3 साल बाद वह कम कार्बन का उत्सर्जन करने लगते हैं। ऐसी एप्स का इस्तेमाल करें जिनसे आप कार को उनके माइलेज, इंधन के प्रकार और कार के उत्पादन आदि से जुड़ी जानकारियां ले सकें। जिससे आप अपने कार्बन फुटप्रिंट की गणना कर सकतें हैं।
  • कार चलाते समय एयर कंडीशन का उपयोग कम से कम करें।
  • ट्रैफिक एप्स जैसे “वेज़” का उपयोग करें। यह आपको ट्रैफिक में फंसने से बचाएगी। जिससे ना सिर्फ आपके कार के इंधन की बचत होगी, बल्कि आपका समय भी बचेगा।
  • क्योंकि बिजली मुख्यतः प्राकृतिक गैस और नवीकरणीय ऊर्जा से प्राप्त होती है। 2017 में अमेरिका में परिवहन, कार्बन डाइऑक्साइड के उत्सर्जन का मुख्य स्रोत बन गया था। सामान्यता एक कार, प्रतिवर्ष लगभग 5 टन कार्बन डाइऑक्साइड का उत्पादन करती है। हालांकि यह उत्पादन कार की क्षमता और उसके प्रकार पर तथा वह किस तरह चलाई जा रही है, इस पर भी निर्भर करता है। यदि आप अपने आसपास के यातायात के साधनों में कुछ बदलाव करें तो आप अपने कार्बन फुटप्रिंट में कमी ला सकते हैं।

राजनीतिक रूप से सक्रिय होना क्यों महत्वपूर्ण है कार्बन फुटप्रिंट कम करने के लिए

  • यह सबसे महत्वपूर्ण बात है कि वायुमंडल में हो रहे बदलाव के लिए हमारी सरकार को कुछ प्रभावी समाधान निकालना होगा। इसके लिए एक ऐसी सरकार का होना जरूरी है जो जलवायु परिवर्तन से जुड़े प्रभावों को और उनकी महत्ता को अच्छे से समझती हो। आप अपने वोट के आधार पर ऐसी सरकार का चयन कर सकते हैं। आप ऐसी सरकार का चुनाव कर सकते हैं जो जीवाश्म ईंधन के उपयोग को समाप्त करने के लिए जल्द ही कार्यवाही करें और जितनी जल्दी हो सके देश को कार्बोनेट करें।

Leave a Reply