आइये जानते हैं ‘राजस्थान’ से जुड़े ये 88 दिलचस्प तथ्य

0
23
rajasthan facts

राजस्थान से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्यों के बारे में जानने के लिए तैयार हो जाइए जो राजस्थान के विषय में आपकी जानकारी को और बढ़ाएंगे। कुछ ऐसे तथ्य जो इसे भारत के सबसे बेहतरीन पर्यटन स्थलों में से एक बनातें हैं और काफी आश्चर्यजनक भी है! आइये इन दिलचस्प तथ्यों के साथ अपने ज्ञान को बढ़ाने की शुरुआत करते हैं.

  1. राजस्थान को अक्सर सबसे अधिक रंग-समन्वित राज्य के रूप में जाना जाता है। राजस्थान के कुछ लोकप्रिय शहर कुछ अलग-अलग रंगों के लिए समर्पित हैं। जैसे जयपुर का प्रधान रंग गुलाबी है, तो जोधपुर नीला है, उदयपुर सफेद रंग का है और झालावाड़ का रंग बैंगनी है।
  2. मेहरानगढ़ के किले के बारे में एक बात बहुत मशहूर है – इस पोल गेट में महाराजा मानसिंह की 15 विधवाओं के हाथों के निशान हैं, जो उन्होंने अपने पति महाराजा मानसिंह के अंतिम संस्कार के पहले अपनी हस्त रेखाओं द्वारा बनाई थी।
  3. रामायण के अनुसार मंदोदरी रावण की पत्नी थीं। ऐसा माना जाता है कि उनका संबंध राजस्थान के प्राचीन शहर मंडोर से था। वह वही जन्मी थीं।
  4. राजस्थान के बारे में एक अज्ञात तथ्य यह है कि यह भारत की सबसे पुरानी पर्वत श्रृंखला- अरावली रेंज का घर है।
  5. राजस्थान में केवल एक हिल स्टेशन है, जिसका नाम माउंट आबू है।
  6. यदि राजस्थान के इतिहास के बारे में बात की जाए तो राज्य में कालीबंगन नामक एक जगह से पता चलता है कि यह दुनिया कि सबसे पहला प्रमाणित ऐसी जगह है जहां खेती की गई । इसका मतलब है कि यह स्थान दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता – सिंधु घाटी सभ्यता का भी एक हिस्सा रहा है।
  7. भारत की एकमात्र खारी नदी, लूणी, राजस्थान में थार रेगिस्तान से होकर बहती है और गुजरात के कच्छ के रण नामक स्थान में समाप्त होती है ।
  8. राजस्थान में तीन यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल हैं – केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, जयपुर के जंतर मंतर और राजस्थान के पहाड़ी किले. इन पहाड़ी किलों में चित्तौड़ का किला, कुंभलगढ़ किला, रणथंभौर किला, आमेर किला, जैसलमेर किला और गागरोन किला शामिल है।
  9. जैसलमेर जिले का “कुलधारा” राजस्थान का एक परित्यक्त शहर है। यहां जानने वाली दिलचस्प बात यह है कि इस शहर को 1800 के दशक में रातोंरात छोड़ दिया गया था।
  10. राजस्थान में चलने वाली पैलेस ऑन व्हील्स ट्रेन, दुनिया की सबसे शानदार लक्ज़री ट्रेनों में से एक है।
  11. राजस्थान राज्य में कई प्रेतवाधित स्थान हैं। हालांकि, उन सभी में, बांधवगढ़ किला सूची में सबसे ऊपर है। यह भारत के सबसे प्रेतवाधित स्थानों में से एक है।
  12. अरावली रेंज पर स्थित कुंभल किले में 38 किमी लंबी दीवार शामिल है, और यही कारण है कि चीन की महान दीवार के बाद दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा दीवार परिसर यह है। इसके साथ ही यह किला भी राजस्थान में अपनी तरह का दूसरा सबसे बड़ा किला है।
  13. राजस्थान के सबसे बड़े किले की बात करें तो चित्तौड़ किला जिसे चित्तौड़गढ़ के नाम से भी जाना जाता है, सबसे ऊपर है।
  14. प्राचीन धर्मग्रंथों के अनुसार, पुष्कर में दुनिया का एकमात्र भगवान ब्रह्मा जी का मंदिर स्थित है।
  15. कुल 34,239 वर्ग किमी के कुल क्षेत्रफल के साथ राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य है।
  16. राजस्थान का गठन सन् 1949 में 22 शाही राज्यों और रियासतों को मिलाकर किया गया था।
  17. रेगिस्तानी भूमि होने के बावजूद, राजस्थान से जुड़ा का एक अनोखा तथ्य यह भी है कि यह भारत के उन 5 शीर्ष राज्यों में से एक है जिन्हें सबसे अधिक झीलों को रखने का गौरव प्राप्त है।
  18. राजस्थान भारत की सबसे बड़ी अंतर्देशीय साल्ट लेक का घर भी है, जो थार रेगिस्तान में सांभर साल्ट लेक के नाम से मशहूर है।
  19. राजस्थान के आकर्षक वन्यजीवों में बाड़मेर और जैसलमेर के शहरों के पास स्थित डेजर्ट नेशनल पार्क को शामिल करना ना भूलें, यह भारत के सबसे बड़े पार्कों में से एक हैं।
  20. शहर के जीवन से दूर, राजस्थान में कुछ दिलचस्प चीजों का आनंद आप जरूर ले सकते हैं। जिनमें से एक है रेत में गाड़ी चलाना या ऑफ रोड अनुभव का भरपूर आनंद लेना।
  21. राजस्थान में रेगिस्तान की सफारी का आनंद लेने का सबसे अच्छा और पारंपरिक तरीका ऊंट की सवारी के माध्यम से है।
rajasthan camel tourism
  1. हर कला और संस्कृति प्रेमी के लिए, शिल्पग्राम संग्रहालय वह स्थान है जिसे राजस्थान में छुट्टियां मनाते समय आप देखना भूल ही नहीं सकते। यह किसी भी अन्य सामान्य संग्रहालय के विपरीत, एक संपूर्ण गाँव है, जो भारत की पारंपरिक कला और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए एक संग्रहालय के रूप में परिवर्तित हो गया है।
  2. यदि आप जयपुर में हैं, तो आमेर किले तक हाथी की सवारी का अनुभव लेना ना भूलें यह वह चीज है जो आपके जयपुर के दौरे को संपूर्ण करने का अनुभव दिलाती है।
  3. राजस्थान भी भारत के मुख्य शॉपिंग केंद्रों में से एक है, यहां पर शॉपिंग का मुख्य आकर्षण यहां की प्रसिद्ध पारंपरिक हस्तशिल्प कला और यहां के बने विशिष्ट डिजाइन वाले आभूषण हैं।
  4. राजस्थान हाथों द्वारा काटकर बनाए गए रत्न और आभूषणों के उद्योग का केंद्र है। आप चाहे तो गोल्ड ज्वेलरी, सिल्वर ज्वैलरी, कुंदन, नक्काशीदार ट्रेंकेट या मीना हो, राजस्थान ही एकमात्र ऐसी जगह है, जहां आप इन्हें आसानी से पा सकते हैं और वह भी अनोखे डिजाइन और पैटर्न में।
  5. राजस्थान की राजधानी जयपुर, की स्थापना वर्ष 1727 में महाराजा जय सिंह द्वितीय द्वारा की गई थी। जयपुर से पहले, महाराजा जय सिंह द्वितीय के शासन में अंबर इस राज्य की राजधानी हुआ करती थी।
  6. राजस्थान पांच राज्यों – उत्तर प्रदेश, हरियाणा, पंजाब, मध्य प्रदेश और गुजरात के साथ अपनी सीमा साझा करता है।
  7. रेगिस्तानी भूमि होने के बावजूद, राजस्थान रेत के बारे में नहीं बल्कि यहां पर पाई जाने वाली अन्य प्राकृतिक सुंदरताओं के लिए प्रसिद्ध है, यहां हरे-भरे चरागाह भी हैं।
  8. ‘राजस्थान शब्द का शाब्दिक अर्थ है “द लैंड ऑफ किंग्स” जिसका अर्थ हुआ “राजाओं की भूमि”।
  9. राजस्थान वह स्थान है जहाँ आप किसी अन्य मवेशियों की तरह ऊँटों भी घूमते टहलते हुए दिख सकते हैं।
  10. जब ऊंटों के बारे में बात कर ही रहे हैं तो यह भी बताना जरूरी है कि बीकानेर ऐसा शहर है जो हर साल जनवरी के महीने में अंतर्राष्ट्रीय ऊंट मेले की मेजबानी करता है।
  11. यूं तो भारत में कई जैन धर्म से जुड़े पवित्र स्थल हैं। परंतु उन सभी में से, दिलवाड़ा मंदिर सबसे सुंदर जैन तीर्थस्थल है, जो राजस्थान के माउंट आबू में स्थित है।
  12. राजस्थान में लगभग हर घर की दीवारों पर किसी न किसी तरह की कलाकृति होती है। यहां तक कि यह सीमेंट या साइकिल या फिर बरतन का विज्ञापन तक हो सकता है।
  13. हर साल, अक्टूबर / नवंबर के महीने में, पुष्कर शहर भारत के सबसे बड़े पशुधन मेलों में से एक का आयोजन करता है – जिसे पुष्कर मेला कहा जाता है। कुछ लोग इसे “पुष्कर ऊंट मेला” के नाम से भी जानते हैं। यह बहुत ही प्रसिद्ध मेला होता है। यहां तरह-तरह के ऊंट इस मेले के दौरान दिखाई देते हैं।
  14. देशनोक में स्थित करणी माता मंदिर राजस्थान के अद्वितीय तीर्थ स्थलों में से एक माना जाता है। इस मंदिर में 25,000 से भी अधिक काले रंग के चूहों का घर है। यहां इन चूहों को अति पवित्र माना जाता है और इसीलिए यहां आने वाला हर भक्त इन्हें दूध और अन्य खाद्य पदार्थों की पेशकश करता है।
  15. राजस्थान के पाली जिले में एक और विचित्र मंदिर स्थित है जिसे बुलेट बाबा मंदिर के नाम से जाना जाता है। यहां पर देवता आपको पीठासीन मुद्रा में दिखाई देंगे। खैर, यह भारतीय मूल की मोटर बाइक है जिसे हम बुलेट के नाम से जानते हैं।
  16. राजस्थान के जयपुर में स्थित, जयपुर का हवामहल राजस्थान के प्रतिष्ठित प्रतीकों में एक है। यह गुलाबी बलुआ पत्थर से निर्मित, ऐतिहासिक स्मारक अपनी शानदार वास्तुकला के लिए जाना जाता है जिसमें कुल 953 खिड़कियां शामिल हैं।
  17. कच्छी घोड़ी राजस्थान का पारंपरिक नृत्य है जिसे आपने किसी स्थान या टेलीविजन पर जरूर देखा होगा। यह नृत्य एक डमी घोड़े के साथ किया जाता है जो एक नर्तक की बर्बादी पर आधारित होता है।
  18. राजस्थान के जैसलमेर नामक जिले में पोखरण वह शहर है, जहां भारत का पहला परमाणु परीक्षण सन् 1974 में किया गया था। प्रसिद्ध बॉलीवुड फिल्म ‘पोखरण’ में पूरे ऑपरेशन की सच्ची कहानी को दर्शाया गया है।
  19. राजस्थान के जोधपुर का मेहरानगढ़ किला राज्य के महत्वपूर्ण पर्यटन आकर्षणों में से एक है। इस किले को बॉलीवुड और हॉलीवुड दोनों प्रकार की फिल्मों में चित्रित किया गया है। जहां हॉलीवुड में “द डार्क नाइट राइज़” (2012), “द जंगल बुक” (1994) शामिल हैं वहीं दूसरी ओर बॉलीवुड की आवारापन (2007) फिल्म शामिल है।
  20. हाथी हमेशा राजस्थान के शाही जीवन का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं। और राजस्थान में छुट्टियां मनाते समय, आपके पास इन हाथियों को एक नए अवतार में देखने का अवसर मिल सकता है जिसमें यह पोलो खेलते हुए नजर आते हैं।
  21. भारत में एक सुंदर परंपरा का खेल पतंगबाजी है जो अभी भी राजस्थान के सभी क्षेत्रों में बहुत पसंद किया जाता है। हर साल, जनवरी के महीने में, जयपुर एक अंतर्राष्ट्रीय पतंग महोत्सव का आयोजन करता है।
  22. हाथी और ऊंट के अलावा, राजस्थान के राजघरानों में घोड़ों का भी बहुत प्रचलन रहा है। इसलिए, घुड़सवारी भी राजस्थान के सबसे महत्वपूर्ण और पारंपरिक चीजों में से एक है।
  23. राजस्थान का स्थान भारत के उन राज्यों में से है जिन का दौरा उनकी संस्कृति और परंपरा से रूबरू हुए बिना अधूरा होता है। इसी संस्कृति और परंपरा को पूरा करता है “चौखी ढाणी”। यह वह स्थान है जहां आपको राजस्थान के लोक नृत्यों, संगीत, भोजन और बहुत कुछ एक साथ एक ही जगह पर मिल जाता है।
rajasthan fort tourism
  1. राजस्थान में लोग अपने अतिथियों का स्वागत सत्कार बहुत मान सम्मान के साथ करते हैं और यही कारण है कि यहां आकर आपको ऐसा लगेगा जैसे यह आपके घर से दूर आपका दूसरा घर है। यहां के लोग आपका स्वागत न केवल खुले दिल से करते हैं बल्कि उनके भोजन, मेहमान-नवाजी आदि काबिले तारीफ होती है।
  2. जयपुर के जंतर मंतर में दुनिया की सबसे बड़ी पत्थर की सूर्य-घड़ी घर रखी हुई है। यह यूनेस्को के अनुसार विश्व की धरोहर भूमि भी है। जिसमें 19वीं शताब्दी की वास्तु खगोलीय उपकरणों का एक समृद्ध संग्रहालय भी है।
  3. जोड़ों के लिए, राजस्थान नई नवेली शादी के बंधन में बंधने जा रहे जोड़ों के लिए मनपसंद डेस्टिनेशन वेडिंग वाली जगहों में से एक है। साथ ही यह स्थान हनीमून मनाने के लिए भी बहुत पसंद किया जाता है।
  4. झुंझुनू जिले में, मांडवा नाम का एक छोटा शहर है जो चीन के रेशम मार्ग पर स्थित है। यह शहर कई शानदार हवेलियों का घर है जो व्यापारियों द्वारा बनाई गई थीं। इन हवेलियों में विभिन्न प्रकार की कलाओं का प्रदर्शन किया गया है जो इन हवेलियों की आंतरिक और बाहरी दीवारों पर विभिन्न विषयों के चित्रों द्वारा सुशोभित हैं। यह कलाएं इन हवेलियों की सुंदरता को और अधिक बढ़ा देती हैं।
  5. ऐतिहासिक स्थान होने के अलावा, राजस्थान वन्यजीव प्रेमियों के लिए भी एक आदर्श स्थान है। राजस्थान में कुल मिलाकर 25 वन्यजीव अभयारण्य और 5 राष्ट्रीय उद्यान है। जहां पर विभिन्न प्रजातियों के वन्य प्राणी निवास करते हैं।
  6. राजस्थान के सभी राष्ट्रीय उद्यान और वन्य जीव अभ्यारण्य में से रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान रॉयल बंगाल टाइगर के लिए सबसे उपयुक्त स्थान माना जाता है। इस पार्क को सबसे अधिक बाघ वाले उद्यान के रूप में भी जाना जाता है।
  7. दुनिया के सर्वश्रेष्ठ हेरिटेज (धरोहर) होटलों में से एक राजस्थान के जोधपुर का उम्मेद भवन है। यह भवन यहां के सबसे बड़े शाही एवं राजसी होटल होने के साथ ही डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए भी से सबसे उपयुक्तत स्थानों में से एक है।
  8. राजस्थान के किसी भी हेरिटेज होटल को चुनकर आप राज शाही जीवन का आनंद उठा सकते हैं। यहां के कुछ लोकप्रिय होटल में से उदयपुर का ताज लेक पैलेस, जयपुर का रामबाग पैलेस, उदयपुर का ही शिव निवास पैलेस और जैसलमेर का गोरबंध पैलेस बहुत मशहूर है। यहां की मेहमान नवाजी विश्व प्रसिद्ध है।
  9. पक्षी प्रेमियों के लिए, केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान राजस्थान के भरतपुर में सबसे उपयुक्त स्थान है। इस राष्ट्रीय उद्यान में पक्षियों की 370 से भी अधिक प्रजातियां देखने को मिलती हैं। इसी कारण इस स्थान को “पक्षियों का स्वर्ग” भी कहा जाता
  10. जब बात सबसे अधिक किलों वाले भारतीय राज्यों की आती है तो महाराष्ट्र के बाद राजस्थान का स्थान इस सूची में दूसरा है। इस राज्य में 45 से भी अधिक किलें मौजूद हैं।
  11. राजस्थान का जीवंत राज्य गर्व से भारत के सबसे बड़ा रेगिस्तान को भी अपने अंदर समेटे हुए हैं। इस सबसे बड़े रेगिस्तान को थार रेगिस्तान के नाम से जाना जाता है। यह एक अन्य नाम “द ग्रेट इंडियन डेजर्ट” के नाम से भी मशहूर है। इतना ही नहीं, यह रेगिस्तान दुनिया का 17 वां सबसे बड़ा रेगिस्तान और 9 वां सबसे बड़ा उपोष्ण कटिबंधीय रेगिस्तान भी है।
  12. बहुत कम लोग हैं जो राजस्थान और ताजमहल के बीच के संबंध के बारे में जानते हैं आपको सुनकर शायद आश्चर्य हुआ हो परंतु वह सच है ताजमहल में इस्तेमाल किए गए सफेद संगमरमर को राजस्थान के नागौर जिले के मकराना से खनन करके लाया गया था।
  13. राजस्थान भारत में मिलने वाले लघु चित्रों के लिए बहुत मशहूर है। यहां पर मुगल पेंटिंग्स भी मिलती हैं।
  14. राजस्थान अपने नीले मिट्टी के बर्तनों के लिए भी बहुत प्रसिद्ध है। यह राजस्थान की सबसे प्रसिद्ध कलाकृतियों में से एक है।
  15. अगर आपकी रुचि हस्तशिल्प कला में नहीं है तो भी आपको निराश होने की जरूरत नहीं है क्योंकि राजस्थान में मसालों का इतना बड़ा बाजार है की इस राज्य को “मसालों का राजा” कहा जाता है। यहां के जोधपुर में क्लॉक टावर मार्केट में चाय और मसाला बाजार, सुगंधित मसालों को खरीदने के लिए लोकप्रिय बाजार हैं।
  16. राजस्थान को अक्सर ‘कठपुतली’ के पर्याय के रूप में भी जाना जाता है। इसमें ज़रा भी आश्चर्य की बात नहीं है कि आप राजस्थान के किसी भी शहर में हों, आपको हर दूसरी सड़क पर कठपुतली शो नजर आ ही जाएगा। यह यहां की संस्कृति का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।
  17. यदि आप हॉट एयर बैलून (गर्म हवा वाले गुब्बारे) की सवारी करना चाहते हैं तो राजस्थान भारत के उन कुछ राज्यों में से एक है जो आपको हॉट एयर बैलून की सवारी करने का अवसर प्रदान करता है। जयपुर, पुष्कर, और रणथंभौर ऐसी जगहें हैं, जहां हॉट एयर बैलून की सवारी आसानी से की जा सकती है।
  18. राजस्थान के किले और महल ही केवल यहां के ऐतिहासिक आकर्षण केंद्र नहीं है। इसके अलावा यहां ऐसा बहुत कुछ है जो यहां के ऐतिहासिक आकर्षण को बढ़ाता है। हर साल, फरवरी के महीने में, जयपुर की राजधानी विंटेज कार रैली का आयोजन करती है, जहाँ आप कुछ शानदार सुंदर विंटेज कारों का आनंद ले सकते हैं। इस तरह की रैली का आयोजन जोधपुर शहर में भी किया जाता है।
  19. राजस्थान की ऐसी अनूठी संस्कृति है कि आपको यहां लंबें घूँघट (घूंघट) में स्त्रियां और लंबी मूछों वाले पुरुष जगह-जगह दिखाई देंगे।
  20. राजस्थान में पुरुषों के प्रमुखों को विशाल पगड़ी (पगड़ी) के साथ देखा जा सकता है, जिसका आकार किसी क्षेत्र की मौसम स्थिति के अनुसार बदलता रहता है। एक पारंपरिक राजस्थानी पगड़ी आमतौर पर 8 इंच चौड़ी और 82 इंच लंबी होती है।
  21. राजस्थानी पगड़ी से जुड़ा एक और दिलचस्प तथ्य यह है कि उदयपुर में बागोर की हवेली में दुनिया की सबसे बड़ी पगड़ी रखी हुई है। यह पगड़ी 151 इंच की है।
  22. राजस्थान में महिलाओं को विभिन्न रंगों के साड़ी पहने देखा जा सकता है। और यह उनके फैशन को सबसे अलग और अच्छे रूप में बनाता है; यह फ्लोरोसेंट ग्रीन, ब्राइट ऑरेंज, ब्राइट पिंक (चमकीला गुलाबी) या सी ब्लू (समुद्री नीला) हो, उनके पास हर रंग के कपड़ों का एक बड़ा संग्रह होता है।
  23. राजस्थान की महिलाएं आभूषणों की भी बहुत शौकीन होती हैं, और इसलिए, उनके शरीर का प्रत्येक अंग किसी न किसी प्रकार के आभूषणों से सुशोभित होता ही है।
  24. मूंछों की बात करें तो दुनिया की सबसे लंबी मूंछ वाला शख्स एक भारतीय नागरिक है, जिनका नाम राम सिंह है। यह राजस्थान में जयपुर के रहने वाले हैं।
rajasthan moustache
  1. राजस्थान में स्थित उदयपुर का ताज लेक पैलेस और जयपुर का जल महल यहां के दो सबसे लोकप्रिय ऐतिहासिक स्थलों में से एक हैं, जो अपनी विशिष्ट शिल्प कौशल के लिए जाने जाते हैं। यहां एक और बात है जो बड़ी ही दिलचस्प है वह यह कि यह दोनों महल एक झील के बीच में स्थित हैं जो इस दृश्य को और भी मनमोहक बनाता है।
  2. “पिछोला” झील यकीनन उदयपुर की सबसे मनमोहक विदेशी पर्यटक स्थलों में से एक है, जो प्राकृतिक रूप से अत्यंत सुंदर हैं। हालांकि आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि यह एक कृत्रिम झील है, जिसका निर्माण 1362 ईस्वी में किया गया था।
  3. यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की अधिकतम संख्या के संदर्भ में राजस्थान दिल्ली, गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के साथ सूची में दूसरे स्थान पर अपनी 3 हेरिटेज साइट्स के साथ अपना स्थान बनाए हुए हैं। इस सूची में सबसे ऊपर महाराष्ट्र का नाम आता है। जिसके पास 5 हेरिटेज साइट अर्थात विश्व धरोहर स्थल मौजूद हैं।
  4. पारंपरिक राजस्थानी भोजन में कुछ अतिरिक्त मसालों के साथ बनी स्वादिष्ट चपाती, चावल और सब्जियां शामिल की जाती हैं। परंतु सूची में आने वाला नाम जो सबसे ऊपर है, वह यहां बनने वाली दाल, बाटी, चूरमा का है जो कि राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध व्यंजनों में सबसे ऊपर है।
  5. मसालेदार और चटपटी चीज़ों के अलावा, राजस्थान राज्य कई मीठी चीज़ों के लिए भी प्रसिद्ध है, जिनमें फ़िनी, घेवर, गुझिया, रसगुल्ला और जलेबियों जैसी स्वादिष्ट मिठाइयां शामिल हैं।
  6. रेगिस्तानी जगह होने के कारण, कई लोगों की यह धारणा गलत है कि राजस्थान का तापमान पूरे साल गर्म और उमस भरा रहता है। यह राज्य तीनों मौसमों – सर्दी, गर्मी और बरसात तीनों ऋतुओं का भरपूर आनंद उठाता है। यहां अच्छी मात्रा में बारिश भी होती है।
  7. राजस्थान में 8 से अधिक प्रकार के लोक नृत्य प्रसिद्ध है इनमें से प्रत्येक की अपनी एक अनूठी शैली है।
  8. राजस्थान भारत का सिर्फ लोकप्रिय पर्यटन स्थल ही नहीं अपितु यह लोकप्रिय तीर्थ स्थल भी है। सीकर में खाटू श्याम मंदिर, अजमेर में चिश्ती दरगाह, पुष्कर में ब्रह्मा मंदिर, बाड़मेर में श्री नाकोड़ा पार्श्वनाथ मंदिर और माउंट आबू में दिलवाड़ा मंदिर राजस्थान के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से एक हैं इनके अलावा भी यहां पाए जाने वाले धार्मिक स्थलों की लंबी सूची है।
  9. यदि आप किसी लग्जरी छुट्टी की योजना बना रहे हैं तो आपको राजस्थान के किसी शाही हेरिटेज होटल में रुकने की आवश्यकता नहीं। यदि आप वाकई में लग्जरी छुट्टी मनाना चाहते हैं तो आपको रेगिस्तानी कैंपिंग का चुनाव करना चाहिए। ऐसा करने से आप राजस्थान के विषय में कई अज्ञात तथ्यों के बारे में जान सकेंगे ।
  10. राजस्थान अपने यहां आए सभी पर्यटकों को ट्रेक का अनुभव लेने का अवसर प्रदान करता है। जीं हां, राज्य में विभिन्न ट्रेकिंग ट्रेल्स भी हैं जो गर्म और शुष्क मौसम के कारण अन्य स्थानों से तुलनात्मक रूप से कठिन हैं। माउंट आबू और अलवर राजस्थान के दो सबसे अच्छे और मशहूर ट्रेकिंग स्थल हैं।
  11. यदि आप राजस्थान में आए हैं तो आप यहां पर वोटिंग का भी लुफ्त उठा सकते हैं। उदयपुर की फतेह सागर झील और पिछोला झील, अलवर में सिलीसेढ़ झील, जैसलमेर की गेडसेर झील और माउंट आबू की नक्की झील बोटिंग की दृष्टि से राजस्थान की सबसे लोकप्रिय नौका विहार स्थलों में से एक हैं।
  12. राजस्थान के विषय में यह बात कम लोग जानते हैं कि यह भारत के कुछ प्रमुख एडवेंचर गंतव्य में से एक है। एडवेंचर पसंद करने वाले लोगों के लिए राजस्थान जिप लाइनिंग और फॉक्स लाइनिंग जैसे एडवेंचर प्रदान करता है। इन गतिविधियों का आनंद दो अलग-अलग स्थानों पर लिया जा सकता है – जयपुर में मेहरानगढ़ किला और नीमराना किला ।
  13. भव्य रिसॉर्ट्स और शाही विरासत के अलावा, ग्रामीण पर्यटन एक ऐसी चीज है जो राजस्थान में पर्यटकों की एक बड़ी भीड़ को भी आकर्षित करती है। खुरी, बीजापुर, बिश्नोई, और मड़वा राजस्थान के कुछ लोकप्रिय गांवों में से एक हैं और राज्य के प्रमुख आकर्षण के केंद्र भी हैं।
rajasthan fort tourist
  1. राजस्थान में, कालबेलिया नामक एक जनजाति है जो अपने अद्भुत नृत्य के लिए जानी जाती है। कलबेलिया जनजाति में पुरुष बांसुरी बजा कर सांपों से कृत्य करवाते हैं जबकि सुंदर स्त्रियां बांसुरी के स्वर में मनमोहक नृत्य करतीं हैं।
  2. राज मंदिर सिनेमा एक भव्य मूवी थियेटर है, जिसने जयपुर में मूवी हॉल की अवधारणा को बदल दिया है। सामान्य फिल्म थियेटर के विपरीत, राज मंदिर में एक सुंदर मेरिंग्यू-शैली की वास्तुकला है, जो इसको अन्य किसी भी सिनेमाघर से बिल्कुल अलग बनाता है।
  3. राजस्थान की पारंपरिक कला में ब्लॉक प्रिंटिंग भी शामिल है। और राजस्थान में ब्लॉक प्रिंटिंग की कुछ महान कलाकृति को फिर से प्रकाशित करने के लिए, जयपुर में स्थित “अनोखी म्यूजियम ऑफ हैंड प्रिंटिंग” सबसे अच्छी जगह है। यहां आप विभिन्न प्रकार की ब्लॉक प्रिंटिंग देख सकते हैं।
  4. राजस्थान में लगने वाले मेलों में भारत के सबसे बड़े पशु मेलों में से एक है – नागौर मेला। नागौर शहर में जनवरी – फरवरी के महीने में मनाया जाने वाला यह पशु मेला बड़ी ही खूबसूरती से सजाए गए जानवरों, लोक नृत्यों, संगीत के बारे में बहुत कुछ बताता है।
  5. वर्तमान में, जैसलमेर किला दुनिया का एकमात्र आबादी वाला किला है। इस किले में आबादी का एक बड़ा हिस्सा अभी भी रह रहा है।
  6. जयपुर भारत का पहला योजनाबद्ध शहर है जो भारत की स्वतंत्रता से पहले बसाया गया था। सवाई मान सिंह द्वितीय के शासन के दौरान, शहर को एक बंगाली वास्तुकार – पुरोहित विद्याधर भट्टाचार्य द्वारा डिजाइन किया गया था।
  7. जोधपुर के घोड़ों को घोड़ों की दुर्लभ नस्ल माना जाता है जो कई प्रकार के रंगों में आते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here