Home स्वास्थ्य जानिए पिस्ते से मिलने वाले विज्ञान द्वारा सत्यापित 10 स्वास्थ्य लाभ

जानिए पिस्ते से मिलने वाले विज्ञान द्वारा सत्यापित 10 स्वास्थ्य लाभ

0
24
pistachio

पिस्ता हमारे शरीर के लिए एक बहुत अच्छा सूखा फल होता है। यह एक प्रकार का मेवा होता है जो हमें पेड़ों के माध्यम से प्राप्त होता है। पिस्ता प्रोटीन का भी एक अच्छा माध्यम है और इसके सेवन करने से हमें एंटी-ऑक्सीडेंट तथा फाइबर भी उचित मात्रा में प्राप्त होतें हैं। शोध के माध्यम से ऐसा देखा गया है कि जो लोग पिस्ता का सेवन कई सालों से कर रहे हैं उनके अंदर इसका सेवन करने से कई प्रकार के बदलाव महसूस किए गए हैं। इस दिशा में किए गए शोध हमें यह भी बताते हैं कि पिस्ता का सेवन कई हजार वर्षों से मनुष्य करता हुआ आ रहा है। आज के समय में लोग इसका सेवन कई प्रकार से करते हैं जिसमें से मुख्य रूप से इसका सेवन मीठे पदार्थों के अंदर डाल कर किया जाता है जिसमें से आइसक्रीम सबसे प्रमुख है। नीचे विज्ञान के द्वारा सत्यापित किए गए 10 स्वास्थ्य लाभों का वर्णन किया गया है, जो पिस्ते के सेवन से प्राप्त होतें हैं

Table Of Contents
  1. पिस्ते में कैलोरी की मात्रा में अत्याधिक कम होती है
  2. पिस्ता आंखों के लिए अत्यधिक लाभकारी होता है
  3. पिस्ता शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है
  4. पिस्ता दिल के स्वास्थ्य के लिए अति महत्वपूर्ण है
  5. पिस्ते के अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा मौजूद होती है
  6. पिस्ते का सेवन वजन कम करने में लाभदायक होता है
  7. पिस्ता कोलोन कैंसर के खतरे को कम करता है
  8. खून के अंदर शुगर का उचित नियंत्रण प्राप्त करने में पिस्ता सहायता प्रदान करता है
  9. आंतों के स्वास्थ्य के लिए पिस्ते का सेवन अत्यधिक लाभकारी होता है
  10. पिस्ता पोषक तत्वों से भरपूर होता है
  11. पिस्ता से जुड़ी कुछ भ्रांतियां

पिस्ते में कैलोरी की मात्रा में अत्याधिक कम होती है

जिन खाद्य पदार्थों को अत्यधिक कम कैलोरी का माना जाता है उनमें से पिस्ता भी शामिल है। उपलब्ध सूखे मेवों के अंदर यह सबसे कम कैलोरी का खाद्य पदार्थ होता है। इसका अर्थ यह है कि जो लोग इसका प्रयोग अपनी निर्धारित की गई कैलोरी लेने की मात्रा के अनुसार कर सकते हैं उन्हें इसके प्रयोग सेज्यादा कैलोरी के कारण वजन में होने वाली वृद्धि का सामना भी नहीं करना पड़ेता। एक औंस मकाडेमिया की गिरी के अंदर लगभग 204 कैलोरी विद्यमान होती हैं, जबकि एक औंस अखरोट की गिरी लगभग 196 कैलोरी अपने अंदर समाहित की हुई होती है और अगर इन दोनों की तुलना में देखा जाए तो एक पिस्ते के अंदर लगभग 159 कैलोरी होती हैं। जो कि इन दो अन्य गिरी की तुलना में कम है। जिससे यह समझा जा सकता है कि पिस्ता कम कैलोरी वाला सूखा मेवा है, जो कि हमारे लिए अत्यधिक लाभकारी सिद्ध होता है।

पिस्ता आंखों के लिए अत्यधिक लाभकारी होता है

पिस्ता में पाए जाने वाला एंटी-ऑक्सीडेंट लुटेन और जैकसामेथीन हमारी आंखों के स्वास्थ्य के लिए अत्यधिक लाभकारी होते हैं। पिस्ता इन दोनों तत्वों की मात्रा से भरपूर होता है। अमेरिकन ऑप्टोमेट्रिक एसोसिएशन के अनुसार यह दोनों एंटी ऑक्सीडेंट आंखों के अंदर पैदा होने वाली कई बीमारियों का खतरा कम कर देते हैं। बढ़ती उम्र के साथ आंखों के अंदर उत्पन्न होने वाली कई प्रकार की बीमारियां जिसमें से मुख्य रूप से शामिल है मैक्यूलर, डीजनरेशन और मोतियाबिंद आदि का खतरा काफी हद तक कम कर देते हैं। मैकुलर डिजनरेशन और मोतियाबिंद अमेरिका के अंदर लोगों की आंखों में होने वाली बीमारियों में मुख्य रूप से शामिल है। जिसके कारण हर साल काफी लोग अंधेपन का शिकार हो जाते हैं। एक अच्छा खानपान का महत्व बीमारियां हो जाने के उपरांत पता चलता है। अच्छी और स्वास्थ्यवर्धक भोजन प्रक्रिया अपनाने से हम कई बीमारियों से बच सकतें हैं। पिस्ता भी अच्छी भोजन प्रणाली का एक प्रकार है, जो एक स्वास्थ्यवर्धक खाद्य पदार्थ के रूप में जाना जाता है और आंखों में होने वाली कई प्रकार की बीमारियों से यह आपका बचाव करने में सहायता प्रदान करता है।

पिस्ता शाकाहारी लोगों के लिए प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है

पिस्ता का सेवन करने से व्यक्ति को प्रोटीन की निर्धारित मात्रा प्राप्त हो जाती है। पिस्ते के अंदर प्रोटीन उचित मात्रा में उपलब्ध होता है और यह रोजाना के रूप में ली जाने वाले प्रोटीन की मात्रा को भी पूरा करता है। पिस्ते की एक औंस मात्रा के अंदर लगभग 6 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है। अतः यह कहा जा सकता है कि पिस्ता प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत है। पिस्ते के अंदर कुल वजन का 21% प्रोटीन होता है। यह उन लोगों के लिए काफी लाभदायक सिद्ध होता है, जो लोग शाकाहारी होते हैं या फिर प्रोटीन की जरूरत को पूरा करने के लिए केवल प्राकृतिक रूप से मिलने वाले प्रोटीन पर आश्रित होते हैं। पिस्ते के अंदर काफी उच्च स्तर में अमीनो एसिड भी पाए जाते हैं। अमीनो एसिड हमारे शरीर के अंदर प्रोटीन के उत्तम प्रकार से निर्वहन का कार्यभार देखते हैं और इन्हीं के माध्यम से हमारे शरीर की पाचन प्रणाली प्रोटीन का उपयोग हमारे शरीर के कई अंगों का निर्माण करने में कर पाती है। जब पिस्ते को अन्य सूखे मेवों के साथ तुलनात्मक रूप से देखा जाता है जिसमें बादाम, चिलगोजा, अखरोट और कई अन्य प्रकार के सूखे मेवे शामिल हैं तो इनमें से पिस्ता सबसे उत्तम प्रकार का सूखा मेवा जान पड़ता है।

pistachio benefits

पिस्ता दिल के स्वास्थ्य के लिए अति महत्वपूर्ण है

जो महिलाएं नियमित रूप से इस सूखे मेवे का सेवन करती हैं उनके अंदर हृदय से जुड़ी हुई बीमारियां काफी हद तक कम होती देखी गयी हैं। साथ ही यह महिलाओं को हृदय रोगों के संदर्भ में एक सुरक्षा कवच प्राप्त कराता है। एक 12 साल के लंबे अध्ययन के माध्यम से जिसे सन् 2001 में प्रकाशित किया गया था‌। इस अध्ययन में इस बात का खुलासा किया गया कि किस प्रकार सूखे मेवों का सेवन करने से अन्य प्रकार की बीमारियों के कारण होने वाली मौत से बचाव किया जा सकता है। यह अध्ययन इन दोनों महत्वपूर्ण तथ्यों के बीच में एक समावेश होने की ओर भी इशारा भी करता है। पिस्ता कई रूप से हृदय से जुड़ी बीमारियों में राहत प्रदान करता है। यह हमारे शरीर के अंदर से कोलेस्ट्रोल का लेवल घटाने में सहायता प्रदान करता है और हमारे रक्तचाप को भी नियंत्रित करने में मदद प्रदान करता है। 28 लोगों के एक छोटे समूह पर किए गए अध्ययन के अनुसार यह देखा गया कि जब इस समूह ने लगातार पिस्ते का सेवन किया तो उनके हृदय का स्वास्थ चमत्कारिक रूप से उत्तम हो गया। इस अध्ययन से इस बात का भी पता चलता है कि पिस्ते का नियमित रूप से सेवन हृदय से जुड़ी बीमारियों को कम करने में सहायता करता है। इसी संदर्भ में किए गए एक अध्ययन से इस बात का पता चलता है कि पिस्ते के सेवन से हमारे शरीर के अंदर नुकसान पहुंचाने वाले कोलेस्ट्रोल का स्तर घट जाता है। सन् 2015 में 21 अध्ययनों के ऊपर एक व्यापक रूप से दृष्टि डालने पर पता चला कि सूखे मेवों का नियमित रूप से सेवन हमारे रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद प्रदान करता है और यह उन लोगों के लिए अत्यधिक फायदेमंद है जिनके अंदर टाइप-2 मधुमेह की कोई समस्या होती है। सभी सूखे मेवो में पिस्ता सबसे शक्तिशाली और लाभकारी गिरी है जो हमें उच्च रक्तचाप और निम्न रक्तचाप की समस्या से छुटकारा दिलवाने में हमारी मदद करता है।

पिस्ते के अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा मौजूद होती है

एंटी-ऑक्सीडेंट की हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी होते हैं। यह एक इस प्रकार का तत्व है जो हमारे स्वास्थ्य की देखरेख में एक बहुत जरूरी महत्वपूर्ण भूमिका अदा करता है। इसके सेवन के कारण हमारे शरीर के अंदर से कैंसर का खतरा कम होता है तथा यह कई प्रकार की अन्य बीमारियों से भी हमारे शरीर को बचाने में सफल सिद्ध होता है। एंटी-ऑक्सीडेंट के कारण हमारे शरीर के उत्तक कई प्रकार के गंभीर रोगों के द्वारा हमला किए जाने पर अपने आप को बचाने में सफल साबित होते हैं। सूखे मेवे और बीज कई प्रकार के एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं। लेकिन पिस्ता एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसके अंदर एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा किसी अन्य खाद्य पदार्थ की तुलना में सबसे अधिक होती है। इस गिरी को अन्य सूखी गिरियों की तुलना में अधिक लाभदायक समझा जाता है। कई अध्ययनों के माध्यम से ऐसा पता चलता है कि पिस्ता के अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट के कई प्रकार मौजूद होते हैं तथा इनका स्तर अन्य सूखे मेवों की तुलना में पिस्ता के अंदर अधिक होता है। जो अन्य प्रकार के एंटी-ऑक्सीडेंट पिस्ता के अंदर पाए जाते हैं वह निम्नलिखित हैं:-

  • व्हाय-टोकॉफरोल
  • फाइटोस्ट्रोल
  • जेंडरफाइल कैरोटुनाइट

यह सभी तत्व एंटी-ऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं तथा इनके कारण हमारे शरीर के अंदर से कई प्रकार की संक्रमण पैदा करने वाले बैक्टीरिया समाप्त हो जातें हैं। एक अध्ययन के अनुसार जिसके अंदर लगभग 28 लोग शामिल किए गए थे और उन लोगों का कोलेस्ट्रॉल अत्यधिक उच्च स्तर पर था। उन लोगों ने एक से दो (नियमित रूप से निर्धारित की गई पिस्ता की मात्रा) पिस्ते का सेवन 4 हफ्तों तक किया और इसके उपरांत जब उनके ऊपर अध्ययन किया गया तो यह पाया गया कि उनके अंदर एंटी-ऑक्सीडेंट u10 का स्तर काफी हद तक बढ़ गया था तथा उन लोगों के अंदर ए-कैरोटीन और बी-कैरोटीन का स्तर भी उन लोगों से काफी अधिक पाया गया जो पिस्ता का सेवन बिल्कुल नहीं करते हैं।

पिस्ते का सेवन वजन कम करने में लाभदायक होता है

अगर हम पिस्ते का सेवन रोजाना नियमित रूप से करते हैं तो यह हमारे वजन को बढ़ने से रोकता है। इस प्रकार पिस्ते का सेवन हमारे लिए तथा हमारे शरीर के वजन के लिए कई रूप से लाभदायक सिद्ध होता है। परंतु पिस्ता उन लोगों के लिए काफी लाभदायक सिद्ध हो सकता है जो अपना वजन कम करना चाहते हैं या फिर ऐसे लोग जो अपना वजन एक निश्चित प्रक्रिया के माध्यम से संतुलित रूप में स्थिर रखना चाहते हैं। इसके लिए उन्हें पिस्ते का धन्यवाद करना चाहिए, क्योंकि पिस्ते में एनर्जी का स्तर काफी कम होता है और इसके अंदर फाइबर और प्रोटीन की मात्रा काफी अधिक होती है, जो वजन घटाने में काफी लाभदायक मानी गई है। सन् 2012 में किए गए एक अध्ययन के अनुसार कुछ लोगों ने 1.87 ओंस पिस्ते का सेवन लगातार 12 हफ्तों तक किया। जब इन लोगों के ऊपर अध्ययन किया गया तो यह मालूम हुआ कि इन लोगों के वजन में काफी अंतर पड़ा। जिन लोगों ने पिस्ते के बजाय इससे बने अन्य पदार्थों का सेवन किया तो उन लोगों के भी वजन के अंदर कमी देखी गई। छिलके वाले पिस्ते का सेवन भी वजन कम करने में सहायता प्रदान करता है। इसके अपने मनोवैज्ञानिक लाभ भी होते हैं। जब हम छिलका उतारकर पिस्ता का सेवन करते हैं तो यह हमारे मस्तिष्क को इस बात का एहसास दिलाने में सहायता प्रदान करता है कि हमने कितने पिस्तों सेवन कर लिया है जिससे यह एक निश्चित मात्रा में ही हमारे पाचन तंत्र तक पहुंच पाती है।

pistachio benefits

पिस्ता कोलोन कैंसर के खतरे को कम करता है

पिस्ते का नियमित रूप से सेवन हमारे शरीर के अंदर से कई प्रकार के कैंसर के होने के खतरों को भी घटाता है, जिसमें से प्रमुख कैंसर है कॉलन कैंसर। इसके पीछे का प्रमुख कारण है पिस्ते में मौजूद फाइबर की मात्रा। वैज्ञानिकों ने 2017 की रिसर्च में किए गए अध्ययनों के आधार पर इस बात का वर्णन किया कि किस प्रकार पिस्ता तथा अन्य सूखे मेवे हमारे शरीर को लाभ पहुंचाते हैं तथा किस प्रकार यह कोलोन कैंसर से हमारा बचाव करने में सहायता प्रदान करते हैं।

खून के अंदर शुगर का उचित नियंत्रण प्राप्त करने में पिस्ता सहायता प्रदान करता है

पिस्ता हमारे शरीर के अंदर शुगर के उतार-चढ़ाव को नियंत्रित करने में हमारी सहायता करता है। पिस्ता एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसका ग्लासमिक इंडेक्स बहुत ही निम्न होता है। इसी कारण पिस्ते का सेवन करने के उपरांत यह हमारे खून के अंदर मौजूद शुगर के स्तर को अचानक से नहीं बढ़ाता। अगर किसी ने पिस्ते का सेवन किया है तो उनके खून के अंदर मधुमेह का स्तर धीरे-धीरे और अंतराल पर बढ़ता है। 10 लोगों पर किए गए एक छोटे से अध्ययन के अनुसार पिस्ते का सेवन हमारे खून के अंदर से शुगर की मात्रा को कम करने में हमारी सहायता करता है। जब पिस्ते का सेवन एक कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन के साथ किया जाता है जैसे कि सफेद मैदे की ब्रेड तो यह हमारे शरीर के अंदर खून का मधुमेह स्तर नियंत्रित करने में सहायता प्रदान करता है। इस अध्ययन से हमें यह जानकारी मिलती है कि हमारे शरीर के अंदर मधुमेह का खतरा कम करने के लिए हमें नियमित रूप से पिस्ते का सेवन करना चाहिए। ऐसे लोग जिन्हें पहले से ही मधुमेह की समस्या है उनके ऊपर किए गए एक अध्ययन के अनुसार अगर वह लोग पिस्ते का सेवन करते हैं तो वह लोग अपने खून के अंदर मधुमेह के स्तर को नियंत्रित अवस्था में रख सकते हैं। साथ ही उन लोगों के अंदर उच्च रक्तचाप, मोटापा और शरीर के अंदर होने वाले अंदरूनी संक्रमण जैसी परेशानियों से भी बचाने में मदद मिलती है।

आंतों के स्वास्थ्य के लिए पिस्ते का सेवन अत्यधिक लाभकारी होता है

सभी सूखे मेवे फाइबर से भरपूर होते हैं। इनके अंदर रेशों की मात्रा अत्याधिक रूप से पाई जाती है और इसी के परिणाम स्वरूप यह हमारे पाचन तंत्र के लिए बहुत लाभकारी माने जाते हैं। यह पाचन तंत्र के अंदर मौजूद प्रणाली के माध्यम से, खाए गए भोजन को पचाने में सहायता प्रदान करते हैं तथा कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाते हैं। इसमें एक प्रकार का रेशा होता है जिसे प्रोबायोटिक्स के नाम से जाना जाता है और यही रेशा हमारी आंत के अंदर अच्छे बैक्टीरिया को उत्पन्न करने में सहायक होता है। जब हम अच्छे बैक्टीरिया युक्त पदार्थ का सेवन करते हैं तो यह हमारी पाचन तंत्र के अंदर जाकर आपस में क्रिया के माध्यम से अपनी संख्याओं का निर्माण करते हैं और वहां पर मौजूद बुरे बैक्टीरिया को खत्म करने में सफल सिद्ध होते हैं। 2012 में किए गए एक छोटे से अध्ययन के अनुसार पिस्ते का सेवन करने से हमारी पाचन तंत्र के अंदर अच्छे बैक्टीरिया का निर्माण होता है जिसकी वजह से हमारी पाचन प्रणाली उचित रूप से कार्य करने में सफल हो पाती है। इस अध्ययन के अंदर यह भी देखा गया कि जिन भी लोगों ने सामान्य भोजन ग्रहण किया तथा उस भोजन के साथ 3 औंस पिस्ते का सेवन किया, तो उन लोगों के अंदर पाचन तंत्र उचित रूप से कार्य करता हुआ पाया गया। इस अध्ययन के अंदर उन लोगों के मल का एक नमूना लिया गया तथा इस नमूने का अच्छे प्रकार से शोध करने के बाद यह पाया गया कि जिन लोगों ने 3 औंस तक नियमित रूप से पिस्ता का सेवन किया था, उन लोगों के पांचन तंत्र के अंदर मौजूद अच्छे बैक्टीरिया का निर्माण अच्छे प्रकार से हुआ तथा जिन लोगों ने बादाम का सेवन किया था उन लोगों के अंदर उत्पन्न होने वाले अच्छे बैक्टीरियाका स्तर पिस्ता सेवन करने वालों के लोगों की तुलना में कम रहा।

पिस्ता पोषक तत्वों से भरपूर होता है

पिस्ता पोषक तत्वों से भरपूर होता है इसके अंदर कई ऐसे जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे लिए बहुत फायदेमंद होते हैं तथा इसके अंदर पाए जाने वाले यह पोषक तत्व किसी अन्य खाद्य पदार्थ में बड़ी मुश्किल से मिल पाते हैं। यूनाइटेड स्टेट डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर के द्वारा जारी किए गए एक लेख के अनुसार इसके अंदर लगभग 6 ग्राम प्रोटीन की मात्रा उपलब्ध होती है। वसा का स्तर इसके अंदर लगभग 12.85 ग्राम के आस-पास होता है। कार्बोहाइड्रेट की मात्रा 7.70 ग्राम के आसपास होती है। रेशे की मात्रा पिस्ता के अंदर लगभग 3 ग्राम के आसपास होती है। शुगर की मात्रा 2.17 ग्राम के आसपास पाई जाती है। मैग्नीशियम 34 मिलीग्राम के आसपस अंदर मौजूद होता है। पोटेशियम की मात्रा पिस्ते के अंदर 291 मिलीग्राम के लगभग मौजूद रहती है। फास्फोरस की मात्रा 139 मिलीग्राम के आसपास पाई जाती है तथा विटामिन बी-6 इसके अंदर 0.482 मिलीग्राम के आस-पास पाया जाता है। थीयामीन नाम का पदार्थ इसके अंदर 0.247 मिलीग्राम के आस-पास पाया जाता है। पिस्ते की निर्धारित की गई एक निश्चित मात्रा का सेवन करने वाले को विटामिन बी-6 की रोज ली जाने वाली निर्धारित मात्रा का 37% उपलब्ध करवाती है। जो कि एक व्यस्क के अंदर 1.3 मिलीग्राम निर्धारित किया गया है। विटामिन बी-6 हमारे शरीर के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इसका सबसे महत्वपूर्ण कार्य हमारे शरीर के अंदर प्रोटीन का विस्थापन करना है और प्रोटीन के द्वारा शरीर के अंगों के उचित विकास करने में सहायता प्रदान करना भी है।

pistachio benefits

पिस्ता से जुड़ी कुछ भ्रांतियां

कुछ लोग कई अंधविश्वास और भ्रांतियों के कारण पिस्ता का सेवन करने से बचते हैं। इसी प्रकार की कुछ भ्रांतियां निम्नलिखित है

पिस्ते के अंदर नमक की मात्रा या फिर सोडियम की मात्रा अधिक होती है

यदि हम पिस्ता का सेवन भूनने के बाद करते हैं तो यह हमारी सोडियम की मात्रा बढ़ा सकता है। क्योंकि पिस्ते को भूनने के लिए उसके अंदर नमक की मात्रा को मिलाना पड़ता है और कई बार ऐसा देखा गया है कि यह नमक की मात्रा निर्धारित की गई मात्रा से भी अधिक हो जाती है। इसलिए यह सलाह दी जाती है कि हमें बिना भूने पिस्ता का सेवन करना चाहिए जिसमें कि सोडियम की मात्रा काफी कम होती हैं।

पिस्ते का सेवन करने से आप का पाचन तंत्र बिगड़ जाता है

पिस्ता एक अत्यंत लाभकारी खाद्य पदार्थ है। जो लोग अपने जीवन के अंदर अच्छी और स्वास्थ्यवर्धक भोजन प्रणाली को अपनाना चाहते हैं उनके लिए पिस्ता एक महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ है। जब तक कोई भी पिस्ते को एक नियंत्रित और उत्तम भोजन प्रणाली के माध्यम से ग्रहण करता है तो यह है स्वास्थ्यवर्धक और फायदेमंद दोनों ही होता है। यदि हम इसका सेवन जरूरत से अधिक करना शुरू कर देते हैं, तो यह हमारे लिए कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं खड़ी कर सकता है। इसलिए ऐसी सलाह दी जाती है कि जब भी आप पिस्ते का सेवन करें तो आप इसकी नियमित और नियंत्रित मात्रा का ध्यान रखें। एक औंस से लेकर डेढ़ औंस तक की मात्रा हमारे लिए स्वास्थ्यवर्धक श्रेणी में आती है और इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि जब हम अपना दोपहर का भोजन कर रहे हो तो पिस्ते का सेवन ना करें।

पिस्ता आपको मोटापा उपहार स्वरूप देता है

बहुत से लोग पिस्ते का सेवन इस वजह से नहीं करते हैं कि उन्हें ऐसा लगता है कि पिस्ते का सेवन करने से उनका वजन अत्यधिक बढ़ जाएगा साथ ही उनका ऐसा मानना है कि पिस्ते का सेवन करने से उनके वसा का स्तर बढ़ जाएगा जो उनके वजन को बढ़ाने के लिए एक प्रमुख कारण हो सकता है। जब हम पिस्ते का सेवन एक स्वास्थ्यवर्धक भोजन के रूप में करते हैं तथा इसके साथ अन्य प्रकार के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाने वाले भोज्य पदार्थों पर नियंत्रण प्राप्त कर लेते हैं तो पिस्ता हमारा वजन बढ़ाने के बजाय इसे घटाने में हमारी सहायता करता है।

NO COMMENTS

Leave a Reply