जानिए श्री रामकृष्ण परमहंस के शिष्य स्वामी श्री अद्भुतानंद की अद्भुत जीवन गाथा

0
32
ramkrishna paramhansa

लाटू, श्री रामकृष्ण का सबसे बड़े चमत्कार थे,” ऐसा एक बार स्वामी विवेकानंद ने स्वामी अद्भुतानंद के संदर्भ में कहा था। उन्होंने बताया था कि “किसी भी प्रकार के औपचारिक शिक्षा ना होने के बावजूद भी स्वामी अद्भुत आनंद ने अपना संपूर्ण ज्ञान केवल गुरु के स्पर्श मात्र से प्राप्त किया था।” हां, ये कथन लाटू महाराज, जिन्हें बाद में स्वामी अद्भुतानंद के नाम से जाना गया, के बारे में ही है। ऐसा कहा जाता है कि एक बार श्री रामकृष्ण ने युवा लाटू को पढ़ना-लिखना सिखाने का प्रयास किया। लेकिन बार-बार कोशिश करने के बावजूद लाटू ने बंगाली वर्णमाला का उच्चारण इतना विकृत कर दिया कि गुरु ने निराशा के कारण लाटू को शिक्षित करने का प्रयास ही छोड़ दिया। लेकिन इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि लाटू ने किताबी पढ़ाई नहीं की थी। पुस्तकें हमें परोक्ष रूप से ज्ञान प्राप्त करवाती हैं जबकि गुरु के समक्ष मुझे सीधे तौर पर शिक्षा प्राप्त हो रही थी ऐसा माना था स्वामी अद्भुतानंद का। उनके इतने महान विचारों का ही परिणाम था कि बड़े-बड़े विद्वान और दार्शनिक उनके होठों से गिरे हुए ज्ञान के शब्दों को सुनने के लिए उनके चरणों में गूंगे बनकर बैठे रहते थे। श्री रामकृष्ण कहते थे कि जब ज्ञान रुपी प्रकाश की किरण प्रकाश के महान स्रोत से आती है, तो पुस्तकों से प्राप्त होने वाली शिक्षा अपना मूल्य खो देती है। श्री रामकृष्ण का अपना जीवन इस तथ्य की गवाही देता है। इस कथन को कुछ हद तक श्री राम कृष्ण के शिष्य स्वामी अद्भुतानंद के जीवन में भी देखा जा सकता है।

स्वामी अद्भूतानंद का प्रारंभिक जीवन

स्वामी अद्भूतानंद का प्रारंभिक नाम रखतुराम था। उनका जन्म बिहार के छपरा जिले के एक गाँव में हुआ था। उनका प्रारंभिक जीवन अंधकार में डूबा हुआ था। उस समय उन्हें ऐसे स्थान से बाहर निकालना अत्यंत मुश्किल था। एक सन्यासी के रूप में वे अपने घर और संबंधों से संबंधित मामलों में बहुत शांत रहते थे। अगर कोई उनसे उनके शुरुआती दिनों के बारे में कोई सवाल पूछता तो वह सीधे तौर पर जवाब देते, “भगवान के बारे में सभी विचार छोड़कर, क्या आप इन छोटी-छोटी बातों में व्यस्त रहेंगे?” और फिर वह इतना गंभीर हो जाते कि प्रश्नकर्ता मौन हो जाता। एक बार एक भक्त ने लाटू महाराज की जीवनी लिखने की इच्छा व्यक्त की। इस पर उन्होंने आपत्ति जताते हुए कहा: “मेरे जीवन को लिखने का क्या फायदा? यदि आप एक जीवनी लिखना चाहते हैं, तो बस गुरु और स्वामी विवेकानंद की जीवनी लिखें। इससे दुनिया का भला होगा।” इस प्रकार उनकी विनम्रता ने किसी को भी उनकी आंतरिक महानता तक पहुंचने की अनुमति नहीं दी और न ही लोगों को उनके जीवन की कई घटनाओं से अवगत कराया जो अन्यथा जनता के लिए बहुत रुचिकर और लाभदायक होती। लाटू महाराज के अनपढ़ क्षणों में उनके होठों से गिरने वाले छोटे विवरणों से यह ज्ञात होता था कि उनके माता-पिता बहुत गरीब थे – इतने अधिक कि वे अपनी लगातार कड़ी मेहनत के बावजूद मुश्किल से परिवार का गुजारा कर पाते थे।

परिस्थितियों से मजबूर पैतृक घर को छोड़कर, कलकत्ता आना

रखतुराम मुश्किल से पाँच साल के थे, जब उन्होंने अपने माता-पिता दोनों को खो दिया। उसके बाद उनके चाचा ने उनकी देखभाल की। दुर्भाग्य के रूप में, रखतुराम के चाचा के पास भी आर्थिक रूप से समृद्ध नहीं थे और परिस्थितियों से मजबूर होकर एक समय ऐसा आया जब उन्हें अपने पैतृक घर को छोड़कर आजीविका के साधन के लिए कलकत्ता आना पड़ा। रखतुराम भी उनके साथ थे, और कलकत्ता में कुछ दिनों के कठिन संघर्ष के बाद रामचंद्र दत्त के घर में चौकीदार के रूप में रोजगार मिला, जो श्री रामकृष्ण के भक्त थे। कभी-कभी बुराई से ही अच्छाई आती है। घोर गरीबी ने रखतुराम को कलकत्ता पहुँचा दिया, लेकिन वहाँ उन्हें एक ऐसे व्यक्ति के घर में आश्रय मिला, जिसने बाद में उनके लिए एक नई दुनिया को खोलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

मेहनती और वफादार रखतुराम

एक नौकर के रूप में रखतुराम मेहनती और वफादार थे, लेकिन उनमें इतनी कम उम्र में भी आत्म-सम्मान की गहरी भावना थी। एक बार रामचंद्र के एक मित्र ने संदेह का संकेत दिया कि रखतुराम उसे विपणन के लिए दी गई राशि में से कुछ पैसे चुरा लेते हैं। नन्हें रखतुराम फौरन भड़क उठे और आधे बांग्ला और आधे हिन्दी शब्दों में कहा, “निश्चित रूप से सर, मैं नौकर हूँ, परन्तु चोर नहीं।” इतनी दृढ़ता और गरिमा के साथ उन्होंने ये शब्द कहे कि वह आदमी तुरंत चुप हो गया। लेकिन वह एक नौकर के इस अपमान को बर्दाश्त नहीं कर सका। उसने इस घटना की सूचना रामचंद्र को दी, जिसने, हालांकि, अपने मित्र के बजाय रखतुराम का समर्थन किया – रखतुराम ने पहले ही मालिक का विश्वास इतना जीत लिया था, कि उनके मालिक ने उन पर जरा भी संदेह नहीं किया।

धार्मिक चर्चाओं का रखतुराम के दिमाग पर प्रभाव

वे जितने परिष्कृत थे, रखतुराम बहुत सीधे-सादे तरीके से बोलने वाले थे, कभी-कभी इसी घटना की वजह से वह थोड़े कठोर हो जाते थे। ऐसे में रामचंद्र के मित्रों को भी कभी-कभी रखतुराम से डरना पड़ता था। अच्छा हो या बुरा, यह गुण लाटू महाराज के भीतर जीवनपर्यंत देखा जा सकता था। रामचंद्र, भक्त होने के कारण उनके घर में धार्मिक माहौल था और धार्मिक चर्चाएं सुनी जा सकती थीं। रखतुराम के दिमाग पर इसका बहुत प्रभाव पड़ा, खासकर उनकी उस प्रभावशाली उम्र में। एक बार रखतुराम ने रामचंद्र को यह कहते हुए सुना: “जो ईश्वर के प्रति ईमानदार है, ईश्वर उसे किसी भी रूप में जरूर जान लेता है,” “एकांत में जाकर प्रार्थना करनी चाहिए और ईश्वर के समक्ष रोना चाहिए, तब ही व्यक्ति खुद को प्रकट कर सकता है,” और ऐसी अन्य बातें तथा इन सरल शब्दों ने रखतुराम को इतना प्रभावित किया कि उन्होंने इन शब्दों को अपने पूरे जीवन भर याद रखा और कई बार दूसरों को भी समझाने के लिए उन्हें दोहराते हुए देखा गया। इन शब्दों के माध्यम से उन्होंने यह जानने का प्रयास किया कि कोई व्यक्ति किस प्रकार अपने धार्मिक जीवन का निर्माण कर सकता है और अपने जीवन को आकार दे सकता है। कभी-कभी रखतुराम को लेटे हुए देखा जा सकता था, कभी-कभी वे स्वयं को कंबल से ढक लेते थे और उनकी आंखों में आंसू भरे होते थे। घर मैं रहने वाली महिलाओं को लगता कि शायद वह अपने चाचा को याद करके रो रहे हैं इसी कारण वे उन्हें सांत्वना देने की कोशिश भी करती। परंतु उनके इस रोने का कारण तो बाद के जीवन में पता चला। जब उनके जीवन में घटने वाली घटनाओं ने संकेत दिया कि उस समय रखतुराम क्यों रो रहे थे।

श्री रामकृष्ण से स्वामी अद्भूतानंद की पहली मुलाकात

रामचंद्र के घर पर रखतुराम ने श्री रामकृष्ण के बारे में सुना, और स्वाभाविक रूप से वह उन्हें देखने के लिए उत्सुक हो उठे और जल्द ही रखतुराम को दक्षिणेश्वर जाने और गुरु से मिलने का अवसर मिला। पहली ही मुलाकात में श्री रामकृष्ण रखतुराम की आध्यात्मिक क्षमता से बहुत प्रभावित हुए और गुरु की महानता के बारे में कुछ भी जाने बिना भी रखतुराम ने गुरु के प्रति अत्यधिक आकर्षिण महसूस किया। इस अनाथ लड़के को श्री रामकृष्ण से इतना जुड़ाव महसूस कर रहा था कि वह वापस जाकर अपने कार्यों को करने में स्वयं को असक्षम महसूस करने लगे। रामचंद्र के घर में सभी ने रखतुराम के भीतर आए इस बदलाव को साथ ही काम के प्रति उनकी उदासीनता को देखा परंतु चूंकि वे सभी अत्यधिक प्रेम करते थे इसी कारण उन्होंने रखतुराम को परेशान करना पसंद नहीं किया। श्री रामकृष्ण के साथ रखतुराम की मुलाकात के कुछ समय बाद, फिर हुई जब रखतुराम कामारपुकुर गए और लगभग आठ महीने तक वहीं रहे।

स्वामी अद्भूतानंद उर्फ रखतुराम की दक्षिणेश्वर यात्रा

कुछ समय पश्चात रखतुराम कभी-कभी दक्षिणेश्वर जाने लगे और वापस आने के बाद पुनः उदास हो जाते घर के कार्यों की उपेक्षा के कारण उन्हें फटकार भी मिली परंतु उनका मन घर के कार्य में नहीं लगा। एक बार उन्होंने बताया था कि “आप उस समय मेरे द्वारा किए गए कष्टों की कल्पना नहीं कर सकते। मैं श्री रामकृष्ण के कमरे में जाता, बगीचे में घूमता, इधर-उधर टहलता। लेकिन सब कुछ नीरस लगता। मैं अपने हृदय का बोझ उतारने के लिए अकेला रोता।” केवल रामबाबू ही थे जो मेरी भावनाओं को कुछ हद तक समझ सकते थे, और उन्होंने मुझे गुरु की एक तस्वीर दी। जब श्री रामकृष्ण अपने पैतृक गाँव से लौटे, तो रखतुराम ने एक नया जीवन प्राप्त किया, और उन्होंने गुरु से मिलने के लिए दक्षिणेश्वर जाने का कोई अवसर नहीं गंवाया। रामचंद्र कभी-कभी अपने इस नौकर के माध्यम से गुरु को फल और मिठाइयाँ भेजते थे, और रखतुराम ने ऐसे अवसरों को बड़ी खुशी से स्वीकार करके पूरा किया करते। धीरे-धीरे रखतुराम के लिए जीवन यापन के लिए रामचंद्र के घर में सेवा जारी रखना असंभव हो गया।

श्री रामकृष्ण द्वारा एक परिचारक की आवश्यकता

रखतुराम जितना हो सके गुरु के साथ रहना चाहते थे, और जैसे ही वह दक्षिणेश्वर से दूर होते, उन्हें अपने जीवन को दुख महसूस होने लगता। उन्होंने खुले तौर पर अपनी नौकरी छोड़ने और दक्षिणेश्वर में रहने की इच्छा व्यक्त की। रामचंद्र के परिवार के सदस्य यह कहकर उनका मज़ाक उड़ाने लगे कि, “दक्षिणेश्वर में तुम्हें कौन खिलाएगा और कपड़े पहनाएगा?” लेकिन इस मासूम लड़के के साथ यह कोई गंभीर समस्या नहीं थी। वह केवल एक चीज चाहते थे कि वह दक्षिणेश्वर में गुरु के साथ रहे। इस समय श्री रामकृष्ण को भी एक परिचारक की आवश्यकता महसूस हुई जो उनकी देखभाल कर सके। और जब उन्होंने रामचंद्र को रखतुराम के नाम का प्रस्ताव दिया, तो रामचंद्र तुरंत उन्हें छोड़ने के लिए तैयार हो गए। और इस प्रकार रखतुराम को श्री रामकृष्ण की सेवा करने का लंबे समय से वांछित अवसर मिला।

रखतुराम से लाटू नाम तक का सफर

प्रेमप्रेम से श्री रामकृष्ण रखतुराम को “लेटो,” “नेटो,” या “लाटू” कहते थे। बाद में “लाटू” नाम वर्तमान बन गया। सभी मठवासी शिष्यों में से सबसे पहले लाटू गुरु के पास आए। लाटू ने इसे एक दुर्लभ विशेषाधिकार समझा, जिससे वह बहुत प्यार करता था। गुरु की सेवा कैसे ईश्वर-प्राप्ति की ओर ले जाती है, इसका उदाहरण लाटू महाराज के जीवन में है। वह श्री रामकृष्ण के लिए वही थे जो हनुमान श्री रामचंद्र के लिए थे। उन्हें दुनिया की किसी भी चीज की परवाह नहीं थी, जीवन में उनकी एकमात्र चिंता यह थी कि कैसे ईमानदारी से गुरु की सेवा की जाए। श्री रामकृष्ण की कोई भी इच्छा, लाटू के लिए एक पवित्र आदेश था।

गुरु की एक फटकार और लाटू ने रात का सोना दिया छोड़

एक बार श्री रामकृष्ण ने लाटू को शाम को सोते हुए पाया, शायद वह दिन भर के काम से थक गये थे। श्री रामकृष्ण ने लाटू को इतने विषम समय में सोने के लिए हल्के से फटकारते हुए कहा, “यदि आप ऐसे समय पर सोते हैं, तो आप कब ध्यान करेंगे?” बस गुरु का इतना ही कहना था और लाटू ने रात को भी सोना छोड़ दिया। अपने पूरे जीवन में लाटू दिन में एक छोटी झपकी लेते थे , और पूरी रात जागते रहते थे। वह गीता के श्लोक का जीवंत उदाहरण बन गए- “जो आम लोगों के लिए रात है वह योगी के लिए दिन है।”

जब “गोलक” नामक एक खेल से हुआ लाटू को परमानंद का अनुभव

लाटू को कीर्तन पसंद था – भक्ति नृत्य की संगत के लिए सामूहिक गीत। रामचंद्र के घर में रहते हुए भी, यदि वे कीर्तन होते देखते, तो वे उसमें शामिल होने के लिए दौड़ते, कभी-कभी अपने दैनिक कार्यों को भूल जाते। जब लाटू दक्षिणेश्वर आए तो उन्हें कीर्तन-भजन में शामिल होने के अधिक अवसर मिले। कई अवसरों पर वे उनके साथ गाते हुए परमानंद में चले जाते थे। एक तिनका सबसे अच्छी उसी दिशा में जाता है जिसमें हवा बहती है उसी प्रकार कभी-कभी छोटी घटनाएं मनुष्य के मन की दिशा का संकेत दे देती हैं। एक दिन लाटू दूसरों के साथ गोलकधाम नामक एक खेल, खेल रहे थे। “गोलक” का अर्थ है स्वर्ग। इस खेल को खेलने वाले हर प्रतिभागी का उद्देश्य उस “टुकड़े” को “गोलक” तक पहुंचना था। खेल के दौरान, जब लाटू का “टुकड़ा” गंतव्य पर पहुंचा तो वह अपने आप में इतने अधिक आनंदित हो उठे कि उन्हें देखकर ऐसा लग रहा था मानो वह वास्तव जीवन में मोक्ष तक पहुंच गए हो। श्री रामकृष्ण खेल देख रहे थे। जब उन्होंने लाटू के महान परमानंद को देखा तो कहा जाता है कि उन्होंने टिप्पणी की, कि लाटू इतना खुश थे, क्योंकि निजी जीवन में वह मुक्ति पाने के लिए बहुत उत्सुक थे।

स्वामी अद्भूतानंद की स्पष्टवादिता

श्री रामकृष्ण कहा करते थे कि स्पष्टवादिता एक ऐसा गुण है जो पिछले कई जन्मों में कठिन तपस्या के परिणामस्वरूप प्राप्त होता है और स्पष्ट होने से व्यक्ति ईश्वर को बहुत आसानी से प्राप्त करने की उम्मीद कर सकता है। लाटू इतने स्पष्टवादी थे कि उनमें इस तरह के बच्चे जैसा गुण देखकर कोई भी हैरान रह जाता। वह बिना किसी शर्त के गुरु से निर्देश प्राप्त करते और उसे पूरा करते थे। एक बार श्री रामकृष्ण ने लाटू से कहा, “ईश्वर को दिन या रात में कभी भी मत भूलना।” और सभी प्रकार की साधनाओं में ऐसा लगता है कि लाटू ने पवित्र नाम को दोहराने पर सबसे अधिक जोर देते। यह अन्य लोगों के लिए भी निर्देश था जो बाद के दिनों में मार्गदर्शन के लिए उनके पास आते थे। एक भक्त के लिए जिसने उनसे पूछा, “हम भगवान को आत्म-समर्पण कैसे कर सकते हैं, जिसे हमने कभी नहीं देखा,” लाटू महाराज ने अपने अद्वितीय सरल तरीके से कहा: “इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप उन्हें नहीं जानते हैं। आप उनका नाम तो जानते हैं ना। बस उनका नाम लो, और तुम आध्यात्मिक रूप से प्रगति करोगे।”  अपनी सारी आध्यात्मिक लालसा के साथ, जीवन में लाटू का मुख्य उद्देश्य गुरु की सेवा करना था। एक बार उन्होंने इस प्रश्न कि “श्री रामकृष्ण के शिष्यों को पूजा के लिए समय कैसे मिला जब वे उनकी सेवा के लिए इतने समर्पित थे, के उत्तर में कहा कि “उनकी सेवा करना ही हमारी सबसे बड़ी पूजा और ध्यान है।” लाटू एक समर्पित परिचारक के रूप में श्री रामकृष्ण के साथ रहे, जब उन्हें श्याम-पुकुर और वहां से कोसीपुर ले जाया गया और उनके अंतिम क्षणों तक उनकी सेवा की। लाटू उन कुछ चुने हुए लोगों में से एक थे जिन्हें गुरु ने संन्यास के प्रतीक के रूप में गेरुआ कपड़ा दिया था। बाद में जब वास्तविक संस्कार किया गया और परिवार का नाम बदलना पड़ा, तो श्री रामकृष्ण के मुख्य शिष्य द्वारा लाटू का नाम स्वामी अद्भुतानंद रखा गया, शायद इसलिए कि लाटू महाराज का जीवन इतना अद्भुत था, हर दृष्टि से अद्भुत। लाटू महाराज बरनागोर में रामकृष्ण मठ के पहले तीन सदस्यों में से एक थे। वे ही थे जिन्होंने सबसे पहले अन्य लोगों को साथ में जुड़ने और भाई शिष्य के रूप में बनाने के लिए उनका साथ दिया।

Leave a Reply