दालचीनी के 15 वैज्ञानिक फायदे, अभी जानिए

0
187
dalchini cinnamon benefits

दालचीनी एक अत्यधिक स्वादिष्ट और फायदेमंद मसाला है। यह हजारों वर्षों से औषधीय गुणों के लिए मशहूर है। आयुर्वेद में तो इसके बहुत गुणगान हैं और कई बीमारियों में इसका सफल प्रयोग बताया गया है. आधुनिक विज्ञान ने अब उन बातों की पुष्टि की है जो लोग सदियों से जानते हैं। दालचीनी शक्तिशाली औषधीय गुणों के साथ लैस है। दालचीनी एक मसाला है जिसे वैज्ञानिक रूप से सिनामोमम नामक पेड़ों की आंतरिक छाल से बनाया जाता है । यह पुरातन काल में भी एक दुर्लभ औषधीय तत्व के रूप में इस्तेमाल किया गया है, प्राचीन मिस्र के समय से भी। यह दुर्लभ और मूल्यवान हुआ करता था और इसे राजाओं के लिए एक उपहार में माना जाता था। इन दिनों, दालचीनी सस्ती है, हर सुपरमार्केट में उपलब्ध है और विभिन्न खाद्य पदार्थों और व्यंजनों में इस्तेमाल की जाती है। दालचीनी को इंग्लिश में सिनेमन (cinnamon) कहते हैं. इसके द्वारा होने वाले स्वास्थ्य लाभ बहुत अधिक हैं, जैसे ह्रदय रोग कम करना, डायबिटीज में फायदेमंद, इन्सुलिन रेजिस्टेंस हटाना, डिप्रेशन हटाना, इन्फेक्शन-विरोधी होना, पुरुष नपुंसकता में प्रभावी होना, उम्र बढ़ाना, कैंसर से बचाव करना, मोटापे को कम करना इत्यादि.

दालचीनी दो मुख्य प्रकार की होती है – (1) सीलोन (Ceylon) दालचीनी: “असली” दालचीनी के रूप में भी जानी जाती है, (2) कैसिया (Cassia) दालचीनी: आज कल सामान्य तौर पर पाई जाती है, और लोग आमतौर पर “सिनमन” या “सिनेमन” के रूप में जानते हैं। दालचीनी इसके पेड़ों के तनों को काटकर बनाई जाती है। तब भीतरी छाल को निकाला जाता है और लकड़ी के हिस्सों को हटा दिया जाता है। जब यह सूख जाता है, तो यह रोल हो कर स्ट्रिप्स बनाता है जिसे दालचीनी स्टिक्स कहा जाता है। ये स्टिक्स दालचीनी पाउडर बनाने के लिए पीसे जा सकते हैं। दालचीनी की विशिष्ट गंध और स्वाद इसके तैलीय भाग के कारण होता है. इस तैलीय भाग में सिनेमलडिहाइड (cinnamaldehyde) नामक तत्व की भरपूर मात्रा होती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि यह तत्व स्वास्थ्य और पाचन पर दालचीनी के सबसे शक्तिशाली प्रभावों के लिए जिम्मेदार होता है।

सीलोन दालचीनी (“असली” दालचीनी) का उपयोग करना बेहतर है। सभी दालचीनी समान नहीं होती हैं। कैसिया किस्म में कौमारिन (Coumarin) नामक तत्व की महत्वपूर्ण मात्रा होती है, जिसे बड़ी खुराक में हानिकारक माना जाता है। कैसिया को कौमारिन के कारण बड़ी खुराक में लेने से समस्या हो सकती है। सीलोन (“असली” दालचीनी) इस संबंध में बहुत बेहतर है, और अध्ययन से पता चलता है कि यह कैसिया किस्म की तुलना में बहुत कम है। दुर्भाग्य से, सुपरमार्केट में पाए जाने वाले अधिकांश दालचीनी सस्ती कैसिया किस्म है। आप कुछ स्वास्थ्य खाद्य भंडार में सीलोन को खोजने में सक्षम हो सकते हैं, और अमेज़ॅन पर एक अच्छा चयन उपलब्ध है । आइये जानते हैं कि दालचीनी का सेवन करने से किस तरह के स्वास्थ्य लाभ हो सकते हैं.

Table Of Contents

दालचीनी एंटीऑक्सिडेंट से भरपूर है

एंटीऑक्सिडेंट आपके शरीर को हानिकारक फ्री-रेडिकल (शरीर में टूट फूट पैदा करने वाले मुक्त कणों) से होने वाले भीषण और दूरगामी नुकसान से बचाते हैं। दालचीनी शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के साथ भरी हुई है, जैसे कि पॉलीफेनोल (Polyphenols)। एक अध्ययन में पाया गया कि 26 मसालों की एंटीऑक्सीडेंट गतिविधि की तुलना में, दालचीनी स्पष्ट विजेता के रूप में उभरती है, यहां तक कि लहसुन और अजवायन की पत्ती (Oregano) जैसे “सुपरफूड्स” से भी बेहतर। असल में, दालचीनी में इतनी शक्ति है कि इसका उपयोग प्राकृतिक खाद्य संरक्षक के रूप में भी किया जा सकता है ।

दालचीनी में सूजनविरोधी गुण होते हैं

शरीर की कोशिकाओं में क्षति होती रहती है. यह बीमारियों, प्रदूषण, चिंता, जीवाणुओं का प्रहार, जेनेटिक्स और अन्य कारणों से होती है. यह क्षति ज़्यादातर मामलों में कोशिकाओं में सूजन के रूप में सामने आती है, जिसे ‘इन्फ्लेमेशन’ (inflammation) भी कहते हैं. सूजन एक समस्या बन सकती है जब यह लंबे समय तक बनी रहे. कई बार यह गतिविधि असाध्य बीमारियों को जन्म देती है, जैसे कैंसर, गठिया, ह्रदय रोग, डायबिटीज, इम्यून सिस्टम की बीमारियाँ इत्यादि। इस संबंध में दालचीनी उपयोगी हो सकती है। अध्ययनों से पता चलता है कि इसके एंटीऑक्सिडेंट में शक्तिशाली सूजन विरोधी गुण होते हैं। दालचीनी में एंटीऑक्सिडेंट का सूजन विरोधी प्रभाव रोग के जोखिम को कम करने में मदद कर सकता है।

दालचीनी हृदयरोग के जोखिम को कम कर सकती है

दालचीनी को हृदय रोग के जोखिम को कम करने के प्रभाव से जोड़ा गया है, जो दुनिया में समय से पहले मौत का सबसे आम कारण है। टाइप 2 डायबिटीज (मधुमेह) वाले लोगों में, प्रति दिन 1 ग्राम या लगभग आधा चम्मच दालचीनी अत्यधिक लाभकारी प्रभाव दिखाती है। यह कुल कोलेस्ट्रॉल (Cholestrol), “खराब” एल.डी.एल. (LDL) कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स (Triglycerides) के स्तर को कम करता है , जबकि “अच्छा” एच.डी.एल. (HDL) कोलेस्ट्रॉल स्थिर रहता है । हाल ही में, एक बड़े वैज्ञानिक समीक्षा अध्यययन ने निष्कर्ष निकाला है कि प्रति दिन सिर्फ 120 मिलीग्राम की एक दालचीनी खुराक का ये प्रभाव हो सकता है। इस अध्ययन में, दालचीनी ने “अच्छे” एच.डी.एल. कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी बढ़ाया। जानवरों के अध्ययन में, दालचीनी को रक्तचाप को कम करने के लिए प्रभावी दिखाया गया है। कुल मिलाकर ये सभी कारक आपके हृदय रोग के खतरे को काफी कम कर सकते हैं।

dalchini benefits

दालचीनी ‘इंसुलिन रेजिस्टेंस’ में सुधार कर सकता है

इंसुलिन शरीर के प्रमुख हार्मोन में से एक है जो मेटाबोलिज्म (चयापचय) और ऊर्जा उपयोग को नियंत्रित करता है। यह रक्त में उपस्थित शर्करा को आपके रक्त से आपकी कोशिकाओं तक के ले जाने के लिए भी आवश्यक है। कोशिकाओं में जाने के बाद इस शर्करा का पाचन होता है और उर्जा उत्पन्न होती है. इसी उर्जा से शरीर की कोशिकाएं जीवित रहती हैं. समस्या यह है कि कई लोग इंसुलिन रेजिस्टेंस से पीड़ित हैं. इस स्थिति में शरीर की कोशिकाएं के प्रभाव से प्रतिरोधी हो जाती हैं। इसे इंसुलिन प्रतिरोध या इन्सुलिन रेजिस्टेंस के रूप में जाना जाता है, और ये स्थिति मेटाबोलिक सिंड्रोम और टाइप 2 मधुमेह जैसी गंभीर स्थितियों के आरम्भ होने की एक खास पहचान होती है। अच्छी खबर यह है कि दालचीनी नाटकीय रूप से इंसुलिन रेजिस्टेंस को कम कर सकती है, जिससे इस महत्वपूर्ण हार्मोन को अपना काम करने में मदद मिलती है। शरीर की कोशिकाओं की इंसुलिन के लिए संवेदनशीलता में वृद्धि करके, दालचीनी रक्त शर्करा के स्तर को कम कर सकती है। यदि रक्त में शर्करा का लेवल बढ़ा रहे तो अंगों को नुक्सान पहुँच सकते हैं, जैसे गुर्दे, आँखें, नसें और ह्रदय को.

दालचीनी मोटापे को कम करने में फायदेमंद है

दालचीनी रक्त में शुगर या शर्करा के स्तर को नियंत्रित रखने में मादा करता है. इसकी वजह से बार बार भूख नहीं लगती और शरीर में कम कैलोरी जाती है. इससे शरीर के अधिक वजन को कम करने में मदद मिलती है. साथ ही साथ दालचीनी में मौजूद तत्व भोजन में उपस्थित कार्बोहायड्रेट को अच्छी तरह पचाने में मदद करते हैं और अधिक खाना खाने की इच्छा को भी कम करते हैं. आपको चाय में दालचीनी डालनी चाहिए, सलाद में इसका पाउडर छिड़कना चाहिए और मसालों में तो इसका इस्तेमाल करना ही चाहिए.

दालचीनी पीरियड के दौरान दर्द और अनियमितता से बचाव करती है

सदियों से दालचीनी का इस्तेमाल पीरियड्स के दौरान होने वाले असहनीय दर्द को रोकने और ख़त्म करने में किया जाता है. चाहे ये पीरियड के दौरान अधिक ब्लीडिंग की वजह से हो या किसी अन्य बीमारी की वजह से (बच्चेदानी कि गांठें या फैब्रोइड, एडिनोमयोसिस, एंडोमेट्रोसिस इत्यादि). इसके इस्तेमाल से पीरियड्स की अवधि में नियमितता आती है और पीरियड्स के पूर्व होने वाले लक्षण (पी.एम्.एस. अर्थात प्री-मेन्स्त्रुअल सिंड्रोम) जैसे चिड़चिड़ापन, सरदर्द, शरीर दर्द इत्यादि में भी कमी देखी गयी है.

दालचीनी मानसिक अवसाद को दूर करने में फायदेमंद है

दालचीनी में मौजूद तत्व डिप्रेशन के खिलाफ असरदार देखे गए हैं. डिप्रेशन को ब्रेन-गट एक्सिस (दिमाग-आंत धुरी) से जोड़ कर देखा जाता है, इसके अंतर्गत आँतों के अन्दर मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया दिमाग में डिप्रेशन या अवसाद उत्पन्न करते हैं. दालचीनी ऐसे हानिकारक बैक्टीरिया को नष्ट करती है जिससे डिप्रेशन ख़त्म होने की सम्भावना रहती है. दालचीनी के अन्दर की खुशबू को ‘एरोमाथेरेपी’ में डिप्रेशन दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. पाचन तंत्र सुचारू करके और रक्त के संचार को स्वस्थ करके भी दालचीनी का डिप्रेशन को दूर रखने में महत्वपूर्ण योगदान है.

मांसपेशी के दर्द को दूर करने में दालचीनी असरदार है

यह कोई छुपी हुई बात नहीं है कि दालचीनी के तेल की मालिश से शरीर में गर्माहट रहती है और कसी हुई मांसपेशियां लचीली होती हैं तथा रिलैक्स कर पाती हैं. दिन भर की दौड़-धूप से आपके शरीर की मांसपेशियां अकड़ जाती हैं जिससे उनमें जकड़न हो जाती है और दर्द होता है. दालचीनी के तेल की कुछ बूँदें गुनगुने पानी में डाल कर नहाने से थकान मिट जाती है. भोजन में दालचीनी के रेगुलर इस्तेमाल से गठिया होने की सम्भावना कम हो जाती है.

दालचीनी रक्त में शर्करा के बढ़े हुए स्तर को कम करती है

दालचीनी अपने रक्त-शर्करा कम करने वाले गुणों के लिए अच्छी तरह से जानी जाती है । इसमें एक शक्तिशाली एंटी-डायबिटिक प्रभाव होता है. इंसुलिन प्रतिरोध पर लाभकारी प्रभाव के अलावा, दालचीनी कई अन्य तंत्रों द्वारा रक्त शर्करा को कम कर सकती है। सबसे पहले, दालचीनी को भोजन के बाद आपके रक्तप्रवाह में प्रवेश करने वाले ग्लूकोज की मात्रा को कम करने के लिए दिखाया गया है। यह कई पाचन एंजाइमों के साथ हस्तक्षेप करके ऐसा करती है, जो आपके पाचन तंत्र में कार्बोहाइड्रेट के टूटने को धीमा कर देते है। दूसरा, दालचीनी का एक तत्व इंसुलिन की नकल करके कोशिकाओं पर कार्य कर सकता है। कई मानव अध्ययनों ने दालचीनी के मधुमेह-विरोधी प्रभावों की पुष्टि की है, यह दिखाते हुए कि यह तेजी से रक्त शर्करा के स्तर को 10% से 29% तक कम कर सकता है। प्रभावी खुराक आमतौर पर 1 से 6 ग्राम या प्रति दिन दालचीनी के 0.5 से 2 चम्मच के आसपास होता है।

dalchini cinnamon benefits

मस्तिष्क-क्षति (न्यूरोडीजेनेरेटिव) रोगों पर दालचीनी लाभकारी प्रभाव डाल सकती है

मस्तिष्क कोशिकाओं की संरचना या कार्य के बढ़ते हुए नुकसान को न्यूरोडीजेनेरेटिव रोग कहते है। अल्जाइमर डिजीज (Alzheimer’s disease) और पार्किंसंस डिजीज (Parkinson’s disease) रोग दो सबसे आम प्रकार हैं। दालचीनी में पाए जाने वाले दो तत्व मस्तिष्क में ताऊ (Tau) नामक एक प्रोटीन के निर्माण को रोकते हुए प्रतीत होते हैं, जो अल्जाइमर रोगकी पहचान है। पार्किंसंस रोग के साथ चूहों में एक अध्ययन में, दालचीनी ने नर्वस सिस्टम की कोशिका या न्यूरॉन (Neuron) तथा न्यूरोट्रांसमीटर (Neurotansmitter) के स्वास्थ्य और स्तर को बेहतर किया और नसों की कार्य करने की क्षमता की रक्षा करने में मदद की। अल्झाइमर डिजीज को डायबिटीज टाइप 3 भी कहते हैं. जैसे दालचीनी डायबिटीज टाइप 2 में प्रभावी है उसी तरह डायबिटीज टाइप 3 अर्थात अल्झाइमर डिजीज की रोकथाम में भी इसका महत्वपूर्ण स्थान है. इन प्रभावों को मनुष्यों में भी अध्ययन करने की आवश्यकता है।

दालचीनी कैंसर से बचाव कर सकती है

कैंसर एक गंभीर बीमारी है, जिसकी विशेषता अनियंत्रित कोशिका वृद्धि है। कैंसर की रोकथाम और उपचार में संभावित उपयोग के लिए दालचीनी का व्यापक रूप से अध्ययन किया गया है। कुल मिलाकर, सबूत टेस्ट-ट्यूब और जानवरों के अध्ययन तक सीमित है, जो सुझाव देते है कि दालचीनी के अर्क कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से रक्षा कर सकते हैं। यह कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को कम करता है. साथ ही यह ट्यूमर में रक्त वाहिकाओं के गठन को कम करता है. ऐसा करने से कैंसर की कोशिकाओं को भोजन प्राप्ति में कमी आ जाती है (कैंसर कोशिकाएं भोजन रक्त-वाहिकाओं द्वारा ही प्राप्त करती हैं). यह कैंसर कोशिकाओं के लिए विषाक्त प्रतीत होता है, जिससे कैंसर कोशिका की उर्जा के अभाव में मृत्यु होती है। बड़ी आंत या कोलोन (Colon) कैंसर से पीड़ित चूहों में एक अध्ययन से पता चला है कि दालचीनी कोलोन में एंजाइमों को डिटॉक्स (प्रभावहीन) करने का एक शक्तिशाली उत्प्रेरक है, जो कैंसर को और बढ़ने से बचाता है। इन निष्कर्षों को टेस्ट-ट्यूब प्रयोगों द्वारा समर्थित किया गया था, जिससे पता चला कि दालचीनी मानव कोलोन कोशिकाओं में भी सुरक्षात्मक एंटीऑक्सिडेंट प्रतिक्रियाओं को सक्रिय करती है ।

दालचीनी बैक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन से लड़ने में मदद करती है

सिनेमलडिहाइड (cinnamaldehyde) दालचीनी के मुख्य सक्रिय घटकों में से एक है जो विभिन्न प्रकार के संक्रमण से लड़ने में मदद कर सकता है। दालचीनी के तेल को कवक के कारण होने वाले सांस की नली के इन्फेक्शन (संक्रमण) के प्रभावी उपचार के लिए सही पाया गया है। यह कुछ बैक्टीरिया के विकास को भी रोक सकता है, जिसमें लिस्टेरिया (Listeria) और साल्मोनेला (Salmonella) शामिल हैं। हालांकि, वैज्ञानिक सबूत सीमित है और अभी तक दालचीनी को शरीर में कहीं और संक्रमण को कम करने के लिए प्रभावशाली नहीं दिखाया गया है। दालचीनी के रोगाणुरोधी प्रभाव दाँत क्षय को रोकने और खराब सांस को कम करने में मदद कर सकते हैं ।

दालचीनी एच.आई.वी. वायरस से लड़ने में मदद कर सकती है

एच.आई.वी. एक वायरस है जो धीरे-धीरे आपके इम्यून सिस्टम (प्रतिरक्षा प्रणाली) को नष्ट करता है. ये अंततः एड्स का कारण बन सकता है, अगर उपचार न हो। कैसिया दालचीनी से एचआईवी -1 के खिलाफ लड़ाई में मदद मिलती है ,जो मानव में एचआईवी वायरस की सबसे आम प्रजाति है। एच.आई.वी. संक्रमित कोशिकाओं को देखने वाले एक प्रयोगशाला अध्ययन में पाया गया कि अध्ययन किए गए सभी 69 औषधीय पौधों में दालचीनी सबसे प्रभावी उपचार था। इन प्रभावों की पुष्टि के लिए मानव परीक्षणों की आवश्यकता है। टेस्ट-ट्यूब अध्ययनों से पता चला है कि दालचीनी मनुष्यों में एचआईवी वायरस के मुख्य प्रकार – एचआईवी -1 – से लड़ने में मदद कर सकती है।

पुरुष नपुंसकता में दालचीनी फायदेमंद है

ज़्यादातर नपुंसकता या तो मानसिक कारणों से होती है या फिर रक्त संचार में गड़बड़ी की वजह से. दालचीनी के सेवन से रक्त संचार सुचारू रूप से होता है और नपुंसकता ठीक हो सकती है. सम्भोग के दौरान शिश्न के उत्थान में कमी भी रक्त संचार में प्रॉब्लम की वजह से होती है, इसकी रोकथाम में दालचीनी के इस्तेमाल से फायदे देखे गए हैं. दालचीनी का काढ़ा शहद, अदरक और केसर के साथ मिलकर कुछ दिन लेने से नपुंसकता की समस्या में आराम होते देखा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here