जानिये अतुलनीय हिमाचल प्रदेश के बारे में ये 50 दिलचस्प बातें

0
20
himachal pradesh

हिमाचल प्रदेश हिमाचल रेंज की निचली सतह पर स्थित है। यह प्रदेश देश की एक सांस्कृतिक धरोहर जैसा है। यह प्रकृति के प्रेमियों और एडवेंचर पसंद लोगों की सबसे पसंदीदा जगह में से एक है। इस राज्य के बारे में ऐसे कई दिलचस्प तथ्य हैं, जिनके बारे में ज्यादातर लोग नहीं जानतें हैं। आज हम आपको इसके बारे में कुछ रोचक तथ्य बताएंगे, जिन्हें जान करके आप भी आश्चर्यचकित रह जाएंगे और यदि आपने अभी तक यहां घूमने का विचार नहीं बनाया है तो अब जरूर बनाएंगे।

  1. कुल्लू में स्थित ‘कसोल’ एक विचित्र पहाड़ी शहर है, जिसे ‘मिनी इजराइल’ के नाम से भी जाना जाता है। इजराइली पर्यटक यहां बार-बार आते हैं और शहर के कई प्रतिष्ठित व्यक्ति हिब्रू भाषा (hebrew language) में हस्ताक्षर करते हुए दिखाई देते हैं।
  2. सिरमौर जिले के ‘शिवालिक जीवाश्म पार्क’ में 85 मिलियन (साढ़े आठ करोड़) सालों से भी अधिक पुराने जीवाश्म पाए गए हैं।
  3. हिमाचल शब्द संस्कृत के शब्द ‘हेमा’ और ‘अंचल’ का एक संयोजन है। जिसका अर्थ क्रमशः ‘बर्फ’ और ‘गोद’ होता है। यह किसी संयोग की बात नहीं की है कि यह राज्य हिमाचल की गोद में स्थित है। इसी कारण इसका नाम हिमाचल पड़ा।
  4. ‘कुल्लू दशहरा’ 7 दिनों तक चलने वाला ऐसा त्यौहार है जिसे 17वीं शताब्दी में राजा जगत सिंह ने शुरू किया था, यहां पर आज भी बड़े धूमधाम से मनाया जाता है।
  5. हनुमान जी का प्रसिद्ध ‘जाखू’ जी का मंदिर हिमाचल प्रदेश में ही है. कहा जाता है कि संजीवनी बूटी लाते वक़्त हनुमान जी ने यहाँ रुक कर विश्राम किया था.
  6. ऐसा माना जाता है कि हिमाचल प्रदेश में ‘चंबा कैलाश शिखर’ हिंदू भगवान शिव का निवास स्थान है। मणिमहेश झील की ओर मुख किया हुआ यह क्षेत्र हिंदुओं द्वारा पवित्र और बहुत ही ज्यादा शुभ माना जाता है।
  7. 30 रियासतों के साथ चार जिलों मंडी, चंबा, महासू और सिरमौर के एकीकरण ने 1948 में हिमाचल प्रदेश को केंद्र शासित प्रदेश के रूप में स्थापित किया अंततः 1971 में प्रांत ने राज्य का दर्जा प्राप्त किया और भारत का 18 राज्य बन गया।
  8. हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला है। यह शहर सात पहाड़ियों के बीच में बसा है और कई लोग इसे ‘पहाड़ियों की रानी’ के नाम से भी जानते हैं। धर्मशाला इस राज्य की शीतकालीन राजधानी है।
  9. हिमाचल प्रदेश में 5 राष्ट्रीय उद्यान है।
  10. हिमाचल प्रदेश का लगभग दो-तिहाई हिस्सा जंगल से आच्छादित है.
himachal pradesh forest
  1. हिमाचल प्रदेश में बोली जाने वाली प्रमुख भाषाओं में हिंदी और पहाड़ी हैं।
  2. हिम तेंदुआ हिमाचल प्रदेश का प्रतीकात्मक पशु है। साथ ही गुलाबी रोडोडेंड्रोंन, हिमाचल प्रदेश का प्रतीकात्मक फूल कहा जाता है।
  3. हिमाचल प्रदेश की अधिकांश स्थानीय आबादी कृषि क्षेत्र के कार्य में कार्यरत रहती है। राज्य की 65% से अधिक आबादी को प्रत्यक्ष रोजगार कृषि ही प्रदान करती है।
  4. कालका-शिमला रेलवे को टॉय ट्रेन के नाम से भी जाना जाता है। जो कि यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल है।
  5. कालका-शिमला रेलवे कम से कम लगभग 95 किलोमीटर की दूरी में सबसे गहरी ढलान (जो कि 5800 फीट से अधिक की है) को पार करता है। ट्रेन 800 से अधिक पुल और 100 सुरंगों को पार करती हैं।
  6. हिमाचल प्रदेश में 28,000 किलोमीटर से भी अधिक का रोड नेटवर्क है जिसमें 8 राष्ट्रीय हाईवे और 19 स्टेट हाईवे शामिल हैं.
  7. दक्षिण भारतीय राज्य केरल की तरह हिमाचल प्रदेश राष्ट्र के सबसे कम भ्रष्ट राज्यों में एक है। पर्यटक यहां पर चिंता किए बिना आराम से अपनी छुट्टियों का भरपूर आनंद ले सकते हैं। हिमाचल प्रदेश के सुंदरता कई लोगों को यहां आने के लिए आकर्षित करती रही है। साथ ही स्थानीय लोगों की ईमानदारी और उनकी अच्छाई आंगतुकों के यहां घूमने के अनुभवों को मीठी यादों में तब्दील करने में मदद करती है।
  8. सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार हिमाचल प्रदेश प्रदर्शन और समग्र विकास के मामले में राष्ट्र में तीसरा सबसे अच्छा राज्य है। यहां पर लगभग 17,000 शैक्षणिक संस्थान हैं। जिनमें दो मेडिकल कॉलेज, एक इंजीनियरिंग कॉलेज, और एक विश्वविद्यालय शामिल है।
  9. साक्षरता का अर्थ किसी भी भाषा में लोगों की पढ़ने और लिखने की क्षमता से होता है। 2011 की जनगणना के अनुसार 83.78% की साक्षरता दर के साथ हिमाचल प्रदेश का स्थान भारत के कुल राज्य में 11वें नंबर पर आता है।
  10. भारत के सबसे हरे-भरे राज्यों में हिमाचल प्रदेश ने अपनी कुल भूमि का 62.52% जो कि 37,033 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र होता है, वह वन क्षेत्र है। हिमाचल प्रदेश में 33 वन्यजीव अभयारण्य और 2 राष्ट्रीय उद्यान हैं।
  11. हिमाचल प्रदेश में एशिया का सबसे बड़ा ग्लेशियर है, जिसे शिगरी ग्लेशियर के नाम से जाना जाता है। शिगरी ग्लेशियर लाहौल-स्पीति क्षेत्र में स्थित है और चेनाब नदी से जुड़ा हुआ है।
  12. मनाली-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग दुनिया में सबसे अधिक मोटर सक्षम सड़क होने के लिए प्रसिद्ध है। मोटरसाइकिल के उत्साही लोगों के लिए तो यह एक वरदान जैसा है, जिसमें वह अकेले या अपने दोस्तों के साथ समूह में कई बार यात्रा करते हुए देखे जा सकते हैं।
  13. कुल्लू में स्थित ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क को यूनेस्को ने विश्व धरोहर स्थल के रूप में मान्यता दी हुई है। यह पार्क लगभग 1200 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह विविध प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का घर है।
  14. समुद्र तल से 22,360 फीट की ऊंचाई पर रेओ पुरगिल हिमाचल प्रदेश की सबसे ऊंची पर्वत चोटी का नाम है।
  15. 1891 में निर्मित चैल क्रिकेट ग्राउंड (जो की समुद्र तल से 8,018 फीट ऊपर) हिमाचल प्रदेश के चैल में स्थित है। यह दुनिया का सबसे ऊंचा क्रिकेट का मैदान है।
  16. मलाणा के लोगों का मानना है कि वह दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र में से एक हैं। इसमें दिलचस्प बात यह है कि वे अपनी ग्रीक – सदृश्य मान्यताओं और तरीकों का एक सेट रखते हैं। वे खुद को सिकंदर महान के वंशज भी मानते हैं।
  17. हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध भोजन के नाम इस प्रकार हैं – मदरा, धाम, तुद्किया भाथ, भे, छा गोश्त, सिद्दू, बाबरु, अकटोरी, मिट्ठा और काले चने का खट्टा. यहाँ तिब्बत की खाने की चीज़ें भी खूब प्रचलन में हैं.
himachal pradesh
  1. हिमाचल को देवों की भूमि के रूप में भी जाना जाता है। हिमाचल प्रदेश का उल्लेख कई प्राचीन हिंदू ग्रंथों में किया गया है और यह बहुत सारे धार्मिक स्थलों का केंद्र भी है। इतना सब होने के बावजूद भी यह जानकर आश्चर्य होता है कि इस सांस्कृतिक रूप से समृद्ध राज्य में प्रत्येक गांव के स्थानीय लोगों के अपने अलग-अलग रीति-रिवाज और देवता हैं।
  2. २०१७ के आंकड़ों के अनुसार हिमाचल प्रदेश भारत का सबसे कम भ्रष्टाचार वाला राज्य था.
  3. हिमाचल प्रदेश में कुल 9 हाइड्रोइलेक्ट्रिक पावर प्लांट हैं। हिमाचल प्रदेश में जल विद्युत उत्पादन की अपार संभावनाएं हैं। अनुमान तो यह भी लगाया जाता है कि यहां बिजली संयंत्रों के निर्माण से लगभग 27,000 मेगावाट ( जो कि राष्ट्रीय क्षमता का 1/4 वां हिस्सा है) का दोहन किया जा सकता है।
  4. 2013 में हिमाचल प्रदेश को भारत का पहला धूम्रपान मुक्त राज्य घोषित किया गया था। सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान पर प्रतिबंध लगाने के लिए इस राज्य ने कानून पारित किया जिसका वहां के स्थानीय लोगों ने पूरी तरह से पालन किया।
  5. यहाँ सभी प्रकार के गैर-बायोडिग्रेडेबल पॉलिथीन बैग पर पूर्ण प्रतिबंध है । पॉलिथीन के उत्पादन, उपयोग, बिक्री और वितरण सभी कानून के तहत प्रतिबंधित हैं। तारीफ की बात यह है कि यहां के स्थानीय लोग इस कानून का पूरी तरह पालन करते हैं और अपने राज्य को पॉलिथीन मुक्त राज्य बनाने की पूर्ण कोशिश करते हैं।
  6. हिमाचल का सोलन शहर मशरुम के व्यापक उत्पादन के लिए मशहूर है और यही कारण है कि इसे ‘मशरुम सिटी’ के नाम से भी जाना जाता है।
  7. हिमाचल प्रदेश में ४६३ पक्षी, ७७ स्तनधारी, ४४ रेप्टाइल (रेंगने वाले जंतु) और 80 मछली की प्रजाति पाई जाती है.
  8. अपनी अद्वितीय प्राकृतिक सुंदरता के कारण हिमाचल प्रदेश के खजियार शहर को ‘मिनी स्वीटजरलैंड’ के रूप में भी जाना जाता है।
  9. जम्मू कश्मीर के बाद हिमाचल भारत में सेब के उत्पादन में दूसरा सबसे बड़ा राज्य है। इस राज्य में 450 से अधिक सेव की खेती की जाती है। हिमाचल हर साल औसतन 4,00,000 टन सेब का उत्पादन करता है।
  10. हिमाचल प्रदेश राज्य 9 राष्ट्रीय राजमार्गों (1208 किलोमीटर), 9 राज्य राजमार्गों (1625 किलोमीटर) और 45 प्रमुख जिला सड़कों (1753.05 किलोमीटर) के माध्यम से जुड़ा हुआ है।
  11. हिमाचल प्रदेश में 3 हवाई अड्डे हैं। जुब्बर हट्टी हवाई अड्डा (शिमला के पास) भुंतर हवाई अड्डा (कुल्लू के पास) और गंग्गल हवाई अड्डा (कांगड़ा के पास) । मौसम की चरम स्थिति के कारण यह हवाई अड्डे बाकी जगहों के हवाई अड्डों की अपेक्षा कम चलते हैं। छोटे रनवे को 42 सीटर एटीआर और 18 सीटर डॉर्नियर जैसे छोटे विमान के लिए इस्तेमाल किया जाता है।
  12. हिमाचल प्रदेश कई प्रमुख भारतीय हस्तियों की जन्मभूमि भी है। जैसे प्रीति जिंटा, कंगना रनौत, अनुपम खेर, मोहित चौहान और यामी गौतम। हिमाचल के खिलाड़ी जिन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया है उनमें विजय कुमार (निशानेबाजी), अनुजा जंग (निशानेबाजी), दीपक ठाकुर (हॉकी), समरेश जंग (निशानेबाजी), सुमन रावत (एथलेटिक्स) और अजय ठाकुर (कबड्डी) शामिल है। इन्होंने हिमाचल का नाम ना सिर्फ भारत, अपितु समस्त विश्व में रोशन किया है।
  13. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि हिमाचल की राजधानी शिमला में एशिया का एकमात्र प्राकृतिक आइस स्केटिंग रिंक है।
  14. हिमाचल प्रदेश में फैली हरियाली के साथ इस बात पर कोई आश्चर्य नहीं कि यहां 350 से अधिक पशु प्रजातियां और 450 से अधिक पक्षी प्रजातियों को निवास करते पाया जाता है।
  15. सरकारी रिपोर्ट्स के अनुसार हिमाचल प्रदेश ने 100% स्वच्छता हासिल की है। राज्य के प्रत्येक घर में एक शौचालय उपलब्ध है।
  16. 2015 में हिमाचल को पहला पैराग्लाइडिंग विश्वकप आयोजित करने का अवसर प्राप्त हुआ जिसे उसे बखूबी निभाया।
himachal pradesh paragliding
  1. भारत के सबसे पुराने मतदाता, श्याम शरण नेगी, हिमाचल प्रदेश के कल्पा नामक जगह के निवासी हैं। वह एक सेना निवृत्त स्कूली शिक्षक हैं, जिन्होंने 1951 के आम चुनाव में अपना वोट डाला था और तब से हर आम चुनाव में इन्होंने हमेशा मतदान किया है।
  2. हिमाचल प्रदेश जिसे ‘भारत का फलों का कटोरा’ भी कहा जाता है। यह ऐसे ही नहीं कहा जाता, हिमाचल प्रदेश में नाशपाती, खुबानी, आडू, बेर, सेब और ऐसे बहुत सारे फल हैं जिनका यहां एक विस्तृत श्रृंख उत्पादन किया जाता है।
  3. हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध मंदिरों में तारा देवी, जाखू, हिडिंबा देवी, नैना देवी, बाबा बालक नाथ, ज्वाला देवी, चिंतपूर्णी देवी और चामुंडा देवी के मंदिर बहुत प्रसिद्ध है। सिर्फ हिंदुओं के मंदिर ही नहीं हिमाचल प्रदेश में कई मशहूर चर्च भी हैं जैसे सेंट माइकल कैथेड्रल चर्च, क्राइस्ट चर्च और सेंट जॉन चर्च। यहां के प्रसिद्ध गुरुद्वारों में गुरुद्वारा भंगानी साहिब, पांवटा साहिब और रेवल साहिब गुरुद्वारा बहुत मशहूर गुरुद्वारे हैं।
  4. हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध नृत्य जो यहां के मूल निवासी करते हैं उनमें गुग्गा, लोहार, सोना, चुक्सम, घुरही और कुल्लू नाटी प्रमुख हैं।
  5. हिमाचल प्रदेश राज्य स्वतंत्रता के बाद ही अस्तित्व में आया, इसलिए इसका कोई भी पूर्व संविधान इतिहास में नहीं है।
  6. पंजाब की बॉर्डर से सटे होने के कारण हिमाचल प्रदेश में इसकी संस्कृति और खानपान पर गहरा प्रभाव देखा जा सकता है।
  7. हिमाचल प्रदेश कागज रहित ई-गवर्नेंस समाधान शुरू करने वाला पहला भारतीय राज्य है, जिसे e-vidhan (ई-विधान) के नाम से जाना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here