शादी की मुश्किल परेशानियों को बिना किसी काउंसलिंग के सुलझाने के 19 अनूठे तरीके

0
138
indian couple

क्या आप जानते हैं कि आप बिना काउंसलिंग के भी आप अपनी शादी/रिश्ते में उत्पन्न हुई समस्याओं को ठीक कर सकते हैं? आपकी शादी/रिश्ते में समय-समय पर विभिन्न प्रकार की समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं, परन्तु आप उन समस्याओं का सामना कैसे करतें हैं यह आपके ऊपर निर्भर करता है। हाल ही में जारी आंकड़ों के अनुसार, शादी/रिश्ते की समस्याओं के कारण लगभग 60% जोड़े अपने रिश्ते को अंततः ब्रेकअप या तलाक में समाप्त कर लेतें हैं।अफसोस होता है यह देखकर कि कुछ शादियों में पैदा हुई समस्याएं कभी-कभी उस बिंदु से भी आगे निकल जातीं हैं जहां से उन्हें ठीक किया जा सके। इस लेख के द्वारा हम आपको कुछ ऐसी महत्वपूर्ण जानकारियां देंगे जिनको अपनाकर आप अपने रिश्ते या शादी में उत्पन्न हो रही समस्याओं को बिना किसी काउंसलिंग के भी सुलझा सकते हैं।

Table Of Contents
  1. अपने द्वारा किए गए वादों को याद करें
  2. अपनी शादी में आई समस्याओं को हल करने को प्राथमिकता दें
  3. एक-दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं
  4. आत्ममंथन करें
  5. अपनी आवश्यकताओं के बारे में अपने साथी को बताएं
  6. आप अपनी शादी के लिए जो चाहते हैं, उसकी तस्वीर मानसिक रूप से तैयार करें
  7. जो परिवर्तन आप अपने जीवनसाथी से चाहते हैं, पहले वह स्वयं में लाएं
  8. अपने जीवनसाथी को जानने के लिए अपने भीतर रुचि पैदा करें
  9. अपनी वैवाहिक समस्याओं के बारे में परिवार या दोस्तों से बात ना करें
  10. विवाह में बात करना और स्पर्श दोनों ही महत्वपूर्ण हैं
  11. शादी की समस्याओं को ठीक करना टू-वे-स्ट्रीट है
  12. अपने जीवनसाथी के साथ सम्मिलित हों
  13. अपने साथी को सरप्राइज देना सीखें
  14. अपने आपसे गलत प्रश्न पूछना बंद करिऐ
  15. धैर्य रखें
  16. समय-समय पर आत्मनिरीक्षण जरूर करें
  17. काउंसलिंग को अपनी शादी की समस्या का हल ना मानें
  18. अकेले चलने को तैयार रहें
  19. हर वक्त अपनी शादी की समस्याओं के बारे में बातें ना करें

अपने द्वारा किए गए वादों को याद करें

क्या आपको आज भी अपने साथी के साथ किए गए वह वादे याद हैं, जो आपने एक दूसरे से किये थे। यह एक बहुत अच्छा तरीका होगा, यदि आप बैठकर शांति से अपने उन वादों को फिर से दोहराएं और लिखें। यह आपको अपने रिश्ते को बचाने और ठीक करने के लिए कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कड़ी भी दे सकता है। उदाहरण के लिए आपने हमेशा अपने साथी का सम्मान, प्यार और भरोसा करने की कसम खाई थी। पर क्या आप आज भी ऐसा करतें हैं? आपके जीवन में इस समय वह कौन से कारण हैं, जिनकी वजह से आप ऐसा नहीं कर पाते। उन कारणों को तलाशें। यदि ऐसे कारण हैं तो अपने जीवनसाथी से बैठ कर उन पर चर्चा करें और यदि गलती आपकी है तो अपने जीवनसाथी को यह विश्वास दिलाएं कि वह आप पर विश्वास करें, आप वास्तव में वापस से सब ठीक करना चाहते हैं।

अपनी शादी में आई समस्याओं को हल करने को प्राथमिकता दें

अपने जीवनसाथी के साथ बैठे हैं और उनसे उनके साथ समय को बिताने की इच्छा को व्यक्त करें। रोजमर्रा की जिंदगी व्यस्त हो सकती है परंतु कोशिश करें कि आप पहले से ही उस व्यस्त शेड्यूल में अपने साथी के साथ कुछ समय बिताने के लिए समय निकाल लें। कोशिश करें कोई ऐसा समय एक साथ बिताएं जिस वक्त ना टीवी हो, ना कंप्यूटर और ना ही मोबाइल फोन इन सभी तरह के उपकरणों को जो आप दोनों का ध्यान एक दूसरे से हटा सकते हैं खुद से दूर रखें। कोशिश करें कि महीने में एक या दो बार आप दोनों एक दूसरे के साथ एकांत में समय जरूर बिताएं। जिसमें आप एक दूसरे से क्या अपेक्षा रखते हैं और अपनी शादी को और मजबूत करने के लिए क्या सोचते हैं? इस तरह के विचारों को व्यक्त कर सकें।

एक-दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम बिताएं

एक दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम ना बिताना शादी/रिश्ते में समस्याओं को जन्म देने का पहला चरण होता है। यदि आप अपनी शादी में आ रही समस्याओं को दूर करना चाहते हैं और पहले की तरह खुशियां वापस लाना चाहते हैं तो सबसे पहले एक-दूसरे के साथ क्वालिटी टाइम बिताना शुरू करें। कुछ ऐसा ढूंढें जो करना आप दोनों को पसंद हो। परन्तु इस बात को सुनिश्चित करें कि वह करते समय आप एक दूसरे से बातचीत भी करें।

indian couple

आत्ममंथन करें

ऐसा हो सकता है कि आपने ही कुछ ऐसा किया हो जिससे आपके रिश्ते को नुकसान पहुंचा हो या फिर आपने अपने जीवनसाथी (जो आपके जीवन में सबसे महत्वपूर्ण स्थान रखता है) को दुख पहुंचाया हो, जिसके कारण स्थिति यहां तक आ गई। जो भी हो सबसे पहले यदि आप सच में अपनी शादी बचाना चाहते है तो आपको आत्ममंथन करने की जरूरत है। शादी में स्थिति को बेहतर बनाने के लिए आपको क्या करने की जरूरत है यह जानने के लिए आत्ममंथन करें। यदि वास्तव में आप अपनी शादी की समस्याओं को ठीक करना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने पार्टनर के साथ अपने व्यवहार को अच्छा करें। यह कदम उठाने से आपको बहुत जल्दी इसके नतीजे दिखने लगेंगे।

अपनी आवश्यकताओं के बारे में अपने साथी को बताएं

अधिकांश जोड़े अक्सर यह मान लेते हैं कि उनके साथी को उनकी जरूरतों की कोई परवाह नहीं है। वह यह समझने में अक्सर असफल रह जाते हैं कि उनका साथी उनका दिमाग नहीं पढ़ सकता। इसलिए वह कैसे जान पाएगा कि वह क्या सोच रहे हैं। हमेशा कोशिश करिए कि अपने साथी के साथ अपने मन की बातें खुले दिल से कहें। आपके मन में क्या है, आपकी क्या इच्छा है, आप क्या सोचते हैं आदि ऐसे सवाल हैं जो आपके बिना बताए आपका साथी नहीं जान सकता।

आप अपनी शादी के लिए जो चाहते हैं, उसकी तस्वीर मानसिक रूप से तैयार करें

हर व्यक्ति की अपनी शादी को लेकर कुछ अपेक्षाएं होतीं हैं। यदि आपकी शादी में कुछ समस्याएं आ रहीं हैं तो शांत चित्त होकर बैठें और भविष्य में आप अपनी शादी को जिस रूप में देखना चाहते हैं, उसकी एक मानसिक तस्वीर तैयार करें। ऐसे में आप उन गुणों की कल्पना कर सकते हैं जिन्हें आप अपनी शादी या रिश्ते में सक्रिय रुप से देखना चाहते हैं। इसके बाद आपको उन गुणों को अपने अंदर पैदा करना होगा जिसकी मदद से आप अपनी शादी की समस्याओं को हल कर सकते हैं और उस मानसिक तस्वीर को असल रूप में बदल सकेंगें।

जो परिवर्तन आप अपने जीवनसाथी से चाहते हैं, पहले वह स्वयं में लाएं

अपनी शादी की समस्याओं को ठीक करने के मिशन में इस बात के लिए सदैव तैयार रहें कि आपको अपने जीवनसाथी द्वारा प्रतिरोध का सामना भी करना पड़ सकता है। आपका जीवनसाथी आपके द्वारा किए जा रहे प्रयासों की जांच बाहर से करवा सकता है। परंतु आपको इन सब बातों की चिंता ना करते हुए अपने प्रयासों को और मजबूत करने का लगातार प्रयास करना होगा। आप अपने जीवनसाथी को उसके व्यवहार को बदलने के लिए मजबूर नहीं कर सकते, परंतु आप अपने अंदर बदलाव ला सकते हैं। एक ऐसा बदलाव जो आपकी नजर में आपकी शादी को मजबूत करेगा। शुरुआत में यह काफी मुश्किल हो सकता है, परंतु एक बार जब आप ऐसा बदलाव लें आएंगे तो चीजें बदलती हुई आपको खुद-ब-खुद दिखेंगीं।

sikh couple

अपने जीवनसाथी को जानने के लिए अपने भीतर रुचि पैदा करें

कई जोड़े आमतौर पर अपनी शादी में उस वक्त परेशानी का अनुभव करने लगते हैं जब वह खुद के साथ व्यस्त हो जाते हैं और अपने जीवनसाथी की भावनाओं को भूल जाते हैं। कोशिश करें कि आप अपने जीवनसाथी की बातों में दिलचस्पी दिखाएं। उनसे प्रश्न पूछे और उन्हें जानने तथा समझने की कोशिश करें। शुरुआती दौर में यह मुश्किल हो सकता है, परंतु जब आप दिल से ऐसी कोशिश करेंगे तो आपको अपने साथी के भीतर कई नई बातों को जानने का मौका मिलेगा।

अपनी वैवाहिक समस्याओं के बारे में परिवार या दोस्तों से बात ना करें

शादी के सबसे महत्वपूर्ण मूल्यों में से एक “गोपनीयता” है। इसलिए जहां तक हो सके अपनी शादी या अपने जीवनसाथी के बारे में अपने दोस्तों या परिवार से ज्यादा बातें ना करें। यह अपने जीवनसाथी की निजता के साथ खिलवाड़ करना होगा, जो कि गलत है।

विवाह में बात करना और स्पर्श दोनों ही महत्वपूर्ण हैं

रिलेशनशिप कोच फर्टेल, कहते हैं कि हर कोई अपनी शादी में कुछ नयापन डालना चाहता है परंतु बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जिन्हें इस बात का अंदाजा होता है कि यह कैसे किया जाए। कई बार जरूरत इस बात की होती है कि आप खुद की स्थिति से बाहर निकालकर वह रास्ता देखें, जिसकी आपकी शादी में सबसे ज्यादा जरूरत है। यदि आप सचमुच अपने रिश्ते में एक अच्छे बदलाव की इच्छा रखते हैं तो आपको स्वयं इसके लिए पहल करनी होगी। असफल विवाह अंततः तभी सफल हो सकते हैं जब पति या पत्नी में कोई एक अपनी शादी को ठीक करने का दृढ़ निश्चय कर लें। अपनी शादी की समस्याओं को ठीक करने के लिए छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखें और फिर उन्हें लगातार अपनाकर अपनी आदत बनायें। एक-दूसरे से बात करें। कई बार बातें करने से भी बड़ी से बड़ी समस्या का हल निकाला जा सकता है।

rural indian couple

शादी की समस्याओं को ठीक करना टू-वे-स्ट्रीट है

बातचीत किसी भी सफल शादी/रिश्ते के लिए बहुत महत्वपूर्ण होती है। यदि आप अपनी शादी की समस्याओं को ठीक करना चाहते हैं तो आपको अपने जीवनसाथी के साथ बातचीत का उत्तम मध्यम बनाना होगा। खास करके तब जब आप दोनों एक दूसरे से दूर हैं और आपके बीच समस्याएं ज्यादा हैं। आप स्वयं कुछ ऐसे कदम उठा सकते हैं जो आपको आपके जीवनसाथी तक लेकर जाएंगे। जैसे कि आप उन्हें फोन कर सकते हैं, यह जानने के लिए कि वह कैसे हैं, क्या वह आपसे बात करना चाहते हैं, क्या वह आपसे मिलना चाहते हैं, आप दोनों के बीच का माहौल किस प्रकार का है? अपनी शादी की परेशानियों के मुद्दों पर चर्चा करने से पहले यह निर्धारित कर लें कि आप किसी भी गलत या कड़े शब्दों का प्रयोग नहीं करेंगे। यदि आप अपने रिश्ते को सुधारना चाहते हैं तो धैर्यपूर्वक अपने जीवनसाथी के बातों को सुनें।

अपने जीवनसाथी के साथ सम्मिलित हों

एक मुहावरा है, यह कहता है कि “आप जैसा खाते हो, वैसा बनते हैं।” यदि हम इसे शादी की परिभाषा में कहें तो – इसका मतलब यह हुआ कि “आप जो करते हैं, वैसा ही होता है।” दूसरे शब्दों में आप जिस तरह का समय अपने जीवनसाथी के साथ बिताएंगे, वह यह निर्धारित करेगा कि आपकी शादी कितनी मजबूत होगी। एक दूसरे के साथ वक्त बिताएं, एक दूसरे को एक-दूसरे से जुड़ा हुआ महसूस कराएं। क्या आपको याद है कि आप अंतिम बार कब एक-दूसरे के ऑफिस गए थे या एक-दूसरे के दोस्तों से मिले थे या फिर एक दूसरे की मदद की थी? कब आप दोनों ने मिलकर किसी परेशानी को साथ में हल किया था? तब आपने एक दूसरे की राय पूछी थी? तब आपने अपने साथी के हितों के बारे में जानने की कोशिश थी। हो सकता है यह सब अभी आपको रुचिकर ना लग रहा हो। परन्तु एक बार इन पर विचार करिए, यह आपकी शादी को मजबूत बनाने के लिए बहुत जरूरी है।

अपने साथी को सरप्राइज देना सीखें

आपके साथी को किस तरह के उपहार पसंद है? क्या आपने कभी सोचा है? एक ऐसा उपहार जिसे देखकर वह आपकी तारीफ किए बिना ना रह सके। एक ऐसी गिफ्ट जो उन्हें मजबूर कर दे कि वह आपकी तारीफ करें। विचार करें कि आप अपने जीवनसाथी के लिए ऐसा क्या खरीद सकते हैं या फिर बना सकते हैं, जिसके द्वारा आप उन्हें यह जता सकें कि आप उन्हें कितना प्यार करतें हैं। यदि आप अपनी शादी की परेशानियों को ठीक करना चाहते हैं तो इस बारे में एक बार विचार जरूर करें। यह उपहार देना सिर्फ एक बार का काम नहीं, बल्कि कोशिश करें कि आप इस बात की आदत बनाएं। बीच-बीच में अपने जीवन साथी को उनके मनपसंद उपहार देकर उन्हें विशेष महसूस करवाएं।

अपने आपसे गलत प्रश्न पूछना बंद करिऐ

कई लोग यह सोच कर कि “क्या उनकी शादी गलत व्यक्ति से हुई है?” अपनी शादी को ठीक करने का कोई कदम नहीं उठाते और इसे खुद का दुर्भाग्य मानकर समस्या को एक अलग ही दिशा में मोड़ देते हैं। प्यार कोई रहस्य नहीं। जिस तरह भौतिक नियम होते हैं, उदाहरण के लिए, गुरुत्वाकर्षण का नियम जो जहाज को उड़ने में मदद करता है। उसी तरह रिश्तों के भी नियम होते हैं। यह आपके व्यवहार और निष्ठा पर निर्भर करता है कि आप अपनी शादी के लिए कितना समर्पित हैं। आपको प्यार में भाग्यशाली होने की जरूरत नहीं। शादी कोई भाग्य नहीं अपितु एक विकल्प है।

धैर्य रखें

आप अपनी शादी की समस्याओं को रातों रात में नहीं सुलझा सकतें। ऐसा बहुत बार होगा कि आप दो कदम आगे की तरफ चलेंगे, तो एक कदम पीछे की तरफ लेना पड़ेगा। यह एक मुश्किल दौर होता है। जिसमें आपको हंसी और आंसू दोनों के लिए तैयार होना होगा। लेकिन आपका दृढ़ निश्चय ही आपकी ताकत बनेगा। आप कितनी दृढ़ता से अपनी शादी को बचाना चाहते हैं यही आपको आगे की राह दिखाएगा।

middle class indian couple

समय-समय पर आत्मनिरीक्षण जरूर करें

शादी की समस्याओं को ठीक करने का एक उपाय यह भी है कि आप अपने जीवनसाथी पर सारा दोष डालने के बजाय खुद पर ध्यान दें। आत्मनिरीक्षण करने के लिए समय निकालें और यह पता करें की इन समस्याओं में आपका कितना हाथ है। इस बात को याद रखें कि यदि समस्याएं हैं तो उनमें आपकी तरफ से भी गलतियां जरूर होंगीं। यह जानने की कोशिश करें कि क्या कारण है जिसकी वजह से आप दोनों के बीच का रोमांस खत्म हो गया है। उन बातों पर भी ध्यान दें, जो आपको लगता हैं कि आपके रिश्ते के बारे में आपको सुखद लगतीं हैं और वह बातों जो आपको असंतुष्ट या दुखी करतीं हैं। इन सभी बातों पर ध्यान से विचार करना जरूरी है क्योंकि तभी आप यह जान सकेंगे कि आपकी शादी में अभी कितनी उम्मीद शेष बची है।

काउंसलिंग को अपनी शादी की समस्या का हल ना मानें

शादी की काउंसलिंग बहुत सी स्थिति में काम नहीं कर पाती। काउंसलिंग की सफल दर भी काफी कम है। ऐसे बहुत से जोड़े हैं, जिन्होंने अपनी शादी की समस्याओं को सुलझाने के लिए कई महीने काउंसलिंग की कक्षाएं लीं, बहुत पैसा भी खर्चा, लेकिन अंत में उनकी शादी नहीं बचाई जा सकी। कोशिश करें कि आपस में बात करें। एक दूसरे के विचारों की इज्जत करें और बदलाव के लिए तैयार रहें।

अकेले चलने को तैयार रहें

बहुत से लोग सोचते हैं कि उन्हें अपने जीवनसाथी के साथ मिलकर ही अपनी शादी की समस्याओं को सुलझाना चाहिए। परंतु ऐसा जरूरी नहीं। यदि आप दोनों में से कोई एक इस बात का दृढ़ निश्चय कर लें कि वह अपनी शादी की परेशानियों को दूर करके अपने रिश्ते को सहेज कर मजबूत बनाएगा तो वह अकेला भी शादी को मजबूत कर सकता है।

हर वक्त अपनी शादी की समस्याओं के बारे में बातें ना करें

अपनी शादी की परेशानियों के बारे में बार-बार सिर्फ बात करके आप उनको सुधार नहीं सकते। बल्कि ऐसा करने से स्थिति और खराब हो जाती है। ऐसा करने से आप दोनों के बीच में तर्क-वितर्क हो सकता है जिससे परेशानियां और ज्यादा बढ़ जाएगी। इसके अलावा ऐसा करने से आप कभी भी इस समस्या से बाहर नहीं निकल पाएंगे। कोशिश करें कि थोड़ा कहें और थोड़े में बहुत कुछ हो। नए-नए विकल्पों को सोचें, जो शादी की समस्याओं को ठीक करने में मदद कर सकतें हैं।

Leave a Reply