जानिये कटहल से होने वाले 11 विज्ञान द्वारा प्रमाणित स्वास्थ्य लाभ

0
29
jackfruit

कटहल की उपयोगिता इसमें निहित समृद्ध और अद्वितीय घटकों पर निर्भर करती है। साथ ही इसमें मौजूद पोषक तत्व हमारी अधिकाँश स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं के समाधान के लिए जरूरी हैं। आज के समय में स्वास्थ्य से जुड़ी समस्याओं का समाधान खोजना, जिनमें कैंसर और वजन कम करना जैसे चिंताओं का नाम सूची में सबसे ऊपर है, बहुत मुश्किल हो चुका है। इन परेशानियों को दूर करने वाले प्राकृतिक संसाधनों की खोज करना आज के समय की जरूरत है। दवाओं से बीमारी ठीक तो होती है परंतु दवा से होने वाले दुष्प्रभावों को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। इन दुष्प्रभावों से निपटने के लिए जहां तक हो सके प्राकृतिक संसाधनों की मदद लेनी चाहिए। आज हम आपको कटहल के बारे में बताएंगे जो मानव स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। इसे कुछ लोग ‘जैकफ्रूट’ के नाम से भी जानते हैं। यह आजकल तेजी से लोकप्रिय हो रहा है, क्योंकि इस फल पर हो रहे शोध और अध्ययन के माध्यम से यह बहुत फायदेमंद सिद्ध होता जा रहा है। यह दुनिया में सबसे बड़ा पेड़-जनित फल माना जाता है। जिसका औसत वजन 3.5 किलोग्राम से 10 किलोग्राम होता है और यह ज्यादा से ज्यादा 25 किलोग्राम तक पहुंच सकता है। पके होने के बाद कटहल स्वाद में मीठा होता है और इसमें एक विशिष्ट प्रकार की अच्छी गंध होती है। कई लोगों का यह कहना है कि यह खाने में यह केले और अनन्नास के मिले-जुले स्वाद के समान होता है।

कटहल के पेड़ का हर हिस्सा जैसे कि छाल, पत्तियां, जड़, फूलों और बीजों आदि सभी चिकित्सकीय रूप से फायदेमंद होते है। इन भागों में से प्रत्येक का अपना अलग विशिष्ट गुण होता है। कटहल का बड़ा होता पेड़ और फल अलग-अलग चरण पर एक दूसरे से भिन्न होते हुए विभिन्न चिकित्सीय गुण प्रदान करते हैं। इन सभी तथ्यों और कारणों के कारण कटहल एक स्वास्थ्यवर्धक फल मन जाता है जिसे सभी के आहार में शामिल होना चाहिए। कटहल के मुख्य पोषक तत्व और रासायनिक तथ्य जो इसे देखने के लिए आदर्श फल बनाते हैं वे इस प्रकार हैं –

  1. कटहल विटामिन सी, विटामिन ए, थियामिन (विटामिन बी 1), नियासिन, राइबोफ्लेविन (विटामिन बी 2), कैल्शियम, पोटेशियम (प्रति 100 ग्राम में पाए जाने वाले 303 मिलीग्राम के साथ), लोहा, जस्ता, सोडियम और फोलिक एसिड जैसे विभिन्न प्रकार के विटामिन से भरपूर होता है।
  2. यह बी-कॉम्प्लेक्स समूह के विटामिन के साथ-साथ विटामिन बी 6 से भरपूर कुछ फलों में से एक है।
  3. इसमें एंटी-कैंसर, एंटी-हाइपरटेंसिव, एंटी-अल्सर और एंटी-इंफ्लेमेटरी जैसे फाइटोन्यूट्रिएंट गुणों की भरमार होती है।
  4. यह फाइटोन्यूट्रिएंट्स और फिनोलिक्स का एक समृद्ध स्रोत कहा जाता है।
  5. इसमें खनिज, फाइबर, प्रोटीन अच्छी मात्रा में पाया जाता है, साथ ही यह वसा और खराब कोलेस्ट्रॉल से मुक्त होता है।
  6. यह जीवाणुरोधी और एंटीवायरल फल है जो इम्यूनिटी सिस्टम के लिए अच्छा होता है।
  7. इसमें कैलोरी की मात्रा काफी कम होती है। 100 ग्राम कटहल में केवल 94 कैलोरी पाई जाती है।
jackfruit

इस लेख में हम आपको कटहल से होने वाले 11 ऐसे फायदे बताएंगे जो चमत्कारी रूप से उपचार के रूप में कार्य करते हैं –

कैंसर के इलाज में लाभकारी

एंटी-ऑक्सीडेंट और फाइटोन्यूट्रिएंट गुणों के साथ समृद्ध होने के साथ इसमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा होती है जिसके कारण कटहल को फेफड़े के कैंसर, स्तन कैंसर, गैस्ट्रिक कैंसर, त्वचा कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर जैसे विभिन्न प्रकार के कैंसर इलाज के लिए भी लाभकारी माना जाता है। कटहल में मौजूद विशेष गुणों के कारण यह कोशिका क्षति का इलाज करने के साथ प्रतिरोध क्षमता को भी विकसित करते हैं।

वजन कम करने में मदद करता है

आज इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में लोगों को ठीक से खाने का समय भी नहीं मिलता, ऐसे में लोगों में बढ़ता मोटापा काफी चिंताजनक है। एक शोध के अनुसार दुनिया में मोटापे की दर दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कटहल वजन घटाने में मदद कर सकता है, क्योंकि इसमें वसा और कैलोरी की मात्रा कम होती है। जिसके कारण डाइट कर रहे लोग इसे आसानी से खा सकते हैं साथ ही इसमें मौजूद अन्य पोषक तत्व से पूरी तरह से लाभान्वित करतें हैं।

बढे हुए ब्लड प्रेशर को कम करता है

कटहल में मौजूद उच्च पोटेशियम की मात्रा ब्लड प्रेशर को ना सिर्फ कम करती है, बल्कि नियंत्रित करने में भी मदद करती है। जिसके परिणामस्वरूप दिल के दौरे, स्ट्रोक और हृदय संबंधी विकार की संभावना कम होती हैं। कटहल में मौजूद आयरन लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन के लिए आवश्यक होता है। साथ ही इसमें मौजूद तांबा एक खनिज है जो थायराइड ग्रंथि के लिए महत्वपूर्ण होता है।

jackfruit

पाचन में सुधार लाता है

फाइबर की उच्च मात्रा (प्रत्येक 100 ग्राम के लिए 3.6 ग्राम) के कारण इसे नियमित रूप से खाने पर यह पाचन तंत्र को बेहतर बनाने में योगदान देता है। यदि इसका सेवन भारी मात्रा में भी किया जाए तो भी इससे किसी भी प्रकार के पेट दर्द की या पेट से जुड़ी किसी अन्य समस्या के होने की संभावना नहीं होती। यह मल त्याग में भी सुधार लाता है। यह बड़ी आंत से कैंसर पैदा करने वाले रसायनों को निकालकर पाचन तंत्र की रक्षा करता है। साथ ही कटहल में मौजूद फाइबर की मात्रा होने के कारण यह कब्ज से भी बचाता है।

अनिद्रा को ठीक करने में मदद करता है

एक अच्छे दिन की शुरुआत के लिए अच्छी नींद का होना बहुत जरूरी है। कटहल खाने से स्लीपिंग डिसऑर्डर को ठीक किया जा सकता है। मैग्नीशियम और आयरन से भरपूर होने के कारण यह नींद की संपूर्ण गुणवत्ता को बेहतर बनाने में सहायक होता है। मैग्नीशियम, एनीमिया को रोकने में भी मदद करता है, जो कि अनिद्रा के प्रमुख कारणों में से एक है। कटहल मैं मौजूद कॉपर (तांबा) डिप्रेशन, चिंता और घबराहट के दौरों से बचने में भी मदद करता है।

मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद है

हालांकि स्वाद में बेहद मीठा होने के बावजूद भी कटहल का सेवन मधुमेह रोगियों के लिए सुरक्षित माना गया है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कटहल में मौजूद शर्करा धीरे-धीरे रक्तप्रवाह में अवशोषित होती है। इसी कारण मधुमेह के रोगियों को इसके सभी स्वास्थ्य लाभ सुरक्षित रूप से प्राप्त होते हैं। यह दोनों प्रकार (टाइप वन और टाइप टू) के मधुमेह रोगियों में ग्लूकोज के प्रति सेंसिटिविटी को भी बढ़ाता है।

jackfruit

त्वचा तथा आंखों के लिए लाभदायक

विटामिन ए की प्रचुरता के कारण, कटहल स्वस्थ दृष्टि को बनाए रखने के लिए अच्छा स्रोत है। “विटामिन ए” दृष्टि को बढ़ाने के साथ ही मोतियाबिंद और अंध पतन जैसी समस्याओं को कम करने में मदद करता है। साथ यह विटामिन ए को त्वचा की चमक के लिए एक सक्रिय एंटी-एजिंग घटक भी माना जाता है। विटामिन ए, सूरज के कारण त्वचा में हुई टैनिंग को भी कम करने में मदद करता है साथ ही झुर्रियों का इलाज भी करता है। चूंकि कटहल में “विटामिन ए” की प्रचुरता पाई जाती है, इसीलिए इसके नियमित उपयोग से आप अपनी आंखों, त्वचा, दांतों आदि की अच्छी देखभाल कर सकते हैं।

अल्सर को ठीक करने में सहायक होता है

अल्सर एक गंभीर बीमारी होती है इसके इलाज में प्रयोग होने वाली विशिष्ट दवाइयां कई प्रकार के दुष्प्रभाव शरीर पर छोड़तीं हैं। कटहल, अल्सर विकार का इलाज करने के सबसे अच्छे तरीकों में से एक है, क्योंकि इसमें मौजूद शक्तिशाली एंटी-अल्सरेटिव, एंटीसेप्टिक, एंटी-इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सिडेंट के गुणों की भरमार होती है।

इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है

कटहल स्वाभाविक रूप से जीवाणुरोधी है और शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूती देता है. इस के अन्दर मौजूद मिनरल और एंटीऑक्सीडेंट रोग-प्रतिरोधक क्षमता (इम्युनिटी) को मजबूत बनाते हैं. इस गुण कि वजह से यह बुजुर्गों, बच्चों और बीमार व्यक्तियों के लिए राम-बाण है.

हड्डियों में ताकत लाता है

स्वस्थ हड्डियों के लिए कैल्शियम की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। कटहल में कैल्शियम की अच्छी मात्रा पाई जाती है। इसीलिए कहा जाता है कि कटहल खाने से हड्डियां मजबूत होती हैं। इसके अलावा कटहल से न सिर्फ विटामिन सी बल्कि मैग्नीशियम भी प्रचुर मात्रा में मिलता है जो कैल्शियम के अवशोषण में सहायता करता है।

jackfruit

तंत्रिका तंत्र को मजबूत करता है

थियामाइन और नियासिन जैसे विटामिन की प्रचुर मात्रा होने के कारण कटहल का दैनिक आहार में सेवन करके आप तनाव, थकान जैसी गंभीर समस्याओं के साथ ही मांसपेशियों की कमजोरी का भी इलाज कर सकते हैं। (कटहल के 100 ग्राम गूदे से 4 भाग नियासिन प्राप्त होता है)। यह ऊर्जा का एक महत्वपूर्ण स्रोत भी होता है। यह तंत्रिका तंत्र को भी मजबूत करता है। कटहल में मौजूद पोषक तत्व आपके शरीर को बैक्टीरिया, वायरस और कवक जैसे सूक्ष्मजीवों से बचाने में मदद करते हैं। कटहल में मौजूद विटामिन सी आपके शरीर को एक मजबूत इम्यूनिटी सिस्टम बनाने में मदद करता है।

यह निश्चित रूप से कटहल के बारे में सब कुछ नहीं है, क्योंकि शोध अभी भी चल रहे हैं, जो कटहल के अद्वितिय गुणों की खोज कर रहे हैं। साथ ही तत्काल स्वास्थ्य मुद्दों के लिए भी कटहल की भूमिका अति महत्वपूर्ण है। इसका नियमित उपयोग आपके दैनिक जीवन में आने वाली कई समस्याओं का निदान कर सकता है।

Leave a Reply