जानिये 22 प्राकृतिक तरीके लिवर को स्वस्थ रखने के

0
13
healthy liver

आपका लिवर (यकृत) आपके शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। साथ ही यह आपके शरीर का दूसरा सबसे बड़ा अंग भी है। यह आपके शरीर में लगातार काम करता रहता है, और वो भी कई अलग अलग तरह के काम। लिवर आपके शरीर को डिटॉक्सिफाई करने में मदद करता है साथ ही कार्ब मेटाबॉलिज्म, प्रोटीन संश्लेषण, पाचन के लिए आवश्यक जैव रासायनिक उत्पादन, ग्लाइकोजन भंडारण, पित्त उत्पादन, हार्मोन स्राव और लाल रक्त कोशिकाओं के अपघटन में भी मदद करता है। किसी भी तरह की लिवर से जुड़ी परेशानी मेटाबोलिक कार्यों में रुकावट डाल सकती हैं। लेकिन अच्छी बात यह है कि आप अपने लिवर को पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन करके स्वस्थ बना सकते हैं। यहां हम आपको कुछ ऐसे खाद्य पदार्थों के विषय में बताएंगे जिन्हें अपने दैनिक आहार में शामिल करके अपने जिगर / यकृत या फिर लिवर (कुछ भी कह दीजिए) को न सिर्फ बचा सकते हैं अपितु उसको स्वस्थ भी रख सकते हैं।

लहसुन

आपके लीवर को स्वस्थ रखने के लिए डिटॉक्सिफिकेशन महत्वपूर्ण है। लहसुन में एलिसिन की अच्छी मात्रा पाई जाती है। यह एक एंटीऑक्सिडेंट होता है जो शरीर को ऑक्सीडेटिव क्षति से बचाता है। यह हेपेटोप्रोटेक्टिव (लीवर संरक्षण) प्रभावों को भी प्रदर्शित करता है, जो हानिकारक तत्वों को बाहर निकालने वाले एंजाइम को सक्रिय करने के लिए लीवर को सक्रिय करता है। वैज्ञानिक अध्ययन में पता लगा है कि प्रतिदिन लगभग 400 मिलीग्राम लहसुन पाउडर शरीर के वजन और वसा के द्रव्यमान को कम कर सकता है।

एक स्वस्थ लिवर के लिए लहसुन की खुराक इस प्रकार है: (1) प्रतिदिन सुबह में 1 लौंग कच्चे लहसुन की। (२) प्रति दिन पकाए हुए भोजन में 1-2 चम्मच कीमा बनाया हुआ / कटा हुआ / पिसा हुआ लहसुन।

कॉफी

कॉफी लोगों के सबसे पसंदीदा पेय पदार्थों में से एक है। इसके उत्तेजक प्रभावों के अलावा, कॉफी में हेपेटोप्रोटेक्टिव (लीवर संरक्षण) प्रभाव भी होता है।एक वैज्ञानिक अध्ययन से पता चला है कि कॉफी यकृत रोग के खिलाफ शरीर को सुरक्षात्मक प्रभाव प्रदान करती है। प्रति दिन 3 कप कॉफी पीने वाले लोगों में 1 कप प्रतिदिन से कम कॉफी पीने वालों की तुलना में लिवर के रोग की प्रगति की दर कम होती है। प्रति दिन 2-3 कप कॉफी पीना लिवर के स्वास्थ्य के लिए अच्छा कहा जा सकता है।

चुकंदर

चुकंदर में बीटालेंस नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस और इससे होने वाली शारीरिक क्षति को कम करते हैं । वैज्ञानिक अध्ययन से पता चला है कि चुकंदर के रस का लंबे समय तक उपयोग करने से ना केवल ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस कम होता है बल्कि डीएनए में हुई क्षति और लीवर की सूजन को कम करने में भी मदद मिलती है। एक स्वस्थ जिगर के लिए प्रति दिन 1 गिलास चुकंदर का रस सप्ताह में 3-4 बार सेवन करें।

ब्रोकली

ब्रोकोली आइसोथियोसाइनेट्स तथा सल्फर युक्त यौगिकों का एक उत्कृष्ट स्रोत होती है, जिनमें से सबसे उल्लेखनीय घटक सल्फरफेन है।आइसोथियोसाइनेट्स जीन की उस लक्षण को नियंत्रित करते हैं जो कैंसर पैदा करने वाले तत्वों को शरीर के बाहर निकालने और मेटाबॉलिज्म में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ब्रोकली के अंदर एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण भी होते हैं जिससे लिवर की सुजन कम की जा सकती है। वैज्ञानिकों द्वारा किए गए एक अध्ययन ने यह पुष्टि की है कि ब्रोकोली का सेवन नॉन-अल्कोहलिक फैटी लीवर के विकास के खतरे को कम करने में मदद कर सकती है । इलिनोइस विश्वविद्यालय द्वारा किए गए एक अन्य अध्ययन में यह भी कहा गया है कि ब्रोकोली का सेवन लिवर के कैंसर से बचने में मदद करता है। एक स्वस्थ जिगर के लिए ब्रोकोली की खुराक -1 कप, प्रति सप्ताह 2-3 बार तक अवश्य लें।

broccoli

हल्दी

हल्दी के औषधीय गुण तो बेशक बहुत ज्यादा हैं। हल्दी में करक्यूमिन नामक एक पदार्थ होता है जिसमें लिवर की सुरक्षा करने का प्रभाव होता है। यह यकृत की बीमारियों और चोट के कारण आई हुई सूजन को कम करने, ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करने और लिपिड मेटाबोलिज्म और इंसुलिन सेंसटिविटी को सुधार करने में मदद करता है।

एक स्वस्थ जिगर के लिए 1-3 ग्राम हल्दी पाउडर / पेस्ट प्रति दिन ठीक है। यदि आप हल्दी के कैप्सूल लेना चाहते हैं तो 400 – 600 मिलीग्राम हल्दी सप्लीमेंट, 2-3 प्रति दिन ठीक रहेगा। आप हल्दी को दूध के साथ मिला कर भी इसका सेवन सकतें हैं।

ग्रीन टी

ग्रीन टी एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है और इसमें कई स्वास्थ्यवर्धक गुण होते हैं। ग्रीन टी के स्वास्थ्य संबंधी अछे प्रभाव के लिए इसमें मौजूद मुख्य घटक पॉलीफेनोल्स कैटेचिन जिम्मेदार होता है। वैज्ञानिकों ने पुष्टि की है कि ग्रीन टी पीने वालों को लिवर (यकृत) कैंसर, लिवर के घातक रोग, लिवर (यकृत) स्टीटोसिस, लिवर सिरोसिस और हेपेटाइटिस जैसी गंभीर बीमारी की होने की संभावना अन्य के मुकाबले कम होती है। शोधकर्ताओं ने 12 सप्ताह के लिए ग्रीन टी एक्सट्रैक्ट या ग्रीन टी एक्सट्रैक्ट सप्लीमेंट देने के बाद यह पाया कि ग्रीन टी के अर्क ने नॉन-अल्कॉहलिक फैटी लीवर रोग से जुड़े यकृत एंजाइमों को काफी कम कर दिया। हालांकि, कुछ अध्ययनों ने ग्रीन टी से होने वाले हानिकारक प्रभावों को भी बताया है। जो कि ग्रीन टी के अति सेवन के कारण हो सकते हैं जिसके लिए ग्रीन टी में मौजूद तीन मुख्य कारक कारण बन सकतें हैं-

१. इसमें मौजूद कैफीन की मात्रा,
२. एल्यूमीनियम की उपस्थिति, और
३.आयरन की जैव उपलब्धता पर प्रभाव

इसलिए, ग्रीन टी का अति-सेवन सभी व्यक्तियों के लिए स्वास्थ्यप्रद नहीं है। ग्रीन टी का सामान्य सेवन ठीक है पर यदि आप इसका अधिक सेवन करना चाह रहे हैं तो ऐसा करने से पहले अपने डॉक्टर से अवश्य बात कर लें।

चकोतरा

यह एंटी-ऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत होता है और इसके अंदर इम्यूनिटी बढ़ाने का गुण भी होता है। एक प्रयोग में वैज्ञानिकों ने चकोतरे के रस और ऑर्ब्लैन्को रस को एक साथ मिलाकर एक मिश्रण बनाकर उसे चूहों को खिलाया। एक सप्ताह के बाद, चूहों को एक प्रोकार्सिनोजेन का इंजेक्शन लगाया। देखा गया कि जिन चूहों को का रस पिलाया गया था, उनमें लिवर एंजाइमों की तेज और अधिक सक्रिय अभिव्यक्ति पाई गई थी। एक स्वस्थ जिगर के लिए लगभग 1/2 -1 चकोतरे का रस (प्रतिदिन ताजा और बिना चीनी या कृत्रिम स्वीटनर मिलाए) अच्छा रहेगा।

जिनसेंग

जिनसेंग के बारे में सब जानते हैं, यह एक औषधीय जड़ी बूटी होती है। यह मुख्य रूप से पौधे की जड़ होती है। इसमें जिंसनोसाइड्स के रूप में पाए जाने जाने वाले यौगिक होते हैं जिन्हें इसके औषधीय गुणों के के कारण जाना जाता है। जिनसेंग में लगभग 40 जिनसैनोइड्स मौजूद होतें हैं। यह जिगर को क्षति, विषाक्तता, सिरोसिस और फैटी लीवर से बचाने में मदद करती है। एक स्वस्थ जिगर के लिए जिनसेंग खुराक – प्रति दिन 2 कप जिन्सेंग चाय ठीक रहेगी. आप प्रतिदिन जिन्सेंग का एक कैप्सूल भी ले सकते हैं।

गाजर

यूं तो गाजर में कई तरह के औषधीय गुणों की भरमार होती है, परंतु गाजर को नॉन-अल्कोहलिक फैटी लीवर और यकृत टॉक्सिटी के खतरे को कम करने के लिए खासतौर पर जाना जाता है। नेशनल इंस्टीट्यूट आफ न्यूट्रिशन, हैदराबाद के वैज्ञानिकों ने 8 सप्ताहों तक चूहों को गाजर का रस पिलाकर एक अध्ययन किया। जिसमें उन्होंने पाया कि गाजर का रस लीवर में डीएचए, ट्राइग्लिसराइड और एमयूएफए (मोनो अनसैचुरेटेड फैटी एसिड) के स्तर को काफी कम कर देता है। ऐसा होने से लिवर पर तनाव में कमी होना स्वाभाविक है जिससे लिवर के स्वास्थ्य में वृद्धि अवश्य होगी। एक स्वस्थ जिगर के लिए गाजर की खुराक है – हर 2 दिनों में 1 गिलास गाजर का रस, बिना चीनी डाले.

carrot

हरी पत्तेदार सब्जियां

पत्तेदार हरी सब्जियां आपके जिगर को ऑक्सीडेटिव खतरे और अन्य बीमारियों से बचा सकती हैं। हरी सब्जियां, जैसे कि सरसों साग, मेथी, पालक, लेट्यूस, मूली साग, सरसों का साग, बथुआ साग, आदि में विटामिन ए, सी, के, कैल्शियम, और एंटीऑक्सीडेंट अच्छी मात्रा में मौजूद होते हैं। साथ ही इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों की भरमार भी होती है। वैज्ञानिकों ने शोध के लिए चूहे को पत्तेदार सब्जियों का सेवन करा करके यह निष्कर्ष निकाला कि इसके सेवन से चूहे के जिगर को फैटी लीवर जैसे विकार से बचाने में मदद मिलती है।

एक स्वस्थ जिगर के लिए पत्तेदार साग की खुराक प्रति दिन 1-2 कप हरी पत्तेदार सब्जी के बराबर है।

एवोकैडो

मुलायम और गिरी वाले इस फल में बहुत सारे स्वास्थ्य लाभ के गुण होते हैं, जिनमें यकृत की रक्षा करने का गुण भी शामिल है। एवोकाडो के अंदर स्वस्थ वसा की भरपूर मात्रा होती है, साथ ही इसमें एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट के गुण भी पाए जाते हैं। फैटी लीवर की समस्या खराब जीवनशैली की गलत आदतों की वजह से होती है। एवोकाडो के एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण इस तरह की समस्या से लड़ने में मदद करते हैं। साथ ही इस समस्या के होने के ख़तरों को भी कम कर देते हैं। जापानी वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में पाया कि एवोकैडो लीवर को होने वाली क्षति को कम करने की गुणवत्ता भी रखता है। एक स्वस्थ लीवर के लिए एवोकैडो की खुराक है लगभग 2-5 स्लाइस, प्रति सप्ताह 2-3 बार।

नींबू

नींबू के रस में हेपेटोप्रोटेक्टिव प्रभाव (लीवर सुरक्षा) है जो कि नींबू में मौजूद विटामिन (विशेष रूप से विटामिन सी) और खनिज सामग्री के कारण होता है। रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन में कहा गया है कि नींबू के रस का सेवन से ना केवल अल्कोहल के कारण जिगर में हुई क्षति को कम करने में मदद मिलती है बल्कि समग्र जिगर सुरक्षा के लिए यह मदद कर सकता है। एक स्वस्थ जिगर के लिए नींबू की खुराक है 1 नींबू प्रति दिन।

सेब

वैज्ञानिकों ने लिवर और रक्त में लिपिड के स्तर पर सेब के उत्पादों के प्रभावों का अध्ययन किया। तीन महीनों के बाद यह पाया गया कि सेब के सेवन ने रक्त और यकृत के लिपिड के स्तर को सफलतापूर्वक काफी कम कर दिया। कुछ अन्य शोधकर्ताओं ने यह भी पुष्टि की कि ऐप्पल पॉलीफेनोल्स, चूहों में पाई जाने वाली इम्यूनिटी से जुड़ी लीवर की क्षति से रक्षा करने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं। एक स्वस्थ जिगर के लिए प्रतिदिन एक सेब की खुराक सही रहेगी।

जैतून का तेल

सबसे आम लिवर समस्या नॉन-एल्कोहलिक फैटी लीवर की होती है, जो सामान्यतः गलत जीवन शैली के विकल्पों के कारण जन्म लेती है। वैज्ञानिकों ने यह शोधों के द्वारा यह निष्कर्ष निकाला है कि जो लोग खाने में जैतून के तेल का सेवन करते हैं, उन्हें लीवर की बीमारियां होने की संभावना कम होती है। जैतून का तेल खराब कोलेस्ट्रॉल और सीरम ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने और इंसुलिन संवेदनशीलता और लिपिड ऑक्सीकरण को बढ़ाने में मदद करता है । इसलिए, यदि आप अपने जिगर को स्वस्थ रखने के लिए स्वस्थ भोजन की तैयारी करना चाहते हैं तो उसमें जैतून के तेल को शामिल करना ना भूलें। यह आपके भोजन में स्वास्थ्यवर्धक गुणों की उपयोगिता और अधिक बढ़ाने में मदद करेगा। स्वस्थ जिगर के लिए जैतून का तेल खुराक – प्रति दिन 3-5 बड़े चम्मच या 10 ग्राम / दिन

olive oil

शतावरी

शतावरी विटामिन ए, सी, ई, के, फोलेट, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम और फाइबर जैसे खनिजों का एक उत्कृष्ट स्रोत है। कोरिया के वैज्ञानिकों ने पाया कि शतावरी के अंकुर और पत्ते हेपेटोमा नामक कोशिका ( जिगर के कैंसर की कोशिकाओं) की वृद्धि को कम करने और यकृत की कोशिकाओं की रक्षा करने के साथ ऑक्सीडेटिव तनाव को भी कम करने में मदद करतें हैं। आप अपने चिकित्सक से बात करके निर्धारण करें कि आप प्रति सप्ताह कितनी मात्रा में शतावरी का उपभोग कर सकते हैं।

अखरोट

अखरोट स्वस्थ वसा की मात्रा में समृद्ध होता है जिसके कारण इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण अच्छी मात्रा में पाए जातें हैं। वैज्ञानिक अध्ययन द्वारा पता चला है कि अखरोट का सेवन उनमें फैटी लीवर की समस्या को कम कर सकता है जो लोग अधिक फैट वाला भोजन करते हैं । यह लिवर में ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में मदद करता है, लिवर में शामिल एंजाइमों के स्तर को रेगुलेट करता है और लिवर की सूजन भी कम करने में मदद करता है। एक स्वस्थ जिगर के लिए प्रति दिन 4-5 अखरोट ठीक रहेंगे।

टमाटर

रसदार लाल टमाटर आपके जिगर के लिए भी बहुत अच्छे होतें हैं। इनमें अच्छी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, जो लिवर की सूजन और घाव को कम करने में मदद करते हैं और साथ ही यह लीवर कैंसर से भी बचाते हैं। चूहों पर किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि टमाटर का अर्क लीवर के नुकसान के ख़तरे को कम करने में मदद करता है। इसलिए आज से ही अपने आहार में टमाटर को शामिल करें।

एक स्वस्थ जिगर के लिए प्रति दिन 1 गिलास टमाटर का रस या प्रति दिन 2-3 टमाटर का सेवन ज़रूर करें।

सिंहपर्णी

जर्नल ऑफ फूड एंड केमिकल टॉक्सिकोलॉजी में प्रकाशित एक अध्ययन से पता चला है कि सिंहपर्णी की जड़ें अपने एंटीऑक्सीडेंट गुण के कारण शराब की वजह से जिगर को हुए नुकसान से बचाव करने में मदद करतीं हैं। इस हर्बल दवा की खुराक निर्धारित करने के लिए अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें या फिर प्रति सप्ताह दो बार इसका साग खाएं।

अदरख

वैज्ञानिक शोध कार्य में पाया गया है कि प्रतिदिन २ ग्राम अदरक का सेवन यदि लगभग 12 हफ्ते तक किया जाए तो लिवर के अन्दर सूजन में काफी कमी देखी जा सकती है। इसके सेवन से लिवर के सूजन के एंजाइम कम होते हैं और लिवर में वसा का संचयन भी अवरुद्ध होता है। इससे इन्सुलिन रेजिस्टेंस में भी कमी देखी गयी जो लिवर के स्वास्थ्य के लिए एक अच्छा संकेत है।

ginger

ब्रसेल स्प्राउट्स

ब्रसेल्स स्प्राउट्स विटामिन ए, के, सी, फोलेट, और कैल्शियम, फास्फोरस, मैग्नीशियम, और पोटेशियम जैसे खनिजों से समृद्ध होता है। शोधकर्ताओं ने अध्ययनों से यह पाया है कि ब्रसेल्स स्प्राउट्स मेटाबॉलिज्म एंजाइमों के उत्पादन को उत्प्रेरित कर सकता है और ऑक्सीडेटिव दबाव को भी कम कर सकता है। एक स्वस्थ जिगर के लिए ब्रसेल्स स्प्राउट्स की 1 कप की पात्रा प्रति सप्ताह 2-3 बार तक पर्याप्त रहेगी।

लाल पत्तागोभी

सलाद में शामिल लाल पत्तागोभी आपके लिवर की रक्षा में मदद करती है। वैज्ञानिकों द्वारा चूहों पर किए गए एक अध्ययन से पता चला है कि यह ऑक्सीडेटिव दबाव के कारण जिगर को पहुंची क्षति को भी कम करती है।

एक स्वस्थ जिगर के लिए 1 कप लाल पत्ता गोभी दिन में एक बार, 2-3 बार प्रति सप्ताह

साबुत अनाज

साबुत अनाज, जैसे कि बाजरा, ऐमारैंथ, जौ, रागी, ब्राउन राइस, क्विनोआ, आदि आहार फाइबर में समृद्ध होतें हैं, जो वसा को कम करने और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करतें हैं। यह एक अच्छी खबर है कि साबुत अनाज भी नॉन-एल्कोहलिक लिवर रोग से बचाने में मदद कर सकतें हैं।

एक स्वस्थ जिगर के लिए साबुत अनाज की खुराक है प्रति दिन पूरे अनाज (होल ग्रेन) के 2-3 सर्विंग।

Leave a Reply