क्या है ब्रोकली ? जानिए ब्रोकली में मौजूद 21 पोषक तत्वों के विषय में

0
98
broccoli
Table Of Contents
  1. ब्रोकली क्या है?
  2. ब्रोकली से जुड़े स्वास्थ्य लाभ
  3. ब्रोकली के सेवन से लीवर के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है
  4. ब्रोकली पुरानी बीमारियों की रोकथाम में मदद कर सकती है
  5. ब्रोकली का सेवन आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाता है
  6. ब्रोकली हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है
  7. ब्रोकली आपके दांतो और हड्डी के लिए फायदेमंद होती हैं
  8. ब्रोकली का सेवन आपको पेट के विकारों से राहत दिला सकता है
  9. ब्रोकली शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में सहायक होती है
  10. ब्रोकली चयापचय में सुधार करती है
  11. ब्रोकली आपको यूवी किरणों से बचा सकता है
  12. ब्रोकली का सेवन आपको एनीमिया से कोसों दूर रहता है
  13. ब्रोकली मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करती है
  14. ब्रोकली का सेवन आपके उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है
  15. ब्रोकली का सेवन मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है
  16. नेत्रोॆ की देखभाल करने के लिए ब्रोकली की सहायता लें सकतें हैं
  17. ब्रोकली का सेवन गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के विकास में मदद करता है
  18. ब्रोकली पाचन क्रिया में सहायता करती है
  19. ब्रोकली में एंटी-एजिंग गुण पाए जातें हैं
  20. ब्रोकली कामेच्छा में सुधार करने में मदद करती है
  21. बालों की देखभाल में ब्रोकली की भूमिका को नजरअंदाज नहीं कर सकते
  22. ब्रोकली में एंटी इन्फ्लेमेशन गुण पाए जाते हैं
  23. त्वचा की देखभाल में ब्रोकली की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता

ब्रोकली क्या है?

ब्रोकली का सबसे अधिक खाया जाने वाला हिस्सा हरे या बैंगनी रंग का फूल वाला हिस्सा होता हैं, जो एक पेड़ के आकार का दिखता हैं, जो कि एक मोटे और खाने योग्य डंठल से निकलता हैं। ब्रोकली की कई किस्में पाई जाती हैं, दुनिया के विभिन्न हिस्सों में इसकी तीन मुख्य किस्में विशेष रुप से लोकप्रिय हैं जो इस प्रकार हैं।

  • कैलाबेरी ब्रोकली : यह सबसे आम प्रकार की है, जिसका नाम कैलाब्रिया (इटली) के नाम पर रखा गया है और इसे ब्रोकली कहा जाता है।
  • अंकुरित ब्रोकली : इस किस्म की ब्रोकली में कई गुच्छे और पतले डंठल होते हैं।
  • बैंगनी फूलगोभी : यह फूलगोभी के आकार की होती है और इसमें छोटी फूल की कलियाँ होती हैं।

अन्य प्रकारों में ब्रोकली राबे, चीनी ब्रोकोली, और ब्रोकोफ्लॉवर शामिल हैं।

ब्रोकली से जुड़े स्वास्थ्य लाभ

ब्रोकली में विभिन्न प्रकार का स्वास्थ्य के लिए लाभकारी खज़ाना छुपा होता है, जिसमें पाचन में सुधार, कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और विटामिन और खनिज को अधिकतम करने की क्षमता शामिल है । यह एलर्जी की प्रतिक्रिया को रोकने में मदद करने के साथ प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देती है, त्वचा की रक्षा करती है, जन्म दोषों को रोकने में सहायता करती है, रक्तचाप कम करती है, सूजन को कम करती है और दृष्टि के साथ-साथ नेत्र स्वास्थ्य में सुधार करती है। इस क्रूस वाली सब्जी के स्वास्थ्य लाभों में निम्नलिखित शामिल हैं –

ब्रोकली के सेवन से लीवर के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है

जर्नल ऑफ न्यूट्रिशन में प्रकाशित 2016 की एक रिपोर्ट से पता चला है कि ब्रोकली फैटी लीवर के विकास को कम करके आपके लीवर को उसके इष्टतम स्तर पर कार्य करने में मदद कर सकती है।

ब्रोकली पुरानी बीमारियों की रोकथाम में मदद कर सकती है

ब्रोकली में कुछ फेनोलिक यौगिक पाए जाते हैं जो पुरानी और जड़ समस्याओं को दूर रखने में मदद करते हैं इतना ही नहीं ब्रोकली के सेवन से आपके मधुमेह , अस्थमा, हृदय विकार और कई अन्य घातक बीमारियों के विकास की संभावना को कम करने निधि सहायता मिलती है जिसके परिणाम स्वरूप मृत्यु दर में कमी देखी जा सकती है। अन्य स्वस्थ, रोग-निवारक खाद्य पदार्थों के साथ सेवन किए जाने पर ब्रोकली सबसे ज्यादा प्रभावी हो सकती है।

ब्रोकली का सेवन आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाता है

ब्रोकली अपने बैंगनी और हरे रंग को विटामिन सी, बीटा-कैरोटीन, सेलेनियम, कॉपर, कोलीन, जिंक और फास्फोरस जैसे एंटीऑक्सिडेंट से प्राप्त करती है। ब्रोकली में मौजूद यह यौगिक वास्तव में आपके शरीर की इम्युनिटी सिस्टम को और मजबूत बनाकर आपको होने वाले कई संक्रमणों से बचातें हैं। संतुलित आहार लेने के साथ ही इम्यूनिटी सिस्टम को अधिक मजबूत करने के लिए पर्याप्त मात्रा में नींद का लेना और तनाव प्रतिबंध करना भी महत्वपूर्ण माना गया है।

ब्रोकली हृदय स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है

एंटीऑक्सिडेंट, ग्लूकोराफेनिन के साथ ब्रोकली में फाइबर की उच्च मात्रा एलडीएल अथवा खराब कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने और हृदय को ठीक से काम करने में मदद करती है। इसके अलावा, पित्त को कम करने से कोलेस्ट्रॉल के स्तर पर प्रभाव पड़ता है, जिससे आपके हृदय स्वास्थ्य में मदद मिलती है। कैम्पफेरोल एक फ्लेवोनोइड है जो अपने एंटी इन्फ्लेमेशन गुणों के कारण हृदय को स्वस्थ रखने में भी मदद करता है।

ब्रोकली आपके दांतो और हड्डी के लिए फायदेमंद होती हैं

ब्रोकली हड्डियों और दांतों को मजबूत रखती है क्योंकि इसमें विटामिन के, कैल्शियम, मैग्नीशियम, जिंक और फास्फोरस की मात्रा उच्च कोटि में पाई जाती है। ब्रोकली की सब्जी खाना खासतौर पर बच्चों बुजुर्गों गर्भवती महिलाओं अथवा शिशुओं को स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है। बच्चों और बुजुर्गों में समय के साथ ऑस्टियोपोरोसिस तथा हड्डियों और दांतों के कमजोर होने की शिकायत देखी जा सकती है। इसके अलावा, विटामिन-के ओस्टियोकैल्सीन के निर्माण के लिए आवश्यक होता है, जो एक प्रकार का प्रोटीन होता है, जो केवल हड्डियों में पाया जाता है।

ब्रोकली का सेवन आपको पेट के विकारों से राहत दिला सकता है

ब्रोकली फाइबर की मात्रा में समृद्ध होती है, जो कब्ज को दूर करने में मदद कर सकती है क्योंकि कब्ज लगभग पेट से जुड़ी विभिन्न समस्याओं का मूल कारण मानी गई है। फाइबर भोजन में जुड़कर आपके पेट को भरा महसूस करवाने में मददगार होता है। इतना ही नहीं यह शरीर में पानी की मात्रा को भी सामान्य बनाए रखता है, जिससे मल त्यागने में आसानी होती है। इसमें मौजूद मैग्नीशियम और विटामिन अम्लता को कम करने, उचित पाचन क्रिया में सहायक होने और अन्य खाद्य पदार्थों से पोषक तत्वों के अवशोषण में सहायता करते हैं। यह इन्फ्लेमेशन को कम करके पेट को शांत करता है। ऐसा कहा जाता है कि जो लोगों इरिटेबल बाउल डिसीज के साथ-साथ डायवर्टीकुलिटिस से पीड़ित हैं, वे ब्रोकली का सेवन करके कुछ हद तक लाभ उठा सकते हैं।

ब्रोकली शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में सहायक होती है

विटामिन सी, सल्फर और अमीनो एसिड की उपस्थिति के कारण ब्रोकली को एक अच्छा डिटॉक्सिफायर कहा जा सकता है। यह शरीर से यूरिक एसिड जैसे मुक्त कणों और विषाक्त पदार्थों को हटाने में मदद करता है जिससे रक्त शुद्ध होता है और फोड़े , खुजली, चकत्ते, गठिया , गठिया, गुर्दे की पथरी, त्वचा रोग जैसे एक्जिमा और सख्त होने जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलती है। यह एक क्षारीय सब्जी है जो शरीर के पीएच स्तर को संतुलित करने में मदद करती है।

broccoli florets

ब्रोकली चयापचय में सुधार करती है

ब्रोकली में पाए जाने वाले फाइबर, विटामिन सी तथा अन्य पोषक तत्वों विटामिन डी, विटामिन, फोलेट और विटामिन-ए आपके चयापचय में सुधार करतें है। ब्रोकली में पाया जाने वाला फाइबर, TEF (भोजन का ऊष्मीय प्रभाव) दिखाता है और खाने के बाद आपके चयापचय दर को बढ़ा सकता है। ब्रोकली में फाइबर की अच्छी मात्रा होने के कारण यह तृप्ति को भी बढ़ावा देता है।

ब्रोकली आपको यूवी किरणों से बचा सकता है

ग्लूकोराफेनिन, ब्रोकली में पाया जाने वाला महत्वपूर्ण फाइटोन्यूट्रिएंट है, जो सूर्य के संपर्क में आने से होने वाले नकारात्मक प्रभावों को कम करने से में सहायक होता है।

ब्रोकली का सेवन आपको एनीमिया से कोसों दूर रहता है

ब्रोकली के अंदर आयरन और प्रोटीन की मात्रा भरपूर होती है जो आपको एनीमिया से बचाने में सहायक होते हैं आयरन के साथ-साथ कॉपर लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में आवश्यक एक खनिज भी हो सकता है। तो इस हरी सब्जी को अपने आहार में शामिल करें और आयरन की कमी से होने वाले एनीमिया को रोकने में मदद करें।

ब्रोकली मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करती है

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ फूड साइंसेज एंड न्यूट्रिशन में प्रकाशित 2012 के एक अध्ययन से पता चलता है कि ब्रोकली स्प्राउट्स टाइप-2 मधुमेह रोगियों में इंसुलिन प्रतिरोध में सुधार कर सकती हैं। विस्तृत रूप से कहा जाए तो यह शोध सुझाव देता है कि ब्रोकली में उपस्थित सल्फोराफेन और केम्फेरोल के होने से टाइप-2 डायबिटीज मेलिटस मधुमेह रोगियों में रक्त शर्करा के स्तर को कम करने में मदद मिलती है साथ ही इसे नियंत्रित करने में भी मदद मिलती है। जब रक्त ग्लूकोज नियंत्रण की बात आती है तो ब्रोकली को हृदय-स्वस्थ, कार्बोहाइड्रेट-नियंत्रित आहार के रूप में भी देखा जा सकता है।

ब्रोकली का सेवन आपके उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करता है

ब्रोकली में प्रचुर मात्रा में पाया जाने वाला क्रोमियम उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है। इसके अलावा, ब्रोकली में पाए जाने वाली पोटेशियम की मात्रा वासोडिलेटर के रूप में कार्य करती है। पोटेशियम नसों और रक्त वाहिकाओं के तनाव को कम करके रक्त के प्रवाह और आवश्यक अंगों के लिए ऑक्सीजन में सुधार करने में मदद करता है। मैग्नीशियम और कैल्शियम भी रक्तचाप को नियंत्रित करने में  मदद करते हैं इसके कारण हृदय आघात स्ट्रोक अथवा दिल के दौरे जैसी स्थिति से बचने में मदद मिलती है।

ब्रोकली का सेवन मस्तिष्क स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है

ब्रोकली ज्ञान और याददाश्त को बढ़ाने में मदद कर सकती है, जिसका मुख्य कारण इसमें पाए जाने वाले विटामिन-के और कोलीन की मात्रा का भरपूर होना है। इस के अलावा, ब्रोकली में मौजूद sulforaphane कई प्रकार के न्यूरोडीजेनेरेटिव रोगों जैसे अल्जाइमर इत्यादि की प्रारंभिक अवस्था में है उन्हें रोकने में मदद करता है।

नेत्रोॆ की देखभाल करने के लिए ब्रोकली की सहायता लें सकतें हैं

ब्रोकली में पाए जाने वाले कैरोटेनॉयड्स जैसे कि ज़ेक्सैन्थिन, बीटा-कैरोटीन और फॉस्फोरस तथा अन्य विटामिन जैसे विटामिन ए, बी कॉम्प्लेक्स, सी और ई, आंखों के स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छे होते हैं। इन यौगिकों का उपयोग आंखों को धब्बेदार अध:पतन और मोतियाबिंद से बचाने के लिए किया जाता है, साथ ही विकिरण से होने वाले नुकसान की मरम्मत में भी इनकी भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है।

ब्रोकली का सेवन गर्भावस्था के दौरान भ्रूण के विकास में मदद करता है

ब्रोकली गर्भवती महिलाओं के लिए आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर होती है। इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, विटामिन, एंटीऑक्सिडेंट, आयरन और फास्फोरस अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। साथ ही फाइबर से भरपूर होने के कारण, यह कब्ज को भी खत्म करती है जो कि गर्भावस्था के दौरान बहुत आम बात होती है। ब्रोकली में पाए जाने वाली फोलेट की मात्रा गर्भ में पल रहे शिशु के न्यूरल ट्यूब दोष जैसे अन्य दोषों को दूर रखने में सहायक होता है।

ब्रोकली पाचन क्रिया में सहायता करती है

जर्नल ऑफ फंक्शनल फूड्स में प्रकाशित ब्रोकली पर किए गए शोध से पता चला है कि ब्रोकली आंत के स्वास्थ्य को बनाए रखने में सहायक है। जिसके लिए किए गए एक अध्ययन में चूहों के एक समूह को उनके नियमित आहार के हिस्से के रूप में ब्रोकली दी गई जिसके बाद यह देखा गया के उनकी पाचन संबंधित विभिन्न प्रकार के परेशानियां जैसे कि कोलाइटिस और लीकी आंत में उन चूहों की तुलना में काफी आराम था जिन्हें ब्रोकली खाने को नहीं दी गई थी इससे यह निष्कर्ष निकाला गया कि फाइबर की उपस्थिति के कारण पाचन क्रिया को विनियमित करने में ब्रोकली ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई होगी। केम्पफेरोल के साथ, फाइबर भी पेट की परत को स्वस्थ रखता है और आंतों में उपस्थित स्वस्थ बैक्टीरिया के स्तर को बनाए रखने में मदद करता है।

broccoli florets

ब्रोकली में एंटी-एजिंग गुण पाए जातें हैं

ब्रोकली में मौजूद निकोटिनमाइड मोनोन्यूक्लियोटाइड (NMN) नामक यौगिक की मदद से उम्र बढ़ने की प्रक्रिया का मुकाबला किया जा सकता है। निकोटिनमाइड मोनोन्यूक्लियोटाइड (NMN) एक ऐसे यौगिक के उत्पादन को बढ़ावा देता है जो चयापचय की गति को सामान्य करता है और इसी कारण यह उन आनुवंशिक परिवर्तनों को रोकता है जो समय से पहले बूढ़ा होने के लिए जिम्मेदार माना जाता है। विटामिन ए, विटामिन सी और कोलेजन जैसे एंटीऑक्सिडेंट भी बढ़ती उम्र में देरी करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

ब्रोकली कामेच्छा में सुधार करने में मदद करती है

ब्रोकली शरीर के अंगों में रक्त परिसंचरण को बढ़ावा देने में मदद करती है और कामेच्छा में सुधार करने में भी सहायक होती है। इसमें फोलेट और विटामिन सी की मात्रा में होता है जो प्रजनन क्षमता में सुधार कर सकता है।

बालों की देखभाल में ब्रोकली की भूमिका को नजरअंदाज नहीं कर सकते

ब्रोकली में पाए जाने वाले पोषक तत्व, जैसे विटामिन ए और सी आपके बालों को चमकदार, घना और स्वस्थ रखने के लिए बहुत अच्छे साबित हो सकते हैं । ये विटामिन बालों को प्राकृतिक रूप से मॉइस्चराइज़ करने में प्रभावी होते हैं साथ ही यह सीबम उत्पादन को विनियमित करके सूखे बालों की समस्या से भी छुटकारा दिलाने में मदद कर सकते हैं जिससे बालों का झड़ना कम हो जाता है।

ब्रोकली में एंटी इन्फ्लेमेशन गुण पाए जाते हैं

प्रिवेंटिव न्यूट्रिशन एंड फूड साइंस जर्नल में प्रकाशित 2014 में हुए एक अध्ययन से पता चलता है कि ब्रोकली में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और एंटी इन्फ्लेमेशन के गुण भी पाए जातें हैं। इसमें विटामिन-सी, पोटेशियम, मैग्नीशियम, सल्फोराफेन, केम्पफेरोल और कई अन्य एंटीऑक्सिडेंट पाए जातें हैं, जो इस क्रूसिफेरस सब्जी को इन्फ्लेमेशन से राहत पहुंचाने के लिए अच्छा बनाता है।

त्वचा की देखभाल में ब्रोकली की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता

ब्रोकली त्वचा की देखभाल में मदद कर सकती है और आपको एक चमकदार, स्वस्थ और दीप्तिमान त्वचा देती है। एंटीऑक्सीडेंट, बीटा कैरोटीन, विटामिन ए, विटामिन-बी कॉम्प्लेक्स, विटामिन सी, विटामिन ई, अमीनो एसिड, और फोलेट जैसे गुणों से भरपूर होने के कारण यह आपकी त्वचा को अधिक साफ और चमकदार बनाए रखती है।

Leave a Reply