जानिये ‘जायफल’ से होने वाले 12 बेजोड़ वैज्ञानिक लाभ

0
35
nutmeg benefits

भारत मसालों की भूमि रही है। यदि आप किसी भी भारतीय घर की रसोई में जाएंगे, तो आपको आपको विभिन्न प्रकार के मसाले से भरे डिब्बे बड़ी आसानी से मिल जाएगें। इन मसालों में आपको जायफल नाम का एक मसाला भी मिलेगा। इसकी सुगंध मीठी सी होती है, यह मसाला वास्तव में एक सदाबहार पेड़ का बीज है जो मूल रूप से इंडोनेशिया में पाया जाता है। बहुत सारे भारतीय व्यंजनों में जायफल का उपयोग इसकी सुगंधित खुशबू और अद्वितीय स्वाद के लिए किया जाता हैं। लेकिन जायफल सिर्फ एक मसाला नहीं जो भोजन का स्वाद और उसकी खुशबू बढ़ाएं अपितु इसके अंदर बहुत सारे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। जायफल से होने वाले कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

  • कैलोरी – 525
  • कुल वसा – 36 ग्राम
  • कार्बोहाइड्रेट – 49 ग्राम
  • प्रोटीन – 6 ग्राम
  • सोडियम – 16 मिलीग्राम
  • कैल्शियम – 184 मिग्रा
  • लोहा – 3 मिग्रा
  • मैग्नीशियम – 183 मि.ग्रा
  • कैल्शियम – 0.18
  • विटामिन ए – 30 एमसीजी
  • विटामिन बी6 – 0.2 मिग्रा
  • नियासिन – 1.3 मि.ग्रा
Table Of Contents
  1. जायफल अनिद्रा के इलाज में मदद करता है
  2. जायफल दिमागी गतिविधि (ब्रेन एक्टिविटी) में मदद करता है
  3. जायफल का इस्तेमाल सांसों की बदबू का इलाज करने में मदद करता है
  4. जायफल आपकी त्वचा के लिए बढ़िया है
  5. बालों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए जायफल बहुत लाभदायक होता है
  6. जायफल पाचन क्रिया में सुधार करने में मदद करता है
  7. दस्त से राहत प्रदान करने में जायफल मदद करता है
  8. वजन घटाने के लिए जायफल बड़ा लाभकारी होता है
  9. लिवर को सुरक्षित रखने में जायफल मदद करता है
  10. जायफल में एंटीडिप्रेसेंट गुण पाए जाते हैं
  11. जायफल रक्तचाप और परिसंचरण को विनियमित करने में मदद करता है
  12. कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में जायफल मदद करता है
  13. जायफल में कैंसर रोधी गुण होते हैं
  14. जायफल दर्द को दूर करने में मदद करता है
  15. क्या जायफल के कोई साइड इफेक्ट्स हैं
  16. अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

जायफल अनिद्रा के इलाज में मदद करता है

जायफल में अनिद्रा का इलाज करने के गुण भी पाए जाते हैं। एक छोटा सा जायफल, एक गिलास गर्म दूध के साथ पीने से जिन लोगों को नींद आने में परेशानी होती है, उन्हें अच्छी नींद प्राप्त हो सकती है। बहुत सी माताएं अपने बच्चों को थोड़ा-सा जायफल पाउडर मिला कर गर्म दूध देती हैं। यह एक सदियों पुरानी परंपरा है जो पीढ़ियों से चली आ रही है क्योंकि यह वास्तव में अत्यधिक प्रभावी है। वास्तव में, नींद को प्रेरित करने और अनिद्रा के इलाज के लिए जायफल एक जैविक और स्वस्थ तरीका है।

जायफल दिमागी गतिविधि (ब्रेन एक्टिविटी) में मदद करता है

जायफल आपके मस्तिष्क को और अधिक सक्रिय करने में मदद करता है, जिसका अर्थ है कि यह मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं को उत्तेजित करके उन्हें अधिक सक्रिय करने में मदद करता है। इस मसाले में मौजूद रसायन शरीर में फील-गुड हार्मोन को उत्सर्जित करने में मदद करते हैं, जो आपके शरीर को शांत रखने में प्रभावी सिद्ध होते हैं। चूंकि यह आपकी मनोदशा के ऊपर सीधा प्रभाव डालता है, इसी कारण कुछ लोगों का मानना यह भी है कि जायफल तनाव के इलाज में मदद करने का एक बढ़िया विकल्प साबित हो सकता है।

जायफल का इस्तेमाल सांसों की बदबू का इलाज करने में मदद करता है

खराब सांस हमारे शरीर में एक अधिभार विष के समान लगती है। ऐसी स्थिति में हम अपने आसपास के लोगों अथवा मित्रों और परिवारजनों से बातचीत करने में कतराते हैं। यदि आप स्वयं या आपका कोई जानने वाला इस तरह की परेशानी से परेशान है, तो उन्हें जायफल के विषय में जरूर बताइए। जायफल में जीवाणुरोधी और रोगाणुरोधी गुण होते हैं, और यह आपके दांतों को साफ करने में मदद कर सकता है। जायफल में पाए जाने वाले आवश्यक तेलों में से एक यूजेनॉल है, जो दांत दर्द से भी छुटकारा दिला सकता है। मैक्लिगनन, जो जायफल में पाया जाने वाला एक रसायन है, यह कैविटीज को रोकने में मदद करता है।

जायफल आपकी त्वचा के लिए बढ़िया है

यदि आप एक प्राकृतिक उत्पाद की तलाश में हैं जो आपकी त्वचा के लिए लाभकारी हो तो आपको जायफल का इस्तेमाल जरूर करना चाहिए। चेहरे और त्वचा के लिए जायफल के कई फायदे हैं। इसके कई रोगाणुरोधी और एंटी-इन्फ्लेमेटरी गुण त्वचा को स्वस्थ, कोमल और त्वचा में होने वाले अनियंत्रित छिद्र और ब्लैकहेड्स को दूर रखने में मदद कर सकतें हैं। जायफल एक बेहतरीन फेस स्क्रब की तरह काम करता है। आपकी त्वचा के लिए इस मसाले का उपयोग करने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप इसे पाउडर के रूप में शहद के साथ मिलाकर धीरे से अपनी त्वचा पर स्क्रब करें। ऐसा करने से इसका प्रभाव आपको अपनी त्वचा में जल्द ही देखने को मिलेगा।

nutmeg powder

बालों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए जायफल बहुत लाभदायक होता है

जायफल बालों के विकास के लिए एक बेहतरीन जैविक उत्पाद है। रोगाणुरोधी गुण जो इसके अंदर पाए जाते हैं, वे सिर की त्वचा को साफ रखने और साथ ही रूसी को रोकने में मदद करते हैं। कई इस प्रकार के शैंपू भी बाजार में उपलब्ध हैं जिनमें बेस घटक के रूप में जायफल होता है और आप इसे आसानी से खरीद सकते हैं या आप जायफल पाउडर, नारियल तेल और शहद एक साथ मिलाकर स्वयं के बालों के लिए एक अच्छा पैक तैयार कर सकते हैं।

जायफल पाचन क्रिया में सुधार करने में मदद करता है

जायफल में औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो पेट के अल्सर का इलाज कर सकते हैं और पाचन क्रिया में मदद करते हैं। बहुत से लोग इस मसाले को भोजन में शामिल करते हैं क्योंकि यह पाचन क्रिया को आसान करने में मदद करता है। यहां तक कि कुछ भारतीय मीठे पकवान में भी जायफल उसकी खुशबू और गुणों के कारण शामिल किया जाता है।

दस्त से राहत प्रदान करने में जायफल मदद करता है

इसका उल्लेख पहले ही किया जा चुका है कि जायफल पाचन क्रिया में मदद करता है। इसके साथ ही यह मसाला दस्त से राहत प्रदान करने में भी मददगार साबित होता है। जायफल में कैरमिनिटिव गुण वाले रसायन होते हैं। दस्त के इलाज के लिए जायफल का सेवन करने का सबसे अच्छा तरीका ठंडे पानी के साथ इसका सेवन करना माना जाता है।

वजन घटाने के लिए जायफल बड़ा लाभकारी होता है

जायफल वजन कम करने में मदद करता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकाल कर खत्म करने में मदद करता है और पाचन क्रिया में यह चयापचय बढ़ाने में मदद करता है, जिससे वजन घटाने में मदद मिलती है।

लिवर को सुरक्षित रखने में जायफल मदद करता है

जायफल के अंदर मैरिसलिगनन की मात्रा समृद्ध रूप में पायी जाती है, जो यकृत के विकारों और चोटों के इलाज में मदद करती है। शोध बताते हैं कि जायफल के अर्क में पाए जाने वाला गुण हेपेटाइटिस की सूजन का इलाज करने में मददगार साबित होतें हैं। जायफल, जैसा कि पहले उल्लेख किया जा चुका है, के अंदर एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी पाए जाते हैं और यह जिगर के इलाज में मदद कर सकता है। यह शरीर के भीतर से विषाक्त पदार्थों को हटाने में भी मदद करता है, विशेष रूप से यकृत से।

जायफल में एंटीडिप्रेसेंट गुण पाए जाते हैं

जायफल का शरीर पर शांत प्रभाव डालता है, जो इसे एक अवसादरोधी खाद्य पदार्थ बनाता है। बहुत सी आयुर्वेद पर आधारित दवाएं, अवसाद और चिंता के इलाज में दवा के एक भाग के रूप में इस मसाले का उपयोग करती हैं।

जायफल रक्तचाप और परिसंचरण को विनियमित करने में मदद करता है

जायफल कैल्शियम, पोटेशियम, मैंगनीज, और लोहा जैसे महत्वपूर्ण खनिजों में समृद्ध होता है, ये सभी रक्तचाप को नियंत्रित करने और रक्त के संचलन को बढ़ाने में मदद करते हैं। इन खनिजों में तनाव को कम करने का गुण भी पाया जाता है, और साथ ही यह रक्त वाहिकाओं को आराम भी पहुंचातें है और रक्तचाप के नियमन मेंसहायता करतें हैं।

कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में जायफल मदद करता है

जायफल का उचित मात्रा में सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी कम होता है। इस मसाले में हाइपोलिपिडेमिक प्रभाव कम करने का गुण भी पाया जाता है, वास्तव में जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर में वृद्धि को कम करने में मदद करता है।

nutmeg benefits

जायफल में कैंसर रोधी गुण होते हैं

जायफल में कीमोप्रिवेंटिव गुण होते हैं, जो कैंसर को रोकने में मदद करने में सक्षम होते हैं। जायफल में मौजूद रासायन मिरिस्टिसिन कैंसर कोशिकाओं के विकास और ल्यूकेमिया के मेटास्टेसिस से लड़ने में मदद करता है।

जायफल दर्द को दूर करने में मदद करता है

जायफल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो दर्द और परेशानी को कम करने में मदद कर सकते हैं। इस मसाले में मिरिस्टिसिन, एलिमिनिन, सफ़रोल और यूजेनॉल जैसे रसायन पाए जाते हैं। जो दर्द के इलाज के लिए इसे अत्यंत उपयोगी बनाते हैं। ये रसायन जायफल से निकलने वाले तेल में पाए जाते हैं। जायफल के तेल से होने वाले अन्य लाभों में सूजन, अंदुरूनी सूजन, जोड़ों के दर्द, मांसपेशियों में ऐंठन, दर्द और घावों का इलाज करना भी शामिल है।

क्या जायफल के कोई साइड इफेक्ट्स हैं

हालांकि जायफल के अंदर कई प्रकार के पोषक तत्व पाए जाते हैं परंतु जरूरत से ज्यादा इस्तेमाल करने से जायफल का आपके शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है। यहाँ जायफल से जुड़े कुछ इसी प्रकार के साइड इफेक्ट्स के बारे में बताया गया है जो जायफल की मात्रा जरूरत से ज्यादा उपयोग करने पर होते हैं

दिल की धड़कनों की दरों में उतार चढ़ाव होना

इस मसाले का अधिक सेवन आपके दिल की धड़कन की दर में उतार-चढ़ाव जैसी स्थिति पैदा कर सकता है। दिल की धड़कन में इस प्रकार का अनुभव होने पर तत्काल चिकित्सा के लिए जाएं और किसी अनुभवी डॉक्टर से अपनी स्थिति के बारे में तुरंत चर्चा करें।

जायफल मतिभ्रम जैसा प्रभाव हो भी पैदा कर सकता है

जायफल में पाए जाने वाले रासायनिक मिरिस्टिसिन नामक तत्व, आपके मस्तिष्क की तंत्रिका कोशिकाओं पर शांत और आराम करने का गुण रखतें है, लेकिन इसका बहुत अधिक सेवन करने से यह आपके मस्तिष्क के भीतर मतिभ्रम जैसी स्थिति को पैदा कर सकता है।

अत्यधिक उपभोग गर्भावस्था को प्रतिकूल रूप से प्रभावित कर सकता है

अधिक मात्रा में जायफल गर्भवती महिलाओं और भ्रूण पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकता है। मतिभ्रम प्रभाव, भ्रूण के लिए खतरनाक हो सकता है। यह प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन को भी रोकता है, जो बच्चे के जन्म की प्रक्रिया में अति महत्वपूर्ण होता है। जायफल की ज्यादा खुराक महिलाओं में गर्भपात का कारण भी बन सकती है।

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल प्रतिक्रियाएं

हालांकि जायफल पाचन क्रिया के लिए लाभदायक होता है और यह दस्त जैसे गंभीर रोग का इलाज करता है। परंतु इस मसाले का अत्यधिक सेवन वास्तव में दस्त, सूजन और यहां तक कि कब्ज जैसी जठरांत्र प्रतिक्रियाओं को और अधिक बड़ा कर आपके लिए मुश्किल स्थिति भी उत्पन्न कर सकता है।

nutmeg

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

जायफल के उपयोग और खपत के बारे लोगों के अंदर कई प्रकार के प्रश्न होते हैं, यहां हमने कुछ प्रश्नों को शामिल किया है

जायफल की चाय किस प्रकार बनाई जाती हैं ?

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, जायफल अपनी सुगंधित गंध और अद्वितीय स्वाद के लिए जाना जाता है। इसका उपयोग चाय में करने से चाय का स्वाद भी बढ़ जाता है। जायफल की चाय बनाना बेहद आसान होता है। इसलिए सबसे पहले आपको पानी उबालने की जरूरत है। उसके बाद उस उबलते हुए पानी में आपको एक चुटकी जायफल पाउडर, अदरक के टुकड़े या पाउडर, चीनी और चाय की पत्तियों की सामान्य मात्रा में डालने होती है। तत्पश्चात इसे कुछ मिनटों के लिए फिर से उबलने दें। आप इस काढ़े को इसी अवस्था में अथवा इस में दूध डालकर भी इसका इस्तमाल कर सकतें हैं।

क्या जायफल शिशुओं में नींद लाने के लिए जिम्मेदार माना जाता है?

जी हां, जायफल में ऐसे रसायन होते हैं जो शिशुओं पर शांत और आरामदायक प्रभाव डाल सकते हैं। आप सोने से ठीक पहले थोड़े गर्म दूध में जायफल पाउडर मिला सकते हैं। हालांकि, सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे को यह बहुत ज्यादा न दें क्योंकि जायफल का अधिक सेवन आपके बच्चे के स्वास्थ्य के लिए खतरनाक हो सकता है।

Leave a Reply