जानिए पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पी.सी.ओ.एस.) से जुड़ी वैज्ञानिक जानकारी

0
49
PCOS

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पी.सी.ओ.एस.) एक हार्मोनल विकार है जो प्रजनन आयु की महिलाओं में आमतौर से पाया जाता है। पीसीओएस वाली महिलाओं में मासिक धर्म कम या लंबे समय तक हो सकता है । कभी-कभी इनमें एंड्रोजन (पुरुष हार्मोन) का स्तर भी बढ़ जाता है। इस बीमारी में अंडाशय तरल पदार्थ से भरी हुई कई छोटी थैलियाँ विकसित कर लेता हैं । साथ ही नियमित रूप से हर माह अंडाशय से निकलने वाले अंडों के नियम में अनियमितता आ जाती हैं। बीमारी का जल्दी पता चल जाये तो इलाज आसान हो सकता है। उपचार के साथ वजन घटाने के प्रयासों को करने से टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग जैसी दीर्घकालिक जटिलताओं के जोखिम को कम किया जा सकता है।

Table Of Contents
  1. पीसीओएस के लक्षण
  2. डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए
  3. पीसीओएस के कारण
  4. पीसीओएस के कारण होने वाली जटिलताएं
  5. पीसीओएस का निदान (डायग्नोसिस)
  6. पीसीओएस का इलाज
  7. जीवन शैली में परिवर्तन
  8. पीसीओएस से निपटने हेतु प्रयोग में आने वाली दवाएं
  9. पीसीओएस से निपटने हेतु जीवनशैली और घरेलू उपचार
  10. कब लें अपने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट

पीसीओएस के लक्षण

पीसीओएस के लक्षण अक्सर पहले मासिक धर्म के समय विकसित होते हैं। परंतु कभी-कभी पीसीओएस बाद में भी विकसित हो जाता है, उदाहरण के लिए, जरूरत से अधिक वजन बढ़ने के दौरान। पीसीओएस के लक्षण हर महिला में अलग-अलग प्रकार से दिखाई देते हैं। पीसीओएस का निदान तब किया जाता है जब किसी भी महिला को नीचे लिखे लक्षणों में से कम से कम दो लक्षणों का अनुभव हो-

अनियमित पीरियड्स

कम, अनियमित या लंबे समय तक मासिक धर्म का रहना, पीसीओएस के सबसे आम लक्षणों में से एक हैं । उदाहरण के लिए, यदि आपको वर्ष में 9 से कम अवधि के लिए मासिक धर्म हो, असामान्य रूप से अत्यधिक मासिक धर्म का होना, जिसकी कुल अवधि 35 दिनों से अधिक हो सकती है।

अतिरिक्त एण्ड्रोजन

पुरुष हार्मोन के ऊंचे स्तर के परिणामस्वरूप विभिन्न प्रकार के शारीरिक लक्षण दिखाई दे सकते हैं, जैसे कि चेहरे और शरीर पर अतिरिक्त बालों (हिर्सुटिज़्म) का होना, कभी-कभी गंभीर मुँहासों का आना और गंजापन।

पॉलिसिस्टिक अंडाशय

आपके अंडाशय आकार में बड़े हो सकतें हैं। नतीजतन, अंडाशय नियमित रूप से कार्य करने में विफल हो सकते हैं।

यदि आप शारीरिक रूप से मोटी हैं तो पीसीओएस के लक्षण आमतौर पर अधिक गंभीर होते हैं।

polycystic ovary syndrome

डॉक्टर को कब दिखाना चाहिए

यदि आपको अपने मासिक धर्म के विषय में चिंतित हैं अथवा यदि आप बांझपन का अनुभव कर रहीं हैं या यदि आपको अतिरिक्त एण्ड्रोजन के लक्षण दिखाई देने लगते हैं जैसे कि बिगड़ती हिर्सुटिज़्म, मुँहासे और गंजापन इत्यादि ऐसे समय में आपको बिना समय गवाएं तुरंत डॉक्टर से संपर्क साधना चाहिए।

पीसीओएस के कारण

पीसीओएस का सही कारण अभी सही तरह से ज्ञात नहीं है। परंतु फिर भी वे कारक जो पीसीओएस होने में मुख्य भूमिका निभा सकते हैं निम्नलिखित हैं –

अतिरिक्त इंसुलिन

इंसुलिन अग्न्याशय में उत्पादित एक हार्मोन है जो कोशिकाओं को आपके शरीर की प्राथमिक ऊर्जा आपूर्ति हेतु चीनी का उपयोग करने की अनुमति देता है। यदि आपकी कोशिकाएं इंसुलिन की क्रिया के प्रति प्रतिरोधी हो जाती हैं, तो आपके रक्त शर्करा का स्तर बढ़ सकता है और आपका शरीर अधिक इंसुलिन का उत्पादन कर सकता है। अतिरिक्त इंसुलिन एण्ड्रोजन उत्पादन को बढ़ा सकता है, जिससे ओव्यूलेशन में कठिनाई हो सकती है।

अतिरिक्त एण्ड्रोजन

अंडाशय असामान्य रूप से उच्च स्तर के एण्ड्रोजन का उत्पादन करते हैं, जिसके परिणामस्वरूप हिर्सुटिज़्म और मुँहासे होने लगते हैं।

निम्न-श्रेणी की आंतरिक सूजन

इस शब्द का प्रयोग संक्रमण से लड़ने के लिए सफेद रक्त कोशिकाओं के उत्पादन का वर्णन करने के लिए किया जाता है। शोध से पता चला है कि पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं में निम्न-श्रेणी की आंतरिक सूजन होती है जो पॉलीसिस्टिक अंडाशय को एण्ड्रोजन बनाने के लिए उत्तेजित करती है, जिससे हृदय और रक्त वाहिकाओं से संबंधित समस्याएं हो सकती हैं।

वंशागति

शोध बताते हैं कि कुछ जीन्स भी पीसीओएस से जुड़े हो सकते हैं।

पीसीओएस के कारण होने वाली जटिलताएं

पीसीओएस की जटिलताओं में शामिल हो सकते हैं:

  • टाइप 2 मधुमेह या प्रीडायबिटीज
  • स्लीप एप्निया
  • अवसाद, चिंता और खाने से संबंधित विकार
  • असामान्य गर्भाशय रक्तस्राव
  • गर्भाशय के अस्तर का कैंसर (एंडोमेट्रियल कैंसर)
  • मोटापा पीसीओएस से जुड़ा है और पीसीओएस विकार से संबंधित जटिलताओं को बढ़ा सकता है
  • बांझपन
  • गर्भकालीन मधुमेह या गर्भावस्था के कारण हुआ उच्च रक्तचाप
  • गर्भपात या समय से पहले शिशु का जन्म
  • गैर-मादक स्टीटोहेपेटाइटिस – जिगर में वसा के संचय के कारण जिगर के अंदर एक गंभीर सूजन
  • मेटाबोलिक सिंड्रोम – उच्च रक्तचाप, उच्च रक्त शर्करा, और असामान्य कोलेस्ट्रॉल या ट्राइग्लिसराइड के स्तर सहित ऐसी स्थितियों का एक समूह जो आपके हृदय रोग के जोखिम को और अधिक बढ़ा देता है

पीसीओएस का निदान (डायग्नोसिस)

पीसीओएस का निश्चित रूप से निदान करने के लिए कोई परीक्षण अभी उपलब्ध नहीं है। आपका डॉक्टर आपके मासिक धर्म और वजन में परिवर्तन सहित आपके चिकित्सीय इतिहास की चर्चा के साथ पीसीओएस के निदान का कार्य शुरू कर सकता है। साथ ही शारीरिक परीक्षण में अतिरिक्त बालों के विकास, इंसुलिन प्रतिरोध और मुँहासे के लक्षणों की जांच शामिल की जाती है। आपका डॉक्टर आपको निम्नलिखित में से कोई एक टेस्ट या एक से ज्यादा करवाने की सलाह दे सकता है:

रक्त परीक्षण

हार्मोन के स्तर को मापने के लिए आपके रक्त का विश्लेषण किया जा सकता है। यह परीक्षण मासिक धर्म संबंधी असामान्यताओं या पीसीओएस के दौरान होने वाले एण्ड्रोजन की अधिकता के संभावित कारणों को परिभाषित कर सकता है। ग्लूकोज और कोलेस्ट्रॉल तथा ट्राइग्लिसराइड के स्तर को मापने के लिए आपका डॉक्टर आपको अतिरिक्त रक्त परीक्षण करवाने के लिए कह सकता है।

अल्ट्रासाउंड

आपका डॉक्टर आपके अंडाशय की उपस्थिति और आपके गर्भाशय की परत की मोटाई की जांच करता है। जिसमें आपकी योनि (ट्रांसवेजिनल अल्ट्रासाउंड) में एक छड़ी जैसा उपकरण (ट्रांसड्यूसर) रखा जाता है। ट्रांसड्यूसर ध्वनि तरंगों का उत्सर्जन करता है जिन्हें कंप्यूटर स्क्रीन पर छवियों में अनुवादित किया जाता है।

पैल्विक परीक्षण

डॉक्टर आपके प्रजनन अंगों के द्रव्यमान, वृद्धि या अन्य असामान्यताओं के लिए उनका निरीक्षण करता है।

यदि इन परीक्षणों द्वारा पीसीओएस के होने की पुष्टि होती है तो निदान है, तो आपका डॉक्टर पीसीओएस संबंधित जटिलताओं को आंकने के लिए अतिरिक्त परीक्षणों को करवाने की मांग कर सकता है। उन परीक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  • ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया के लिए की जाने वाली स्क्रीनिंग
  • अवसाद और चिंता के लिए की जाने वाली स्क्रीनिंग
  • रक्तचाप, ग्लूकोज सहिष्णुता, और कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर की आवधिक जांच
polycystic ovarian syndrome

पीसीओएस का इलाज

पीसीओएस उपचार आपकी व्यक्तिगत चिंताओं को प्रबंधित करने पर भी केंद्रित होता है, जैसे कि बांझपन, हिर्सुटिज़्म, मुँहासे या मोटापा। परंतु पीसीओएस के विशिष्ट उपचार में जीवनशैली में बदलाव या दवाएं शामिल हो सकती है।

जीवन शैली में परिवर्तन

आपका डॉक्टर मध्यम व्यायाम गतिविधियों के साथ कम कैलोरी वाले आहार के माध्यम से वजन घटाने की हिदायत दे सकता है। यहां तक कि आपके वजन में आई मामूली कमी – उदाहरण के लिए, आपके शरीर के वजन का 5 प्रतिशत कम होना – भी आपकी स्थिति में सुधार कर सकता है। वजन कम करने से पीसीओएस संबंधित आपके डॉक्टर द्वारा सुझाई गई दवाओं की प्रभावशीलता भी बढ़ सकती है और बांझपन को रोकने में मदद मिल सकती है।

पीसीओएस से निपटने हेतु प्रयोग में आने वाली दवाएं

आपके मासिक धर्म चक्र को विनियमित करने के लिए, आपका डॉक्टर आपको निम्नलिखित सलाह दे सकता है:

प्रोजेस्टिन थेरेपी- हर एक से दो महीने में 10 से 14 दिनों तक प्रोजेस्टिन लेने से आपके पीरियड्स नियमित हो सकते हैं और एंडोमेट्रियल कैंसर से बचाव हो सकता है। प्रोजेस्टिन थेरेपी एण्ड्रोजन के स्तर में सुधार नहीं करती है और गर्भावस्था को भी नहीं रोकेगी। यदि आप भी गर्भधारण से बचना चाहती हैं तो प्रोजेस्टिन-ओनली मिनीपिल या प्रोजेस्टिन युक्त अंतर्गर्भाशयी डिवाइस एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

संयोजन जन्म नियंत्रण की गोलियाँ – एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टिन वाली गोलियां एण्ड्रोजन उत्पादन को कम करती हैं और एस्ट्रोजन को नियंत्रित करती हैं। अपने हार्मोन को विनियमित करने से एंडोमेट्रियल कैंसर का खतरा कम हो सकता है और असामान्य रक्तस्राव, बालों का अधिक विकास और मुंहासे भी ठीक हो सकते हैं। गोलियों के बजाय, आप एक त्वचा पैच या योनि की रिंग का उपयोग कर सकतीं हैं जिसमें एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन का संयोजन होता है।

आपको ओव्यूलेट करने में मदद करने के लिए, आपका डॉक्टर आपको निम्नलिखित सलाह दे सकता है:

मेटफॉर्मिन – टाइप 2 मधुमेह के लिए यह मौखिक दवा इंसुलिन प्रतिरोध में सुधार करती है और इंसुलिन के स्तर को कम करती है। यदि आप क्लोमीफीन का उपयोग करके गर्भवती नहीं होती हैं, तो आपका डॉक्टर मेटफॉर्मिन जोड़ने की सलाह दे सकता है। यदि आपको प्रीडायबिटीज है, तो मेटफॉर्मिन टाइप 2 डायबिटीज की प्रगति को धीमा कर सकता है और वजन घटाने में मदद कर सकता है।

क्लोमीफीन – यह मौखिक एंटी-एस्ट्रोजन दवा आपके मासिक धर्म चक्र के पहले भाग के दौरान ली जाती है।

लेट्रोज़ोल (फेमेरा)– यह स्तन कैंसर का उपचार, अंडाशय को उत्तेजित करने का काम कर सकता है।

गोनैडोट्रोपिन- ये हार्मोन दवाएं इंजेक्शन द्वारा दी जाती हैं।

अत्यधिक बालों के विकास को कम करने के लिए, आपका डॉक्टर आपको निम्नलिखित सलाह दे सकता है:

एफ्लोर्निथिन (वानीका) – यह क्रीम महिलाओं में चेहरे के बालों के विकास को धीमा कर सकती है।

गर्भनिरोधक गोलियाँ – ये गोलियां एण्ड्रोजन उत्पादन को कम करती हैं जो अत्यधिक बालों के विकास का कारण बन सकती हैं।

इलेक्ट्रोलिसिस – प्रत्येक बाल के कोष में एक छोटी सुई डाली जाती है। सुई द्वारा विद्युत प्रवाह करके उस कोष को नष्ट कर दिया जाता है।

स्पिरोनोलैक्टोन (एल्डैक्टोन) – यह दवा त्वचा पर एण्ड्रोजन के प्रभाव को रोकती है। परंतु स्पिरोनोलैक्टोन जन्म दोष पैदा कर सकता है, इसलिए इस दवा को लेते समय प्रभावी गर्भनिरोधक लेने की सलाह दी जाती है। यदि आप गर्भवती हैं या गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो इसको ना लेने की सलाह दी जाती है।

पीसीओएस से निपटने हेतु जीवनशैली और घरेलू उपचार

कार्बोहाइड्रेट सीमित करें- कम वसा वाले, उच्च कार्बोहाइड्रेट वाले आहार इंसुलिन के स्तर को बढ़ा सकते हैं। यदि आप पीसीओएस से पीड़ित हैं तो अपने डॉक्टर से कम कार्बोहाइड्रेट वाले आहार के बारे में पूछें। ऐसे कार्बोहाइड्रेट चुनें, जो आपके रक्त शर्करा के स्तर को अधिक धीरे-धीरे बढ़ाते हों।

स्वस्थ वजन बनाए रखें- वजन घटाने से इंसुलिन और एण्ड्रोजन का स्तर कम हो सकता है और ओव्यूलेशन सही हो सकता है। वजन नियंत्रण से संबंधित जानकारी के बारे में अपने डॉक्टर से पूछें और वजन घटाने के लक्ष्यों तक पहुंचने में सहायता के लिए नियमित रूप से आहार विशेषज्ञ से मिलें।

सक्रिय रहें – व्यायाम, रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है। यदि आप पीसीओएस से पीड़ित हैं , तो अपनी दैनिक गतिविधि में वृद्धि करना और नियमित व्यायाम करना, इंसुलिन प्रतिरोध का इलाज कर सकता है, कभी कभी तो यह उपचार इसे रोकने में भी कारगर होता है। आपको अपना वजन नियंत्रण में रखने और मधुमेह को बढ़ने से रोकने का प्रयास करते रहना चाहिए।

polycystic ovary disease

कब लें अपने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट

आपको, महिला प्रजनन चिकित्सा (स्त्री रोग विशेषज्ञ) विशेषज्ञ, हार्मोन विकारों के विशेषज्ञ (एंडोक्रिनोलॉजिस्ट) या बांझपन विशेषज्ञ (प्रजनन एंडोक्रिनोलॉजिस्ट) के पास भेजा जा सकता है। अपने डॉक्टर से अपॉइंटमेंट लेने में आपकी सहायता के लिए यहां कुछ जानकारी दी गई है। आप क्या कर सकतीं हैं –

  • हाल के जीवन में आए किसी भी प्रकार के परिवर्तन अथवा तनाव सहित प्रमुख व्यक्तिगत और चिकित्सीय एवं अन्य स्थितियों की सूची बनाएं
  • अपने डॉक्टर से पूछने के लिए प्रश्न तैयार करें
  • अपने मासिक धर्म चक्र का रिकॉर्ड रखें
  • सूची बनाएं उन सभी लक्षणों की जिन्हें आप महसूस करतीं हैं जिसने यह भी शामिल करें की आपने संबंधित लक्षणों को कितनी अवधि तक के लिए महसूस किया।
  • आपके द्वारा ली जाने वाली सभी दवाओं, विटामिन और सप्लीमेंट्स की सूची खुराक सहित बनाएं

कुछ बुनियादी सवाल जो आपको अपने डॉक्टर से पूछना चाहिए, में शामिल हैं:

  • मेरे लक्षणों या गर्भ धारण करने की क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए आप किन दवाओं की सलाह देते हैं?
  • मेरे लक्षणों या गर्भ धारण करने की क्षमता को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए आप जीवनशैली में किस प्रकार के बदलाव की सलाह देते हैं?
  • आप किन परीक्षणों की सलाह देते हैं?
  • पीसीओएस मेरे गर्भवती होने की क्षमता को कैसे प्रभावित कर सकता है?
  • स्वयं से संबंधित अन्य किसी भी प्रकार की चिकित्सीय स्थितियां को अपनी डॉक्टर से साझा करें।
  • अपनी अपॉइंटमेंट के दौरान, अन्य प्रश्नों को पूछने में संकोच न करें क्योंकि वे आपके स्वास्थ्य से संबंधित हैं और महत्वपूर्ण हैं।

आपका डॉक्टर आपसे किस प्रकार के प्रश्न पूछ सकता है

  • आपका लास्ट पीरियड कब था?
  • क्या आपने पहली बार पीरियड्स शुरू होने के बाद से वजन बढ़ाया है? आपने कितना वजन बढ़ाया, और यह कब बढ़ाता गया?
  • क्या आपके लक्षणों में कुछ सुधार हुआ है या ये समय के साथ बिगड़ रहें है?
  • आप किस प्रकार के लक्षणों को महसूस करते हैं तथा उनकी अवधि क्या है?
  • आपके लक्षण कितने गंभीर हैं?
  • प्रत्येक लक्षण कब शुरू हुआ?
  • क्या आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, या होना चाहती हैं?
  • क्या आपकी मां या बहन कभी पीसीओएस से पीड़ित थीं, अथवा हैं।

Leave a Reply