यदि आप गर्भधारण को लेकर हैं परेशान तो जाने वैज्ञानिक उपाय

0
37
infertility woman

एक बार जब आप अपने साथी के साथ इस बात का निर्णय लें लेती हैं कि आप दोनों अब एक बच्चे की जिम्मेदारी उठाने के लिए पूरी तरह से तैयार है तो फिर जरा सी भी देरी ऐसी लगती है मानो कि जैसे सारा समय ही निकला जा रहा हो। जब भी आप कहीं घूमने के लिए निकलती है तो आसपास की हर चीज आपको यही याद दिलाने लगती है कि आपके आसपास की वह सभी स्त्रियां जो मां बनना चाहती हैं वह या तो मां बनने वाली हैं और या मां बन चुकी हैं। ऐसे समय में यदि मासिक चक्र भी अपने समय से ना आए तो दुख और असफलता की भावना मन को घेर लेती है। तरह-तरह के सवाल मन में आने लगते हैं। कभी-कभी तो ऐसे भी सवाल आते हैं कि कहीं आपके साथ कोई दिक्कत तो नहीं है। वरना ऐसा कैसे हो सकता है कि जब हर दिन बच्चे जन्म ले रहें हों तो फिर आप ही गर्भवती क्यों नहीं हो पा रही हैं। ऐसी स्थिति में आप अत्यंत चिंतित, उदास या हताश भी हो सकतीं हैं। परंतु ऐसे समय में आपको जरा भी निराश होने की जरूरत नहीं है ऐसा हर उस स्त्री के साथ होता है जो मां बनना चाहती है। हम आज आपको यहां कुछ ऐसी यथार्थवादी जानकारियां देंगे, जो प्रजनन संबंधित मुद्दों के लिए आपका जानना जरूरी है। यदि आपके गर्भधारण करने में कोई समस्या आप ही रही है तो इन जानकारियों के माध्यम से आपके गर्भवती होने की संभावनाएं और अधिक बढ़ सकती हैं। हम आपको कोई निश्चित गारंटी नहीं दे सकते कि इस लेख को पढ़ने के बाद आप अगले ही महीने गर्भवती हो जाएंगी, परंतु हां हम आपको इतनी गारंटी निश्चित रूप से दे सकते हैं कि यह लेख आपके गर्भवती होने के मार्ग में सहायता जरूर करेगा।

Table Of Contents
  1. गर्भधारण की प्रक्रिया में कितना समय लग सकता है
  2. गर्भवती ना हो पाने के मुख्य कारण
  3. क्या आप अपने गर्भधारण की संभावनाओं को बढ़ा सकतीं हैं?
  4. ओवुलेशन समय के विषय में सटीक जानकारी जुटाना
  5. किस प्रकार के लुब्रिकेंट का उपयोग करें
  6. अपने‌ पूर्ण स्वास्थ्य पर पूरी तरह से ध्यान दें
  7. गर्भधारण करना है तो ध्यान रखें 

गर्भधारण की प्रक्रिया में कितना समय लग सकता है

जब आप अपने बच्चे के लिए पहली बार कोशिश कर रहे हैं और यह आपकी कोशिश का पहला महीना है तो इस बात में कोई भी आश्चर्य नहीं कि आपको पहले महीने कोई भी परिणाम नहीं मिलेगा, क्योंकि गर्भधारण की प्रक्रिया इतनी जल्दी नहीं होती जितना हम सामान्यतः हम सोचते हैं। बहुत सारे स्वस्थ जोड़ें, जो एक बच्चे को पाने की निरंतर कोशिश करते हैं, उन्हें भी कई बार एक साल तक का समय लग जाता है, वो भी तब जब वह पूरी तरह से गर्भधारण करने के लिए अपनी कोशिशों पर ध्यान दें तो। यदि आपकी उम्र 35 वर्ष से कम है और आपको गर्भधारण की कोशिशों को करते हुए एक साल का समय बीत चुका है तो आप दोनों को तुरंत ही किसी डॉक्टर अथवा विशेषज्ञ से मिलने के विषय में सोचना चाहिए। परंतु यदि आप की उम्र 35 वर्ष पार कर चुकी है और साथ ही आपको कोशिश करते हुए भी 6 महीने से ऊपर का समय बीत चुका है तो आप दोनों को सबसे पहले किसी विशेषज्ञ अथवा डॉक्टर से मिलकर के इस विषय पर चर्चा करनी चाहिए।

गर्भवती ना हो पाने के मुख्य कारण

सटीक ओव्यूलेशन विंडो का समय

गर्भधारण की प्रक्रिया में शुक्राणु को अंडे के संपर्क में आना होता है। परंतु यह प्रक्रिया महीने के सभी दिन नहीं हो सकती है। यदि आपने गर्भधारण करने का निश्चय अभी अभी किया है तो आपको यह जानने की आवश्यकता सबसे पहले है कि आपकी सटीक ओव्यूलेशन विंडो का समय कब होता है अर्थात आपको अपने ओव्यूलेशन विंडो (ओवुलेशन विंडो का अर्थ है वह कुछ दिनों का समय जिसमें अंडा प्रजनन के लिए उपलब्ध होता है) के विषय में पता होना चाहिए। जिससे कि आपको यह पता चल सके कि गर्भधारण करने के लिए महीने का कौन सा समय सबसे अनुकूल होगा। इसके लिए आपको अपने महावरी चक्र पर नजर रखनी होगी और यह भी नोट करना होगा कि आपको महीने में कब महावरी होती है। इस बात को भी याद रखना जरूरी है कि यह आवश्यक नहीं कि जिस समय आप ओव्यूलूट कर रही हों, उस समय संबंध बनाने से आप निश्चित तौर पर गर्भवती हो ही जाएंगीं। सामान्यता ऐसे समय में गर्भधारण करने की एक स्वस्थ 30 वर्षीय जोड़े में केवल 20% संभावना ही होती है।

infertility

ओव्यूलेशन से जुड़ी समस्याएं

ओव्यूलेशन का अर्थ है अंडाशय में अंडे के बनने की प्रक्रिया. यदि आपके अंडाशय में अंडे नहीं बन पा रहे हैं तो आपके गर्भवती होने की संभावना असंभव है। ऐसी स्थिति में आपको किसी प्रजनन विशेषज्ञ (फर्टिलिटी एक्सपर्ट) अथवा डॉक्टर से अतिरिक्त परीक्षणों (टेस्ट) और अन्य प्रक्रियाओं के विषय में बात करनी चाहिए। जिसके द्वारा आपके ओवुलेशन ना होने के कारण को पहचानने में वे आपकी मदद कर सके और इसे हल कर सकें।

फैलोपियन ट्यूब से जुड़ी समस्याएं

यदि आपकी फैलोपियन ट्यूब किसी वजह से अवरुद्ध है तो अंडों के निषेचन और आरोपण के लिए एक सुरक्षित स्थान नहीं मिलेगा जिसके कारण आपके गर्भधारण होने की संभावना खत्म हो जाती है।

गर्भाशय से जुड़े समस्याएं

गर्भवती होने के लिए यह आवश्यक है कि निषेचित अंडे को गर्भाशय में प्रत्यारोपित किया जाए। परंतु यदि गर्भाशय की संरचना में कोई दिक्कत है अर्थात उसकी आकार को लेकर परेशानी हो या फिर गर्भाशय के अंदर ऊतकों का निर्माण हो रखा हो तो। यह दो ऐसे उदाहरण हैं जिनके कारण अंडे के निषेचित होने के पश्चात भी गर्भाशय में प्रत्यारोपित नहीं हो पाते, जिसके कारण गर्भधारण करने की संभावना खत्म हो जाती है।

वीर्य अथवा शुक्राणु से जुड़ी समस्याएं

हालांकि यह बात सच है कि पुरुष अपने पूरे जीवन काल में वीर्य का उत्सर्जन करते हैं। परंतु इन शुक्राणुओं की गुणवत्ता भी गर्भधारण करने की संभावना को बढ़ाने अथवा घटाने के लिए एक मुख्य कारण के तौर पर जिम्मेदार मानी जा सकती है। शुक्राणु की संख्या, उनका आकार, गतिशीलता यह सभी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करते हैं। यदि आपको वीर्य अथवा शुक्राणु से संबंधित किसी विषय में अधिक जानकारी प्राप्त करनी है, तो आप अपने वीर्य का विश्लेषण करवा सकते हैं, यह आपके गर्भधारण करने की प्रक्रिया में सहायक होगा।

आयु से संबंधित समस्याएं

गर्भधारण करने मैं आने वाली समस्याओं के लिए आयु को भी एक प्रमुख कारण माना जा सकता है। सामान्यता जब व्यक्ति अपनी उम्र के 20 से 30 वर्ष के पड़ाव में होता है तो गर्भधारण करने की संभावना महीने में चार में से एक की मानी गई है। 30 वर्ष की आयु पार कर लेने के बाद गर्भधारण करने की संभावना धीरे-धीरे कम होने लगती है। परंतु 40 वर्ष की आयु तक पहुंचते-पहुंचते यह संभावना, महीने में दस में से एक की हो जाती है। 45 वर्ष के आयु में गर्भधारण करने की संभावना बहुत कम हो जाती है, यह ना के बराबर ही रह जाती है। उम्र के साथ व्यक्ति की वीर्य अथवा शुक्राणु पैदा करने के क्षमता भी कम होने लगती है तथा उन शुक्राणुओं की गुणवत्ता भी उम्र के साथ घट जाती है।

जन्म नियंत्रण (बर्थ कंट्रोल) के तरीके

कुछ प्रकार के बर्थ कंट्रोल करने वाले तरीके भी प्रजनन क्षमता को प्रभावित करते हैं। जिसके कारण या तो गर्भधारण होने में समय लगता है अथवा गर्भधारण होने की संभावना ही खत्म हो जाती है। कंडोम अथवा गोली जैसे जन्म नियंत्रण के तरीके भविष्य में होने वाली प्रजनन क्षमता को प्रभावित नहीं करते हैं। लेकिन महीनों तक गर्भनिरोधक शॉट लेने से प्रजनन क्षमता प्रभावित हो जाती हैं। (एक अध्ययन के द्वारा, जो कि 188 महिलाओं के ऊपर किया गया था जिसमें उन्हें गर्भनिरोधक शॉट डेपो-प्रोवेरा को देना बंद कर दिया गया जिसके लगभग 10 महीने बाद वह पुनः गर्भधारण के लिए तैयार हो पाई। दूसरे तरीके जैसे कि ट्यूबल बंधाव अथवा पुरुष नसबंदी प्रजनन क्षमता पर दीर्घकालीन प्रभाव डालता है, जिसके कारण कभी-कभी स्थिति पूरी तरह से ठीक हो ही नहीं पाती।

infertility woman

अन्य चिकित्सीय मुद्दे

कुछ अन्य चिकित्सीय मुद्दे ऐसे भी होते हैं जो आपकी प्रजनन क्षमता को नकारात्मक रूप से प्रभावित करते हैं। कुछ लोगों में पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम (PCOS) और एंडोमेट्रियोसिस पाया जाता है। यदि आपको अपने अथवा अपने साथी के स्वास्थ्य से संबंधित कोई ऐसी जानकारी है जो आप की प्रजनन क्षमता पर विपरीत प्रभाव डाल सकती है तो उसके विषय में तुरंत अपने डॉक्टर अथवा विशेषज्ञ से इसकी चर्चा जरूर करें। कई बार देरी से बताई गई बातों का परिणाम बहुत बुरा होता है। कुछ स्त्रियों को कई बार गर्भपात अथवा अनुवांशिक कारणों के कारण गर्भधारण करने में परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी स्थिति में यह जरूरी है कि आप अपने डॉक्टर से इन सभी विषयों पर पहले से चर्चा कर लें। इनके अलावा कई बार अस्पष्ट बांझपन की शिकायत देखी गई है, जो कुछ प्रकार के परीक्षणों के बाद सामने आई। जिसका अर्थ यह है कि परीक्षण के बाद यह बात तो सामने आ गई कि आप गर्भवती नहीं हो पा रही परंतु उसका स्पष्ट कारण नहीं समझ में आ पाता है। परंतु ऐसी किसी भी स्थिति में आपको उम्मीद नहीं खोनी चाहिए। आपको ऐसे कठिन समय में अपने डॉक्टर और विशेषज्ञ की बताई हुई बातों को मानते हुए अपने पास उपलब्ध अन्य विकल्पों को खोजना चाहिए। जिससे कि आप अपनी इच्छा को पूरा करने की तरफ अपने कदम बढ़ा सकें।

क्या आप अपने गर्भधारण की संभावनाओं को बढ़ा सकतीं हैं?

यदि आप गर्भधारण न कर पाने की वजह से हताश और निराश महसूस कर रही हैं और साथ ही आप अभी किसी भी प्रजनन विशेषज्ञ अथवा डॉक्टर के पास जाने के लिए पूरी तरह से तैयार नहीं है तो हम आपको कुछ ऐसे तरीके बताते हैं जिन्हें आप करके या पता लगा सकते हैं कि आपके गर्भवती होने की संभावनाएं कितनी है।

ओवुलेशन समय के विषय में सटीक जानकारी जुटाना

वास्तव में आपके गर्भधारण करने की सबसे प्रबल संभावनाएं आपके ओवुलेशन के समय होती हैं। यदि आप ऐसे समय में अपने साथी के साथ संबंध बनाएं तो आप के गर्भवती होने की संभावनाएं बहुत अधिक बढ़ जाती हैं। इसलिए यह सबसे ज्यादा जरूरी है कि आप यह पता करें कि महीने के कौन से समय में आपको ओवुलेशन होता है। जिसके बाद आप इसी के आधार पर गर्भधारण करने की योजना बना सकतीं हैं। यह निर्धारित करने के लिए कि आप कब ओव्यूलूट कर रही हैं आपको अपने मासिक धर्म पर निगरानी रखनी होगी और उसका एक ट्रैक रिकॉर्ड बनाना होगा साथ ही कुछ अन्य बातों का भी ध्यान रखना होगा जो नीचे लिखी गई हैं

बिस्तर से उठने के पूर्व अपने शरीर का सामान्य तापमान चेक करें

हर सुबह एक ही समय पर एक विशेष थर्मामीटर का उपयोग करके जो डिग्री के दसवें स्थान तक को पढ़ सकता हो, उसकी मदद से अपने शरीर के तापमान को नापा करें। ओवुलेशन के समय में आमतौर पर शरीर का तापमान पहले थोड़ा सा कम होता है और उसके बाद लगातार तीन दिन तक तापमान बढ़ता है। यह विशेष थर्मामीटर आपको इसके विषय में आसानी से जानकारी देता है।

ओवुलेशन स्ट्रिप्स का प्रयोग करें

इनका कार्य बिल्कुल गर्भावस्था जांचने के लिए उपयोग किए जाने वाली किट के समान ही होता है तथा आप इसे अपने लोकल दवाई की दुकान से खरीद सकते हैं। यह शरीर के तापमान और गर्भाशय ग्रीवा बलगम में आए परिवर्तन का उपयोग करके आपको बता सकता है कि आप ओव्यूलूट कर रही हैं अथवा नहीं।

अपने गर्भाशय ग्रीवा बलगम में आए हुए परिवर्तनों को ध्यान से देखें

ओवुलेशन से पहले आपके शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर बढ़ जाता है। जिसके कारण आपका ग्रीवा बलगम ज्यादा, पतला और अधिक से फिसलन वाला हो जाता है। यह इस बात का संकेत होता है कि यह आपके गर्भ धारण करने का उचित समय है।

चिकित्सा परीक्षण करवाएं

यदि आप उपरोक्त तरीकों का उपयोग करके ओव्यूलेशन की पहचान करने में सक्षम नहीं हो पा रही हैं, तो आप किसी विशेषज्ञ को दिखने के विषय में अपने डॉक्टर से बात कर सकतीं हैं। एक प्रजनन क्लिनिक वास्तव में आपको गर्भधारण‌ से जुड़ी कई बातों को ठीक प्रकार से बता सकता है तथा यह आपको उन परीक्षणों के विषय में भी बता सकते हैं जिन्हें कराने के बाद आप गर्भधारण की से जुड़े परेशानी के विषय में जान सकते हैं। इस प्रकार के परीक्षण मुख्यता रक्त, हार्मोन परीक्षण और आपके अंडाशय के अल्ट्रासाउंड से जुड़े होते हैं, जो यह निर्धारित करने के लिए करवाए जाते हैं कि क्या आपको ओव्यूलेशन हो रहा है। हार्मोन को ट्रैक करने के लिए आपका आपके मासिक धर्म चक्र के दौरान परीक्षण किया जा सकता है। वे फैलोपियन ट्यूब ब्लॉकेज या गर्भाशय से जुड़ी किसी अन्य समस्या को बारीकी से देख सकते हैं और यह पता लगा सकते हैं कि गर्भधारण करने में कौन से समस्या आ रही है।

woman infertility

किस प्रकार के लुब्रिकेंट का उपयोग करें

गर्भधारण करने के लिए किस प्रकार के लुब्रिकेंट का प्रयोग करना है यह जानकारी आप अपने डॉक्टर से चर्चा करके ले सकते हैं। कुछ लुब्रिकेंट आपके शुक्राणु पर नकारात्मक असर डालते हैं इसलिए आपको निम्नलिखित चीजों से बचना चाहिए –

  • astroglide
  • केवाई जेली
  • जैतून का तेल
  • लार

अपने‌ पूर्ण स्वास्थ्य पर पूरी तरह से ध्यान दें

गर्भधारण करने के लिए जरूरी है कि आपका शरीर पूरी तरह से स्वस्थ हो और इसके लिए यह जरूरी है कि आप स्वयं को स्वस्थ रखने के लिए अपनी जीवनशैली में जरूरी बदलाव करें। यदि आपके मासिक धर्म नियमित तौर पर नहीं होते तो उसका कारण आपका खान-पान, व्यायाम और एक स्वस्थ जीवन शैली की कमी हो सकती है। बिना सही समय पर हुए मासिक धर्म के गर्भधारण करने में बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। यदि आपके मासिक धर्म नियमित तौर पर होते हैं तो भी आपको पौष्टिक खानपान, व्यायाम और एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाना चाहिए। यह गर्भधारण करने के समय आपकी मदद करेगी। यदि आप चाहें तो गर्भधारण करने की कोशिश से पहले किसी ओबी-जीवाईएन (OB-GYN) से मिलकर के अपनी मौजूदा स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं के विषय में खुल कर बात कर सकते हैं। आप इनके साथ अपनी किसी अनुवांशिक समस्याओं (यदि कोई हो तो) के लिए स्वयं की जांच करवाने के विषय में चर्चा भी कर सकतीं हैं। यहां नीचे हमने कुछ सुझाव दिए गए हैं, जिनसे आप अपनी जीवनशैली में थोड़ा बहुत बदलाव ला सकतीं हैं –

  • कैफीन, तंबाकू, शराब और ड्रग्स से पूरी तरह परहेज करना
  • विटामिन तथा अन्य पोषक तत्व का सेवन डॉक्टर के द्वारा बताए गए निर्देशों के आधार पर शुरू करना
  • तनाव को कम करने के तरीके खोजना और उसे प्रबंधित करना
  • अपने वजन को नियंत्रित करना (अर्थात यदि ज्यादा है, तो कम और कम है, तो थोड़ा सा बढ़ाने की तरफ ध्यान देना)

गर्भधारण करना है तो ध्यान रखें 

  • इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप गर्भधारण करने के लिए कितनी कोशिश करना चाहती हैं, यदि आप वाकई में गर्भधारण करना चाहतीं हैं तो जरूरी है कि आप सबसे पहले उस परेशानी को पहचाने जिसकी वजह से गर्भधारण करने में आपको समस्याएं आ रही हैं। आपका पहला कदम उन संभावित बाधाओं की पहचान करने में होना चाहिए। कभी-कभी अपने मासिक धर्म चक्र के विषय में सही जानकारी रखने से भी गर्भधारण करने में बहुत मदद मिल जाती है ।
  • यदि आपको गर्भधारण करने की कोशिश करते हुए काफी समय बीत चुका है और परंतु आप गर्भधारण करने में असमर्थ रहे हैं तो ऐसे समय में आपको फौरन किसी प्रजनन विशेषज्ञ अथवा डॉक्टर के साथ मिलकर अपनी समस्याओं के विषय में खुलकर बात करनी चाहिए।
  • डॉक्टर से यह भी पता करने की कोशिश करनी चाहिए कि आप के गर्भवती होने की क्या संभावनाएं हैं और किन-किन तरीकों से आप अपनी इस परेशानी को दूर कर सकते हैं।
  • ऐसा हो सकता है कि शिशु प्राप्त करने की आपकी यह इच्छा बहुत जल्द पूरी ना हो, परंतु यदि आप कोशिश करेंगे तो यह बात पक्की है कि आपको जल्द ही एक नवजात शिशु के माता-पिता बनने का मौका मिलेगा। इसलिए कुछ भी हो जाए परंतु आप अपनी उम्मीदों को कभी ना छोड़े।

Leave a Reply