जानिये ‘केरल’ के बारे में ये 90 विस्मृत करने वाले तथ्य

0
16
kerala coconut trees

केरल भारत के सबसे खूबसूरत राज्यों में से एक है। प्राकृतिक सौंदर्य की पराकाष्ठा है केरल में। केरल अपने लोकप्रिय हिल स्टेशन, नारियल के पेड़ों, विशाल चाय के बागानों, शानदार बांध, मशहूर कला और संस्कृति आदि के साथ अपने पर्यटकों का विशेष ध्यान रखता है। यह दक्षिण भारतीय राज्य गौरवान्वित इतिहास और संस्कृति के लिए भी दुनिया भर में जाना जाता है। इसका अनोखा वन्यजीवन ना सिर्फ देशी अपितु विदेशी पर्यटकों के लिए भी इसे एक अविश्वसनीय गंतव्य भी बनाता है। केरल अपने पर्यटकों को अपने जीवंत के त्योहारों, नृत्यों, मनोरम व्यंजनों, आयुर्वेद चिकित्सा, साहित्य और कला तथा शिल्प का अनुभव करने का अवसर प्रदान करता है। इस खूबसूरत भारतीय राज्य के बारे में बहुत सी बातें सभी लोग जानते हैं, परंतु उनमें से कुछ ऐसे रोचक तथ्य हैं जो शायद आप भी नहीं जानते होंगें। यहां हम आपको केरल के बारे में कुछ ऐसे ही रोचक तथ्यों से अवगत कराएंगे।

  1. केरल का नाम राज्य में विशाल नारियल के बागानों की वजह से रखा गया था। “केरा” का मतलब ‘नारियल का पेड़’ होता है और “आलम” का मतलब ‘जमीन’ होता है। इसलिए केरल को नारियल के पेड़ों की भूमि के रूप में नामित किया जा सकता है।
  2. केरल के कोच्चि में सबसे पुराना सक्रिय यहूदियों का आराधनालय “परदेसी आराधनालय” है।
  3. सबसे प्राचीन मस्जिद ‘चेरामन जुमा मस्जिद’ जिसका निर्माण 629A.D. में हुआ था, आज भी भारत के केरल में मौजूद है। यह केरल के लिए गर्व की बात है कि वह इतनी पुरानी सांस्कृतिक धरोहर की भूमि है।
  4. केरल वह राज्य है जो सम्पूर्ण विश्व को सफेद कॉयर फाइबर की विशाल मात्रा की आपूर्ति करता है। भारत में इसकी फैक्ट्री सबसे पहले लगाई गई थी। इस कारखाने का निर्माण सन् 1859 में एलेप्पी में किया गया था।
  5. देश की सबसे पहली बारिश केरल राज्य में होती हैं। जबकि देश के अन्य अधिकांश राज्यों में मानसून जुलाई माह में आता है। परंतु केरल में यह जून माह के पहले सप्ताह में ही पहुंच जाता है।
  6. केरल भारत के सबसे स्वच्छ राज्य में से एक है। सिक्किम के साथ यह भारत के सबसे साफ राज्यों की सूची में सबसे पहले नंबर पर स्थित है। यह सूची राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (NSSO) द्वारा किए गए सर्वेक्षणों के आधार पर आधारित है।
  7. केरल को “भगवान का देश” “(गॉड्स ओन कंट्री)” के रूप में भी जाना जाता है। इस नारे का उपयोग केरल की टूरिज्म विभाग ने अपने टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए सुनियोजित तरीके से किया।
  8. पद्मनाभस्वामी मंदिर, जिसमें भारी मात्रा में सोना और बहुमूल्य कीमती पत्थर हैं, केरल में स्थित है।
  9. केरल अपने आयुर्वेद में अग्रणी होने के लिए भी विश्व भर में प्रसिद्ध है। यह राज्य दुनिया के पहले आयुर्वेदिक रिसॉर्ट – सौमाथिरम के लिए भी प्रसिद्ध है।
  10. देश में विभिन्न प्रकार की दवाइयां उपलब्ध होने के बावजूद भी, केरल सबसे पहले आयुर्वेदिक दवाओं को ही अपनी प्राथमिक दवाओं के रूप में इस्तेमाल करता है।
  11. पोंडिचेरी के साथ, केरल भारत का एकमात्र ऐसा राज्य है जिसका लिंगानुपात 0.99 से अधिक है। इस राज्य में प्रति 1000 पुरुषों पर 1084 महिलाएं हैं।
  12. साक्षरता दर में भी केरल भारत के सभी राज्यों में सबसे आगे हैं। 2011 की जनगणना के अनुसार इस राज्य की साक्षरता दर 93.91% है। पाठनमिथिट्टा शहर की साक्षरता दर 97.42% अंकित की गई है।
  13. केरल के सबसे आश्चर्यजनक तथ्यों में से एक यह है कि यह राज्य भारत में सोने का सबसे बड़ा उपभोक्ता है। यह राज्य अकेले ही देश के कुल सोने का लगभग एक 1/5वां भाग उपभोग करता है। यहां की शादियों में दुल्हन को सोने से ढकना एक सामान्य दृश्य माना जाता है।
  14. केरल में औषधीय गुणों से भरपूर जड़ी बूटियों का अपार संग्रह है। यहां भारंगी, दालचीनी, हल्दी, ब्रह्मी, अश्वगंधा, अमलकी और फीलैंथस आमरस जैसी अनेकों जड़ी बूटियां बड़ी ही आसानी से मिलती हैं। यदि दूसरे शब्दों में कहा जाए तो यह राज्य गुणों से भरपूर जड़ी बूटियों का घर है।
  15. 2017 के CMS ‘इंडियन करप्शन स्टडी’ के अनुसार, केरल भारत के सबसे कम भ्रष्ट राज्यों में एक है। यहां सार्वजनिक सेवाओं में लगभग 4% भ्रष्टाचार पाया गया है।
  16. यदि हम शराब की खपत की बात करें तो देश में केरल में प्रति व्यक्ति शराब की खपत सबसे अधिक है। बीबीसी के एक अध्ययन के अनुसार, केरल में शराब की खपत प्रति व्यक्ति प्रति वर्ष 8 लीटर से अधिक है। जो कि पंजाब और हरियाणा से ज्यादा है।
  17. भारत में केरल रबड़ का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य है। यह देश में उत्पादित कुल रबड़ का 90% से अधिक भाग का उत्पादन करता है। राज्य की 5 हेक्टेयर से अधिक भूमि रबड़ के उत्पादन के लिए उपयोग में लाई जाती है।
  18. सन् 1958 में शुरू किए गए केरल शिक्षा अधिनियम ने राज्य में साक्षरता दर को जबरदस्त बढ़ावा दिया और इसी अधिनियम ने केरल को भारत के सबसे साक्षर राज्य बनाने में प्रमुख भूमिका निभाई।
kerala backwaters
  1. नेशनल ज्योग्राफिक द्वारा प्रकाशित “द ट्रैवलर मैगजीन” के सन् 1999 के संस्करण में केरल को दुनिया के टॉप 10 पैराडाइस की सूची में शामिल किया गया है। जो कि किसी भी राज्य के लिए गर्व की बात होगी।
  2. “हाथी” इस राज्य का मुख्य पशु है और इसका इस राज्य से विशेष संबंध है। यह यहां के किसी भी धार्मिक त्यौहार या जुलूस में अनिवार्य भूमिका निभाता है।
  3. बैकवाटर या अनूपझील इस राज्य में आए हुए पर्यटकों के आकर्षण का मुख्य केंद्र होती हैं। यह झीलें धाराओं और लहरों के साथ बड़ी जटिलता से इस प्रकार जुड़ती हैं कि यह सभी अंतःक्षेत्रों को उत्कृष्ट बनातीं हैं। लैगून और झीलें इस बैकवाटर के मुख्य घटक हैं, जो अरब सागर के समानांतर चलते हैं।
  4. नारियल के पेड़ों का वृक्षारोपण, केरल की अर्थव्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है‌ तकरीबन 7.70 हेक्टेयर कृषि योग्य क्षेत्र केवल नारियल के पेड़ों रोपण के लिए उपयोग में लाया जाता है।
  5. केरल का ‘दर्द और उपशामक समाज’, रोगियों, पीड़ितों या फिर दुखियों को ना केवल भावनात्मक सहायता प्रदान करता है अपितु मुफ्त होम केयर सेवाएं भी प्रदान करता है। इनके इसी प्रकार के महान प्रयासों के कारण ही, केरल को भारत में मरने के लिए सबसे अच्छी जगह के रूप में नामांकित किया गया है।
  6. सन 2016 में केरल भारत का पहला डिजिटल राज्य बना। तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने इस राज्य को यह उपाधि से सम्मानित किया। केरल में पूर्ण मोबाइल कनेक्टिविटी और लगभग 75% इंटरनेट कनेक्टिविटी के साथ यह राज्य भारत में सबसे ज्यादा दूरसंचार साक्षरता दर के साथ पहले स्थान पर है।
  7. केरल भारत का पहला राज्य है, जिसने पंचायतों और गांवों को राष्ट्रीय ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क प्रोग्राम के हाई स्पीड ब्रॉडबैंड कनेक्शन के तहत शामिल किया।
  8. यह कम ही लोग जानते हैं कि केरल में सबसे अधिक डिजिटल बैंकिंग उपयोगकर्ता और परिचालन बैंक खाते हैं।
  9. सन् 2016 में केरल, भारत का पहला ऐसा राज्य बना, जिसने 100% प्राथमिक शिक्षा की दर, अपने साक्षरता कार्यक्रम ‘अथुलियम’ के जरिए प्राप्त की।
  10. आप में से बहुत कम लोग हैं जिन्हें यह पता है कि केरल भारत का ऐसा राज्य है, जहां मृत्यु दर सबसे अधिक है। भारत के रजिस्टरार जनरल द्वारा आयोजित ‘नमूना पंजीकरण सर्वेक्षण’ (SRS) के सर्वेक्षण अनुसार राज्य की मृत्यु दर प्रति 1000 जीवित जन्मों पर 10 है।
  11. केरल अपने मसालों के लिए भी भारत में प्रसिद्ध है और इसे भारत का ‘मसाला तट’ भी कहा जाता है। इसका पूरा श्रेय यहां पर आए और बसे हुए ईसाइयों, मुसलमानों, यहूदियों और व्यापारियों की विभिन्न संस्कृतियों को जाता है ।
  12. यह आश्चर्यजनक बात है कि केरल में जीवन की औसत अवधि 75 वर्ष है जबकि देश के अन्य राज्यों में 64 वर्ष ही कहीं गई है।
  13. केरल पश्चिम घाट से इस प्रकार घिरा है कि यह दुनिया के आठ सबसे बड़े आकर्षक केंद्रों में से एक है। इस राज्य में अधिक मात्रा में राष्ट्रीय उद्यान, वन्यजीव अभयारण्य और अधिकांश जंगल मिलते हैं। जो इस राज्य के वन्य जीवन को दर्शाते हैं।
  14. अनामीलाई रेंज की “अनमुदी चोटी” को ‘दक्षिण भारत का एवरेस्ट’ कहा जाता है। इस शिखर की ऊंचाई अविश्वसनीय रूप से 8133 फीट है। जिसे पश्चिम घाट पर सबसे ऊंचा स्थान माना जाता है। यह एर्नाकुलम और इडुक्की जिलों के साथ अपनी सीमाओं को साझा करती नजर आती है।
  15. इतना ही नहीं, केरल कुछ दुर्लभ आद्रभूमियों का भी घर है। मुख्य रूप से तीन आद्रभूमि स्थल – सस्तमकोट्टा झील, वेम्बनाड-कोल वेटलैंड और अष्टमुडी झील प्रमुख हैं। यह रामसर स्थल महत्वपूर्ण पारिस्थितिक भूमिका निभाते हैं और राज्य के सबसे संरक्षित रहस्यों में से एक हैं। सस्तमकोट्टा झील केरल की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील है।
  16. “कनिमरी”, वह वृक्ष है जो मल्लपुरम में रोपित है और दुनिया का सबसे पुराना पेड़ है। इसके पर्यावरणीय महत्व के अलावा, क्षेत्र में रहने वाली कई जनजातियों द्वारा इसकी पूजा भी की जाती है।
  17. केरल, भारत का पहला राज्य है जहां 4 परिचालन अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे हैं। यह कोचीन, कोझीकोड, तिरुवनंतपुरम और कन्नूर में स्थित हैं।
  18. एक और चौंका देने वाला तथ्य यह है कि केरल के कोच्चि में स्थित हवाई अड्डा दुनिया का पहला पूरी तरह सौर ऊर्जा से संचालित हवाई अड्डा है। पर्यावरण के प्रति अपने इस योगदान के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा इस हवाई अड्डे को “चैंपियन ऑफ द अर्थ” की उपाधि से सम्मानित किया गया है।
kerala tea estate
  1. केरल दुनिया का पहला शिशु-अनुकूल राज्य है। डब्ल्यूएचओ और यूनिसेफ के द्वारा प्रायोजित बेबी फ्रेंडली इनिशिएटिव को 1993 से केरल ने अपनाया हुआ है।
  2. केरल देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जिसकी संस्थागत प्रसव दर 99.9% है। राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण के अनुसार कहा गया है कि केरल में लगभग सभी शिशु चिकित्सा संस्थानों और अस्पतालों में पैदा हुए हैं।
  3. केरल का “मुजप्पिलगढ़ बीच” एशिया में सबसे लंबा ड्राइव-इन बीच है। यह NH-66 के समानांतर चलता है। बीबीसी द्वारा इसे ड्राइव-इन के लिए दुनिया के शीर्ष 6 समुद्र तटों में भी स्थान दिया गया है।
  4. केरल में लगभग 44 नदियां बहती हैं जो इस राज्य को कृषि के लिए अनुकूल और समृद्ध बनाती हैं।
  5. भारतीय राज्य के रूप में केरल का इतिहास अपने वर्तमान स्वरूप में स्वतंत्रता के बाद शुरू होता है। इस राज्य का गठन 1956 में हुआ था।
  6. “मलयालम” केरल में सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली भाषा है। यह इस राज्य की अधिकारिक भाषा भी है।
  7. केरल में वनस्पतियों और जीव-जंतुओं का खजाना है। इस राज्य में कुल पांच राष्ट्रीय उद्यान और 18 वन्यजीव अभ्यारण्य है।
  8. अंजू बॉबी जॉर्ज, केरल की पहली मलयाली महिला थीं, जिन्होंने विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक की जीत कर राज्य का गौरव बढ़ाया था।
  9. दक्षिण भारत में सन् 1888 में स्थापित, होली एंजेल कान्वेंट, लड़कियों का पहला हाई स्कूल है।
  10. सन् 1963 में केरल के “थुंबा” से पहले ध्वनि वाले रॉकेट के प्रक्षेपण से भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी।
  11. तिरुअनंतपुरम, केरल में भाषा संस्थान के मुख्यालय का घर है।
  12. एराविकुलम, केरल का पहला और सबसे बड़ा राष्ट्रीय उद्यान है।
  13. केरल ‘श्री नारायण गुरु’ की जन्मभूमि है। जो कि एक आध्यात्मिक नेता, भारत में एक हिंदू संत और समाज सुधारक के रूप में प्रसिद्ध थे।
  14. “अम्मैथोटिल” को सन् 2002 में त्रिवेंद्रम में लांच किया गया था। यह एक सरकारी पहल है, जो परित्यक्त बच्चों की देखभाल करती है और उन्हें सेवाएं प्रदान करती है।
  15. KINFRA केरल का पहला एनिमेशन पार्क था।
  16. केरल के दिलचस्प और अज्ञात तथ्यों में से एक तथ्य यह है कि भारत का पहला मिट्टी का संग्रहालय केरल के “पारोटुकोनम” में स्थित है।
  17. राज्य का पहला महिला पुलिस स्टेशन “कोझिकोड” नामक स्थान में स्थापित है।
  18. त्रिवेंद्रम, केरल का पहला विद्युतीकृत शहर था। सन् 1933 में इस शहर का विद्युतीकरण किया गया था।
kerala spices
  1. पी.टी. उषा, भारत की प्रसिद्ध ओलंपियन, केरल राज्य से ही संबंध रखतीं हैं।
  2. मट्टनचेरी केरल का पहला पर्यटक पुलिस स्टेशन स्थापित किया गया था।
  3. नीन्दकारा केरल का पहला तटीय पुलिस स्टेशन बनाया गया था।
  4. केरल में एक मत्स्य विश्वविद्यालय है। जिसका नाम केरल मत्स्य विश्वविद्यालय है। यह एर्नाकुलम में स्थित है।
  5. केरल संस्कृत भाषा के संरक्षण के लिए जाना जाता है। प्रसिद्ध श्री शंकराचार्य संस्कृत विश्वविद्यालय केरल के एर्नाकुलम जिले में स्थित है।
  6. कोझीकोड, जिसे पहले कालीकट के नाम से जाना जाता था, यह वह स्थान है जहां सन् 1498 में पुर्तगाली खोजकर्ता वास्कोडिगामा उतरे थे।
  7. प्रसिद्ध “थाटेकड” पक्षी अभ्यारण केरल में स्थित है। यह राज्य का पहला पक्षी अभयारण्य था।
  8. “मट्टूपेटी” केरल में निर्मित पहला कंक्रीट बांध था।
  9. भारत का पहला जैविक पार्क “अगस्त्यमवनम”, केरल में स्थित है।
  10. केरल का “थनमाला” भारत में पहली ईको-टूरिज्म परियोजना थी। यह राज्य का सबसे बड़ा जलाशय है।
  11. त्रिवेंद्रम पब्लिक लाइब्रेरी केरल का पहला सार्वजनिक पुस्तकालय था।
  12. “कोनी” केरल का पहला आरक्षित वन था।
  13. “वेल्लयानी” एक सुंदर मीठे पानी की झील है।
  14. नीलगिरी की पहाड़ियों में, “साइलेंट वैली नेशनल पार्क” केरल का एक राष्ट्रीय उद्यान है। इस पार्क में आज भी वनस्पतियों और जीवों की कुछ दुर्लभ प्रजातियां मिलतीं हैं।
  15. पलक्कड़ में “मालमपूझा” राज्य का सबसे बड़ा बांध है।
  16. “पेरियार वन्यजीव अभ्यारण” केरल का पहला वन्यजीव अभयारण्य है।
  17. “पेरियार” केरल की सबसे लंबी नदी है।
  18. केरल में कुल नौ राष्ट्रीय राजमार्ग हैं।
kerala houseboat
  1. के. एम. बीनमोल खेल रत्न पुरस्कार जीतने वाली पहली मलयाली महिला बनीं।
  2. अन्ना मल्होत्रा केरल की पहली महिला आईएएस थीं।
  3. एनी मस्कारीन ने पहली मलयाली महिला सांसद बनने का गौरव प्राप्त किया था।
  4. आर. श्रीलेखा राज्य की पहली महिला आईपीएस अधिकारी बनीं।
  5. फातिमा बीवी राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग की सदस्य बनने वाली पहली मलयाली महिला थीं।
  6. सुजीता वी. मनोहर, ने केरल की पहली महिला उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश बनने का गौरव प्राप्त किया था।
  7. जोती वेंकटचलम केरल की पहली महिला चांसलर और गवर्नर थीं।
  8. केरल में 34 जिले और 44 नदियां हैं।
  9. केरल में 20 लोकसभा और 9 राज्यसभा सीटें हैं।
  10. केरल में केवल एक छावनी है, जो कन्नूर जिले में स्थित है।
  11. “कटहल” केरल राज्य का आधिकारिक फल है। जिसे जैकफ्रूट के नाम से भी जाना जाता है।
  12. “कनीकोकोना” केरल का राज्य पुष्प है।
  13. “केरिमेन” (ग्रीन क्रोमाइड) केरल की अधिकारिक मछली है।
  14. “ग्रेट इंडियन हॉर्नबिल” केरल का अधिकारिक पक्षी है।
  15. केरल देश के कुल क्षेत्रफल का 1.18% हिस्सा है।
  16. केरल में “कांजीकुंज़ी” (अलप्पुझा) स्वराज ट्रॉफी पाने वाली पहली पंचायत थी।
  17. यह राज्य अपने समुद्र तटों के लिए जाना जाता है राज्य का तटीय क्षेत्र 580 वर्ग किलोमीटर का है। मनमोहक समुद्र तटों के कारण, केरल पर्यटकों का सबसे ज्यादा ध्यान अपनी तरफ आकर्षित करता है। यह समुद्र तट केरल को भारत में मशहूर पर्यटन स्थल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  18. केरल के इडुक्की जिले में स्थित “मूलमट्टम पावर स्टेशन”, भारत में सबसे बड़ी भूमिगत जलविद्युत परियोजना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here